प्रशासन ने नीमच के सुवाखेड़ा में फर्शी पत्थर खदान का काम किया शुरू, दिग्विजय सिंह ने लिखा था मुख्यमंत्री को पत्र

कोरोना काल में बिक्री कम होने के कारण सहकारी समिति, खनिज विभाग को समय पर जरूरी भाटक जमा नहीं कर सकी थी और खनिज विभाग ने ई पोर्टल पर समिति का नाम ब्लॉक कर दिया था

Updated: May 13, 2022, 06:39 PM IST

प्रशासन ने नीमच के सुवाखेड़ा में फर्शी पत्थर खदान का काम किया शुरू, दिग्विजय सिंह ने लिखा था मुख्यमंत्री को पत्र

नीमच। नीमच जिले की जावद तहसील के ग्राम सुवाखेड़ा में स्थित खनिज फर्शी पत्थर खदान शुरू हो गई है। जिसका संचालन इंदिरा श्रमिक सहकारी समिति करती है। खदान शुरू होने से ग्राम सुवाखेड़ा, कुण्डला, खेड़ा राठौर सहित आसपास के अंचल में रहने वाले गरीब मजदूर परिवारों की रोजीरोटी का संकट खत्म होगा।

यह भी पढ़ें: राजधानी भोपाल में कई स्कूलों को मिली बम से उड़ाने की धमकी, मचा हड़कंप

पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को पत्र लिखकर ग्राम सुवाखेड़ा की खदान शुरू करने की मांग की थी, जिसे प्रशासन ने मान लिया। दिग्विजय ने ट्वीट किया कि "मजदूर एकता जिंदाबाद  मध्यप्रदेश शासन को मजदूरों की मांग मान लेने की लिए धन्यवाद।"

 

गौरतलब है कि कुछ समय पहले दिग्विजय जनजागरण अभियान के अंतर्गत जावद विधानसभा पहुंचे थे। उन्होंने ग्राम सुवाखेड़ा में इंदिरा पत्थर श्रमिक सहकारी समिति द्वारा आयोजित जनसंवाद कार्यक्रम में भाग लिया और खदान क्षेत्र का दौरा भी किया था।

यह भी पढ़ें: 2018-19 में 51000 सरकारी स्कूल हुए बंद, दिग्विजय सिंह ने कहा- बताएँ, भाजपा गरीब विरोधी है या नहीं?

दिग्विजय सिंह ने मुख्यमंत्री को लिखे अपने पत्र में उल्लेख किया था कि "मेरे मुख्यमंत्री कार्यकाल के दौरान वर्ष 1998 में सुवाखेड़ा क्षेत्र के मजदूरों को रोजगार उपलब्ध कराने के उद्देश्य से 117 हेक्टेयर जमीन फर्शी पत्थर उत्खनन के लिए इंदिरा पत्थर श्रमिक सहकारी समिति को आवंटित की गई थी। श्रमिक वर्ग में सहकारिता की भावना के अनुरूप स्वतः खदान चलाने के लिए पहले सहकारी समिति गठित कराई गई, फिर 25 साल के लिए 117 हेक्टेयर जमीन आवंटित की गई थी।

दरअसल कोरोना काल में बिक्री कम होने के कारण सहकारी समिति, खनिज विभाग को समय पर जरूरी भाटक जमा नहीं कर सकी थी और खनिज विभाग ने ई पोर्टल पर समिति का नाम ब्लॉक कर दिया था।
खदान शुरू होने से ग्रामीणों में प्रसन्नता हैं और सभी ग्रामीणों ने दिग्विजय सिंह का आभार व्यक्त किया है।

यह भी पढ़ें: मध्य प्रदेश लागू करने जा रहा है नई स्टार्टअप नीति, पीएम मोदी करेंगे शुभारंभ, युवा होंगे लाभांवित

एक विकास सिंह यादव नाम के व्यक्ति ने सोशल मीडिया पर लिखा कि "इंदिरा श्रमिक सहकारी समिति नीमच ग्राम सुवाखेड़ा में मध्यप्रदेश शासन द्वारा लंबे समय से रॉयल्टी वसूली का कार्य संस्था से लेकर हजारों मजदूरों को बेरोजगार कर दिया था, मुख्यमंत्री व सब जनप्रतिनिधियों को काफी बार ज्ञापन दिया गया, लेकिन कोई कार्यवाही नहीं हुई"

"बीते दिनों पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह उनके बीच पहुंचे और उसका सुखद परिणाम आज यहां आया कि वहां रॉयल्टी चालू हो गई और सभी मजदूरों को रोजगार मिलना प्रारंभ हो गया। आदरणीय दिग्विजय सिंह जी राजा साहब का बहुत-बहुत आभार।"