अनुराग कश्यप, तापसी पन्नू के बचाव में उतरा विपक्ष, आयकर छापों को बताया केंद्र के ख़िलाफ़ बोलने की सज़ा

तेजस्वी यादव, अशोक चव्हाण, प्रियंका चतुर्वेदी, अबु आज़मी जैसे नेताओं से लेकर प्रशांत भूषण जैसे वरिष्ठ वकील और कई पत्रकारों ने अनुराग कश्यप और तापसी पन्नू को निशाना बनाए जाने का विरोध किया है

Updated: Mar 03, 2021, 08:06 PM IST

अनुराग कश्यप, तापसी पन्नू के बचाव में उतरा विपक्ष, आयकर छापों को बताया केंद्र के ख़िलाफ़ बोलने की सज़ा
Photo Courtesy: The Tribune

जानेमाने फिल्म डायरेक्टर अनुराग कश्यप और बॉलीवुड एक्ट्रेस तापसी पन्नू के घरों पर आयकर विभाग की छापेमारी के बाद कई विपक्षी नेता और एक्टिविस्ट उनके बचाव में सामने आए हैं। उनका कहना है कि अनुराग कश्यप और तापसी पन्नू को मोदी सरकार की नीतियों के खिलाफ बोलने की वजह से परेशान किया जा रहा है।  अनुराग कश्यप ने सोशल मीडिया पर कई बार मोदी सरकार की नीतियों की आलोचना की है। तापसी पन्नू ने भी किसान आंदोलन का समर्थन करते हुए मोदी सरकार की आलोचना कर चुकी हैं।

महाराष्ट्र के कैबिनेट मंत्री अशोक चव्हाण ने आरोप लगाया है कि केंद्र सरकार के इशारे पर फिल्मी हस्तियों के यहां आयकर का छापा मारा गया है। केंद्र सरकार बदले की भावना से कार्रवाई करवा रही है। महाराष्ट्र के एक अन्य मंत्री नवाब मलिक ने साफ तौर पर कहा है कि पिछले कई दिनों से अनुराग और तापसी केंद्र की बीजेपी सरकार की नीतियों के विरुद्ध बोल रह थे। केंद्र ने उन्हें दबाने के लिए यह कार्रवाई की है।

शिवसेना सांसद प्रियंका चतुर्वेदी ने केंद्र सरकार पर कटाक्ष करते हुए ट्वीट किया है कि उम्मीद है कि देश का इनकम टैक्स डिपार्टमेंट जल्द से जल्द बंधुआ गुलामी से मुक्त होगा। सांसद ने उम्मीद जताई है कि प्रवर्तन निदेशालय और सीबीआई को भी आजादी मिलेगी।


तापसी और अनुराग का समर्थन करते हुए समाजवादी पार्टी नेता अबू आजमी ने भी केंद्र सरकार को आड़े हाथों लिया है। उनका आरोप है कि जो लोग सरकार के तलवे चाट रहे हैं, वो आगे बढ़ रहे हैं और जो जनता के मुद्दे उठा रहे हैं, उन पर केस दर्ज हो रहे हैं।

आरजेडी नेता और बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने भी तापसी पन्नू और अनुराग कश्यप के खिलाफ आयकर की छापेमारी की कड़ी आलोचना की है। उन्होंने ट्विटर के जरिए की गई टिप्पणी में लिखा है, "पहले उन्होंने आईटी, सीबीआई, ईडी का इस्तेमाल करके अपने मुखर और सच्चे राजनीतिक विरोधियों पर छापेमारी करवाई और उनका चरित्र हनन करने का प्रयास किया। अब नाज़ी सरकार सामाजिक कार्यकर्ताओं, पत्रकारों और कलाकारों के पीछे पड़ी है। उन्हें डरा-धमकाकर सच बोलने से रोकने की कोशिश की जा रही है। बेहद निंदनीय!"

 

 

 

और पढ़ें: फ़िल्म अभिनेत्री तापसी पन्नू और निर्माता अनुराग कश्यप के यहां आयकर के छापे

देश के जाने-माने वकील और सोशल एक्टिविस्ट प्रशांत भूषण ने भी छापेमारी की कार्रवाई को असहमति की आवाजों को खामोश कराने की कोशिश बताया है। उन्होंने ट्विटर पर लिखा है, "फिल्ममेकर अनुराग कश्यप, एक्टर तापसी पन्नू के खिलाफ इनकम टैक्स डिपार्टमेंट का छापा। बीजेपी की 'ए टीम' उत्पीड़न करने, परेशान करने और उन लोगों को चुप कराने में जुट गई है, जो लाइन में नहीं हैं।" उन्होंने एक और ट्वीट में लिखा है, "अनुराग कश्यप और ताप्सी पन्नू ने अपने ट्विटर अकाउंट से सरकार के खिलाफ एक-दो ट्वीट क्या किये कि इनकम टैक्स विभाग उनका अकाउंट देखने पहुंच गया! इनकम टैक्स, एनफोर्समेंट विभाग, एन आई ए और पुलिस इस सरकार की ए टीम है।"

कई जाने-माने पत्रकार भी इस घटना पर जमकर कमेंट कर रहे हैं। पत्रकार रोहिणी सिंह ने कंगना का नाम लिए बिना लिखा है, "किसानों को आतंकी बताने वाली एक्ट्रेस को Y प्लस सिक्योरिटी और किसानों के हक में आवाज उठाने वाली एक्ट्रेस के यहां आयकर का छापा। अच्छे दिन आ गए मित्रों।"

अनुराग कश्यप और तापसी पन्नू के अलावा फैंटम फिल्म्स से जुड़े विकास बहल और मधु मंटेना के यहाँ भी छापेमारी की गई है। आयकर विभाग की इस छापेमारी को अब बंद हो चुकी कंपनी फैंटम फिल्म्स पर लगे आमदनी छिपाने के कथित आरोपों से जोड़ा जा रहा है। हालांकि इस बारे में अब तक आधिकारिक तौर पर कोई जानकारी सामने नहीं आई है।