मुरैना उपचुनाव: बीजेपी आईटी सेल के आशीष कुलश्रेष्ठ ने सोशल मीडिया पर बांटा अपना दर्द

MP By Elections: आशीष कुलश्रेष्ठ के सोशल मीडिया संदेश पर बीजेपी जिलाध्यक्ष ने उनके खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई करने की चेतावनी दी है

Updated: Oct-28, 2020, 11:21 AM IST

मुरैना उपचुनाव: बीजेपी आईटी सेल के आशीष कुलश्रेष्ठ ने सोशल मीडिया पर बांटा अपना दर्द
Photo Courtesy: FB Account

मुरैना/भोपाल। बीजेपी के मुरैना के आईटी सेल के अध्यक्ष आशीष कुलश्रेष्ठ क्षेत्र में बीजेपी के खिलाफ ही अभियान चला रहे हैं। कांग्रेस से बीजेपी में शामिल हुए बागी नेताओं के खिलाफ आशीष कुलश्रेष्ठ अपनी नाराज़गी खुल कर ज़ाहिर कर रहे हैं। आशीष कुलश्रेष्ठ ने अपने फेसबुक वॉल पर एक के बाद एक लगातार तीन पोस्ट किए हैं, जिसमें वे बागी नेताओं के खिलाफ आग उगलते नज़र आ रहे हैं। 

आशीष कुलश्रेष्ठ ने अलग से बीजेपी नेताओं का एक व्हाट्सएप ग्रुप भी बनाया है। ज़ाहिर है क्षेत्र में कई ऐसे बीजेपी नेता हैं जो कांग्रेस के बागियों से न सिर्फ नाराज़ चल रहे हैं बल्कि उपचुनाव में कांग्रेस के बागी प्रत्याशियों के खिलाफ काम भी कर रहे हैं। 

और पढ़ें: Rahul Lodhi: दलबदलू राहुल लोधी का विरोध शुरू, दमोह में पोस्टर पर पोती गई कालिख

केन्द्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर के करीबी माने जाने वाले आशीष कुलश्रेष्ठ ने अपने एक फेसबुक पोस्ट में लिखा 'जहां गद्दारों की पूजा की जाती हो, वो वीरभूमि कैसे हो सकती है? आखिर दशहरे की शुभकामनाएं किसे दूं ?' अपने एक अन्य पोस्ट में कुलश्रेष्ठ ने लिखा 'आयतित आइटम सोच रहे होंगे कि उन्होंने संगठन को खरीद लिया।' इसके बाद आशीष कुलश्रेष्ठ ने भाजपा स्वाभिमान मंच नाम से एक व्हाट्सएप ग्रुप भी बनाया है। जिसमें कुलश्रेष्ठ ने बीजेपी के नेताओं से जुड़ने की अपील की है। 

कुलश्रेष्ठ अपना रवैया सुधारें, अन्यथा अनुशासनात्मक कार्रवाई होगी : बीजेपी जिलाध्यक्ष 

मुरैना के बीजेपी जिलाध्यक्ष योगेश पाल गुप्ता का कहना है कि अगर कुछ ऐसा घटित हो रहा है तो उनसे ( आशीष कुलश्रेष्ठ ) बात की जाएगी। योगेश गुप्ता ने कहा कि अगर बातचीत करने के बाद भी आशीष कुलश्रेष्ठ का रवैया नहीं सुधरता है तो उनके खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई की जाएगी। 

उधर आशीष कुलश्रेष्ठ का कहना है कि मैं पार्टी के मूल सिद्घांतों को अपने ही लोगों को याद दिला रहा हूं। जो उधार पद पर बैठा है, संगठन उसका नहीं है। संगठन कार्यकर्ताओं का है। हम तो मोदीजी को भी पत्र लिख रहे हैं और पूछेंगे कि ऐसी क्या मजबूरी है जो सिद्दांतों के विपरीत काम हो रहा है।