लुटेरी दुल्हन गैंग के 3 सदस्य गिरफ्तार, दलाल की तलाश में जुटी इंदौर पुलिस

शादी के 3 दिन बाद ससुराल से कैश और कीमती जेवर लेकर फरार दुल्हन, शादीशुदा होते हुए भी की शादी, फर्जी नामों से लोगों को देती थी चकमा

Publish: Jan 08, 2022, 01:09 PM IST

लुटेरी दुल्हन गैंग के 3 सदस्य गिरफ्तार,  दलाल की तलाश में जुटी इंदौर पुलिस
Photo Courtesy: Bhaskar

इंदौर। पुलिस ने फिल्मी तर्ज पर लोगों को लूटने वाली लुटेरी दुल्हन गैंग का खुलासा किया है। इस गिरोह में 4 लोग शामिल थे, जिनमें से 3 महिलाएं और एक पुरुष है। पुलिस ने तीनों महिलाओं को गिरफ्तार कर लिया है, फरार दलाल की तलाश जारी है। आरोपी नाम बदलकर लड़कों को फंसाते थे। जब शादी हो जाती तो ससुराल से कैश और सोने-चांदी के कीमती गहने समेत सामान समेट कर फरार हो जाती थी। दलाल ऐसे लोगों को अपने झांसे में लेता था जिन लड़कों की उम्र ज्यादा होने की वजह से शादी नहीं हो पाती थी। वहीं तीनों औरतें कभी बहन, मां और भाभी बनकर युवती की शादी में शामिल होती थीं। पुलिस इनके झांसे में आए अन्य लोगों का भी पता लगाने में जुटी है।

इंदौर के सेंट्रल कोतवाली थाना पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार रवि नाम के शख्स ने अपने साथ हुई धोखाधड़ी का मामला दर्ज करवाया था। फरियादी का कहना है कि मनोज नाम के शख्स की मदद से उसकी शादी हवा बंगला निवासी युवती से तय हुई थी। मनोज ने मंजू से मिलवाया फिर उसने रेशमा नामक युवती से शादी की बात चलाई। रेशमा और रवि ने एक दूसरे को पंसद कर लिया।

फरियादी की मानें तो शादी के लिए लड़की वालों की तरफ से 90 हजार रुपए में बात पक्की हुई थी। फरियादी ने 75 हजार रुपए महिला को दिए। जिसके बाद रवि और रेशमा की शादी हफ्तेभर के भीतर ही हो गई। लेकिन शादी के तीसरे दिन बाद ही उसकी दुल्हन रेशमा ससुराल से सारा सामान लेकर भाग गई। दूल्हा रेशमा को खोजने उसके घर पर भी गया, लेकिन घर का पता भी फर्जी निकला। कई बार फोन भी लगाया, लेकिन लाख कोशिशों के बाद भी उसका पता नहीं चला। आखिरकार रवि ने पुलिस में शिकायत की। पुलिस ने मोबाइल लोकेशन के आधार पर लुटेरी दुल्हन रेशमा गिरफ्तार कर लिया है।

और पढ़ें: केरल के राज्यपाल आरिफ मोहम्मद खान ने महाकाल मंदिर में टेका माथा, विधि विधान से किया पूजन

रेशमा की निशानदेही पर पुलिस ने पूजा और मंजू को गिरफ्तार किया है। ये दोनों दुल्हन की मां और बहन बनकर लूट में मदद करती थी। दुल्हन बनी रेशमा का असली नाम राधिका राव है। पुलिस इस गैंग के मास्टर माइंड देवास निवासी मनोज को खोजने में जुटी है। पुलिस को अंदेशा है कि आरोपियों ने कई और लोगों को इसी तरह झांसे में लेकर फंसाया होगा।