देश के नाम पीएम मोदी का संबोधन, बोले- लॉकडाउन है आखिरी विकल्प

पीएम मोदी में लोगों अपील किया की वे बेहद जरूरी होने पर ही बाहर निकलें और कोरोना प्रोटोकॉल का पालन करें, इस दौरान उन्होंने लॉकडाउन को अंतिम विकल्प बताया

Publish: Apr 21, 2021, 08:43 AM IST

देश के नाम पीएम मोदी का संबोधन, बोले- लॉकडाउन है आखिरी विकल्प
Photo Courtesy: NDTV

नई दिल्ली। भारत में कोरोना के लगातार बढ़ते भयावहता के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार रात 8.45 बजे देश को संबोधित किया। पीएम ने इस दौरान आर्थिक गतिविधियों को जारी रखते हुए महामारी को नियंत्रित करने पर जोर दिया। पीएम मोदी ने कहा की लॉकडाउन लागू करना आखिरी विकल्प है। उन्होंने देशवासियों से सभी कोरोना गाइडलाइंस का सख्ती से पालन करने की अपील की।

पीएम मोदी ने कहा, 'कोरोना की दूसरी लहर बेहद खतरनाक है। यह तूफान बनकर आई है। इन चुनौतियों का मिलकर सामना करना है। जो पीड़ा आपने सही है, जो आप सह रहे हैं, उसका मुझे पूरा अहसास है। जिन लोगों ने बीते दिनों में अपनों को खोया है, मैं सभी देशवासियों की तरफ से संवेदनाएं प्रकट करता हूं। मैं आपके दुख में शामिल हूं। यह चुनौती काफी बड़ी है और इसे हौसले और तैयारी से निपटना है। हमारे शास्त्रों में कहा गया है- त्याज्यं न धैर्यं विधुरेऽपि काले। कठिन से कठिन समय में भी हमें धैर्य नहीं खोना चाहिए।'

देश को लॉकडाउन से बचाना है- मोदी

पीएम मोदी ने इस दौरान राज्य सरकारों से अपील किया कि वे सख्त लॉकडाउन जैसे कदम न उठाएं। उन्होंने कहा, 'आज  की स्थिति में हमें देश को लॉकडाउन से बचाना है। मैं राज्यों से कहूंगा कि वह लॉकडाउन को आखिरी विकल्प के तौर पर ही देखें। लॉकडाउन से हमें बचने की भरपूर कोशिश करनी है। राज्य सरकारें माइक्रो कंटेनमेंट जोन पर ज्यादा ध्यान दें। युवा साथियों से अनुरोध है कि अपने मोहल्ले में कमेटियां बनाकर कोविड-19 अनुशासन लागू करवाने में मदद करें। लोग खुद अनुशासन में रहेंगे तो लॉकडाउन लगाने की नौबत ही नहीं आएगी।'

बाल मित्रों से की खास अपील

प्रधानमंत्री ने देश के बच्चों को बाल मित्रों के रूप में संबोधित करते हुए उनसे खास अपील की है। प्रधानमंत्री ने कहा, 'मैं अपने बाल मित्रों से एक बात विशेष तौर पर कहना चाहता हूं। मेरे बाल मित्र, घर में ऐसा माहौल बनाएं कि बिना काम, बिना कारण घर के लोग, घर से बाहर न निकलें। आपकी जिद बहुत बड़ा परिणाम ला सकती है। स्वच्छता अभियान के दौरान बाल मित्रों ने अहम योगदान दिया है। उन्होंने घर के सभी बड़ों को स्वच्छता के किए जागरूक किया था। आज एक बार फिर देश को उनकी जरूरत है।'

रमजान और नवरात्र का जिक्र

मोदी ने इस दौरान हिंदुओं का त्योहार नवरात्र और मुसलमानों का त्योहार रमजान का भी जिक्र किया। इस दौरान उन्होंने कहा, 'कल नवरात्रि का आखिरी दिन है। इस रामनवमी पर हमें मर्यादा पुरुषोत्तम श्रीराम से मर्यादाओं का पाठ पढ़ने की जरूरत है। रमज़ान के पवित्र महीने का भी आज सातवां दिन है। रमज़ान हमें धैर्य, आत्मसंयम और अनुशासन की सीख देता है। कोरोना के खिलाफ जंग जीतने के लिए अनुशासन की भी उतनी ही ज़रूरत है।'