ग्रीन पास पर यूनियन के देश अपने स्तर पर ले सकते हैं फैसला, कोविशील्ड वैक्सीन लगवाने वालों का प्रवेश रोकने पर EU ने दी प्रतिक्रिया

यूरोपियन यूनियन के एक अधिकारी ने कहा कि यूरोपीय मेडिसिन एजेंसी केवल उन टीकों की जांच करता है, जो कंपनियां एजेंसी से ऐसा करने के लिए अनुरोध करती हैं, हालांकि यूनियन ने अब साफ़ कर दिया है कि संघ के देश अपने स्तर पर उन टीकों को अप्रूवल दे सकते हैं, जिन्हें WHO द्वारा मान्यता प्राप्त है

Updated: Jun 29, 2021, 06:38 PM IST

ग्रीन पास पर यूनियन के देश अपने स्तर पर ले सकते हैं फैसला, कोविशील्ड वैक्सीन लगवाने वालों का प्रवेश रोकने पर EU ने दी प्रतिक्रिया
Photo Courtesy : The Financial Express

नई दिल्ली। कोविशील्ड वैक्सीन लगवाने वाले लोगों के यूरोपीय देशों की यात्रा में रुकावट आने वाली खबरों के बीच यूरोपियन यूनियन ने प्रतिक्रिया दी है। यूरोपीय संघ ने कहा है कि यूनियन के देशों को अपने स्तर पर फैसला लेने की पूरी अनुमति है। मसलन, यूनियन के देश अपने स्तर पर कोविशील्ड सहित टीका लगवाने वाले उन लोगों की यात्रा का आवेदन स्वीकार कर सकते हैं, जिनके लगाए गए टीकों को विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा मान्यता प्राप्त है। 

हालांकि यूरोपीय मेडिसिंस एजेंसी ने अब तक फाइजर के कोमिरनैटी, मॉडर्ना, ऑक्सफ़ोर्ड की वैक्सजेरवीरिया और जॉनसन्स एंड जॉनसन्स के टीके लगवाने वाले लोगों को ही यूरोप में यात्रा करने की अनुमति दी है। इस मसले पर यूरोपियन यूनियन के अधिकारी ने कहा कि EMA केवल उन्हीं टीकों की जांच करती है, जिनको बनाने वाली कंपनियों की ओर से अनुरोध किया जाता है। अधिकारी ने कहा कि EMA खुद से टीकों की जांच नहीं करती। यूनियन के अधिकारी ने कहा कि अब तक कोवीशिल्ड बनाने वाली कंपनी की ओर से यूनियन को आवश्यक मंज़ूरी के लिए आवेदन नहीं मिला है। आवदेन मिलते ही यूनियन इस पर फैसला लेगा। तब तक यूनियन के देश अपने स्तर पर फैसला लेने के लिए स्वतन्त्र हैं।

यह भी पढ़ें अदार पूनावाला का आश्वासन, नियामकों और राजनयिक स्तर पर हल होगा कोविशील्ड टीके को मान्यता का मसला 

यूरोपियन यूनियन की इस टिप्पणी के बाद अब भारत में कोवीशिल्ड वैक्सीन लगवाने वाले लोगों का यूरोपीय देशों में यात्रा करने की राह आसान हो जाएगी। कोविशील्ड को लेकर हाल ही में यह खबर आई थी कि यूरोपियन यूनियन कोविशील्ड वैक्सीन लगवाने वाले लोगों को यूरोप में यात्रा करने की अनुमति नहीं दे रहा है। ऐसी ख़बरों के बीच सीरम इंस्टीट्यूट के सीईओ अदार पूनावाला ने यह आश्वासन दिया था कि जल्द ही इस समस्या को सुलझा लिया जाएगा।  पूनावाला ने कहा था कि इस मामले को जल्द ही राजनयिक स्तर पर सुलझा लिया जाएगा।