हम श्रीलंका की जनता के साथ खड़े हैं, पड़ोसी देश में मचे हाहाकार के बीच भारत की प्रतिक्रिया

भारतीय विदेश मंत्रालय ने साफ कहा है कि हम श्रीलंकाई जनता के साथ खड़े हैं, आप लोकतांत्रिक तरीकों से अपनी आकांक्षाओं को साकार करें

Updated: Jul 10, 2022, 07:05 PM IST

हम श्रीलंका की जनता के साथ खड़े हैं, पड़ोसी देश में मचे हाहाकार के बीच भारत की प्रतिक्रिया

नई दिल्ली। श्रीलंका में बवाल को लेकर भारतीय विदेश मंत्रालय ने रविवार को अपना बयान जारी किया है।।विदेश मंत्रालय ने साफ कहा है कि भारत श्रीलंका की जनता के साथ खड़ा है। साथ ही भारत ने श्रीलंका के लोगों  से कहा है कि वे लोकतांत्रिक तरीकों से अपनी आकांक्षाओं को साकार करें।

विदेश मंत्रालय की ओर से कहा गया है कि श्रीलंका हमारी नेबरहुड फर्स्ट नीति में केंद्रीय स्थान रखता है, इसलिए भारत ने इस वर्ष 3.8 अरब अमेरिकी डॉलर का अभूतपूर्व समर्थन श्रीलंका को दिया है। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने श्रीलंका की स्थिति पर कहा कि हम श्रीलंका की चुनौतियों से वाकिफ हैं जिनका श्रीलंका और उसके लोग सामना कर रहे हैं।

उधर, श्रीलंका में राष्ट्रपति आवास पर कब्जा कर लेने वाले लोगों का दावा है कि उन्हें भवन में लाखों रुपये मिले हैं। रविवार को एक मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक ऐसी खबरें आई हैं। सोशल मीडिया पर एक वीडियो शेयर किया जा रहा है, जिसमें प्रदर्शनकारी जमीन पर बैठकर करेंसी नोट की कई गड्डियां गिन रहे हैं।

डेली मिरर न्यूजपेपर ने बताया कि कहा जा रहा है कि बरामद किए गए रुपये सुरक्षाबलों को सौंप दिए गए। रिपोर्ट के मुताबिक, प्रशासन ने जानकारी दी है कि वो सभी तथ्यों की समीक्षा करके ग्राउंड पर हालात के बारे में अवगत कराएंगे।

यह भी पढ़ें: श्रीलंका में राष्ट्रपति भवन पर जनता का कब्जा, हालात नियंत्रण से बाहर, जान बचाकर भागे राष्ट्रपति गोटबाया

इसके अलावा, राष्ट्रपति आवास में एक हाई-सिक्योरिटी वाला हाई-सिक्योरिटी बंकर भी मिलने की बात सामने आ रही है। शनिवार को राष्ट्रपति आवास में घुसने के बाद से ही प्रदर्शनकारियों का वहां कब्जा है। ऐसी रिपोर्ट आ रही हैं कि उन्होंने पूरे भवन का चप्पा-चप्पा छान मारा है और पूरे परिसर में घूम रहे हैं। 

शनिवार को ऐसी तस्वीरें भी सामने आई थीं, जिसमें प्रदर्शनकारी भवन के स्विमिंग पूल में कूदते और तैरते नजर आए। वहीं, आवास के किचन से वीडियो सामने आया, जिसमें बड़ी भीड़ जमा थी और लोग उसी में खाना बना रहे थे। कुछ उनके लाउंजिंग रूम में नजर आए तो कुछ बेडरूम तक में घुस गए। कुछ लोग राष्ट्रपति भवन में टीवी खोलकर अपने प्रदर्शन की खबरें भी देख रहे थे।

प्रदर्शनकारियों ने शनिवार रात प्रधानमंत्री रानिल विक्रमसिंघे के आवास को आग के हवाले कर दिया था। जनता का आक्रोश देखते हुए पीएम विक्रम सिंघे इस्तीफा भी दे चुके हैं। वहीं संसद के स्पीकर ने कहा है कि 13 जुलाई को राष्ट्रपति राजपक्षे भी इस्तीफा देंगे। फिलहाल राजपक्षे कहां छिपे हैं इस बात की जानकारी नहीं मिल सकी है।