होमगार्ड पुष्पराज के शव मिलने से पहले हुई थी अस्पताल के शौचालय की सफाई, होमगार्ड मौत मामले में जेपी अस्पताल की बड़ी लापरवाही

सफाई के रिकॉर्ड्स बुक में सोमवार को शौचालय की सफाई दर्ज है, पुष्पराज के गायब होने के बाद मेटर्न ने अस्पताल की नर्सों को शौचालय में देखने के लिए कहा था, अब ये दोनों चीजें पूरे मामले में गुत्थी बन गई हैं

Updated: Mar 28, 2021, 08:40 AM IST

होमगार्ड पुष्पराज के शव मिलने से पहले हुई थी अस्पताल के शौचालय की सफाई, होमगार्ड मौत मामले में जेपी अस्पताल की बड़ी लापरवाही
Photo Courtesy: Freepress journal

भोपाल। हाल ही में कोरोना वैक्सीन लगाए जाने के बाद ज़िन्दगी गंवाने वाले होमगार्ड पुष्पराज की संदिग्ध मौत में गंभीर लापरवाही सामने आ रही है। पुष्पराज की मौत के बाद गठित जयप्रकाश अस्पताल की दस सदस्यीय कमेटी की जांच एक के बाद एक खुलासे हो रहे हैं। दरअसल जिस शौचालय में पुष्पराज का शव मिला है, इसी शौचालय की पहले सफाई हुई थी। इतना ही नहीं पुष्पराज के गायब होने के बाद उसकी खोज में शौचालय को देखा भी गया था। 

ये खुलासे जांच कमेटी की जांच के दौरान हो रहे हैं। मामले की तह तक जाने के लिए जांच समिति लोगों के बयान ले रही है। पुष्पराज की मौत से पहले आखिरी बार शौचालय की सफाई कब हुई थी? जांच कमेटी ने जब इस चीज़ की जानकारी लेना चाही तब पता चला कि सोमवार को शौचालय की सफाई की गई थी। हालांकि इस पर सुपरवाइजर का कहना है कि उसने बिना शौचालय देखे ही साफ सफाई की बात रिकॉर्ड बुक पर दर्ज़ कर दी।

उधर जांच के दौरान दूसरा संदिग्ध सवाल पुष्पराज के गायब होने के बाद शौचालय को देखे जाने को लेकर भी खड़ा हो गया है। जांच समिति को पर चला कि पुष्पराज के गायब होने के बाद वार्ड मेटर्न ने दो नर्सों को शौचालय का निरीक्षण कर लेने के लिए कहा था। इसके बाद मेटर्न ने सर्जन को बताया था कि शौचालय में कोई नहीं है। बाद में जांच कमेटी को बताया गया कि वे लोग भी पुष्पराज को शौचालय में ढूंढने गए ही नहीं थे। 

यह भी पढ़ेंभोपाल: कोरोना की वैक्सीन लगाने के बाद होमगार्ड की मौत, परिजनों को हत्या की आशंका

दरअसल बीते हफ्ते होमगार्ड पुष्पराज गौतम ने कोरोना की वैक्सीन लगाई थी। वैक्सीन लगाने के कुछ ही दिनों में होमगार्ड की तबियत अचानक खराब हो गई। पुष्पराज को अस्पताल में भर्ती किया गया। लेकिन पुष्पराज अचानक अपने वार्ड से गायब हो गया। परिजनों ने पुष्पराज की गुमशुदगी की रिपोर्ट पुलिस थाने में दर्ज कराई। उधर अस्पताल पुष्पराज के अस्पताल में होने वाली बात पर साफ तौर पर इनकार करता रहा। लेकिन अचानक ही मंगलवार शाम को अस्पताल के शौचालय में पुष्पराज को शव मिला। 

पुष्पराज के परिजनों को आशंका है कि पुष्पराज की हत्या की गई है। वहीं गंभीर लापरवाही बरतने वाले अस्पताल प्रबंधन ने तीन कर्मचारियों को निलंबित कर दिया है। लेकिन पुष्पराज के परिजन अस्पताल की जांच कमेटी से नाखुश हैं। परिजनों का कहना है कि अस्पताल प्रबंधन पर ही लापरवाही बरतने के आरोप हैं और जांच भी अस्पताल के ही लोग कर रहे हैं।