अरुण यादव ने चिंतन शिविर के लिए मांगे सुझाव, किसानों के मुद्दे पर रिपोर्ट बनाने की मिली है जिम्मेदारी

कांग्रेस द्वारा उदयपुर में आयोजित तीन दिवसीय चिंतन शिविर में शामिल होंगे अरुण यादव, सोनिया गांधी ने अरुण यादव को किसान एवं कृषि उत्थान के लिए गठित कमेटी का बनाया है मेंबर

Updated: Apr 28, 2022, 01:04 PM IST

अरुण यादव ने चिंतन शिविर के लिए मांगे सुझाव, किसानों के मुद्दे पर रिपोर्ट बनाने की मिली है जिम्मेदारी

भोपाल। मध्य प्रदेश कांग्रेस के दिग्गज नेता अरुण यादव ने चिंतन शिविर के लिए लोगों से सुझाव मांगे हैं। पूर्व केंद्रीय मंत्री ने माइक्रोब्लॉगिंग साइट ट्विटर के जरिए लोगों से अपील की है कि कृषि मुद्दों पर चिंतन शिविर में पेश होने वाली रिपोर्ट बनाने के लिए अपने सुझाव उन्हें मेल अथवा वॉट्सएप के जरिए भेजें।

अरुण यादव ने ट्वीट किया, 'आपके अमूल्य सुझाव आमंत्रित है। "कांग्रेस चिंतन" शिविर में "किसान एवं कृषि के उत्थान" हेतु अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी द्वारा बनाई गई समिति में सामायिक सुझाव दिए जाने मुझे भी दायित्व सौंपा गया है। लिहाज़ा, मैं आप सभी कृषि विशेषज्ञों, प्रगतिशील किसानों, आमजनों से कृषि से जुड़े मुद्दों पर सुझाव चाहता हूँ। आप अपने सुझाव निम्नलिखित मेल आईडी एवं व्हाट्सएप पर 7 मई 2022 तक भेज सकते है।' 

 

बता दें कि राजस्थान के जयपुर में 13 से 15 तक कांग्रेस ने राष्ट्रीय चिंतन शिविर आयोजित किया है। इस दौरान सभी मुद्दों पर गहन चर्चा के लिए 6 समितियां गठित की गई है। किसान और खेती के मुद्दे पर मंथन के लिए कांग्रेस अध्यक्ष ने जिस 9 सदस्यीय कमेटी गठित किया है उसके कन्वेनर हरियाणा के पूर्व सीएम भूपेंद्र सिंह हुड्डा हैं। जबकि अरुण यादव को भी इस कमेटी में शामिल किया गया है।

यह भी पढ़ें: उदयपुर में 13 से 15 मई तक कांग्रेस का चिंतन शिविर, किसानों के मुद्दे पर रिपोर्ट बनाने के लिए कमेटी गठित

यह कमेटी कृषि संबंधित मुद्दे पर विस्तृत रिपोर्ट सौंपेगी और चिंतन शिविर के दौरान विमर्श का नेतृत्व करेगी। कमेटी के अन्य सदस्यों में छत्तीसगढ़ के स्वास्थ्य मंत्री टी एस सिंहदेव, गुजरात कांग्रेस के नेता व राज्यसभा सांसद शक्ति सिंह गोहिल, महाराष्ट्र कांग्रेस अध्यक्ष नाना पटोले, पंजाब में नेता प्रतिपक्ष प्रताप सिंह बाजवा, यूपी कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष अजय लल्लू, अखिलेश प्रताप सिंह और गीता कोरा का नाम शामिल है।