रात को रेस्तराँ पर हुई तलवारबाज़ी, भोपाल में खुलेआम गुंडई में एक व्यक्ति घायल, कई गाड़ियों को नुक़सान

भोपाल के शाहपुरा थाना क्षेत्र में भरत नगर स्थित रेस्तरां पर हुई वारदात, दो पक्षों में किसी मामूली बात को लेकर हुआ था विवाद, एक पक्ष के लोगों ने तलवार से कर दिया हमला, गाड़ी के साथ तोड़फोड़ कर हुए फरार, पुलिस पर आरोपियों के खिलाफ मामूली धाराएं दर्ज करने का आरोप

Updated: Jan 09, 2022, 06:23 PM IST

रात को रेस्तराँ पर हुई तलवारबाज़ी, भोपाल में खुलेआम गुंडई में एक व्यक्ति घायल, कई गाड़ियों को नुक़सान
Photo Courtesy: twitter

भोपाल। मध्य प्रदेश में लचर होती कानून व्यवस्था का एक और उदाहरण राजधानी भोपाल में देखने को मिला है। बीती रात भोपाल में करीब आधा दर्जन बदमाशों ने खुलेआम तलवारबाजी की। इस दौरान कई गाड़ियों में तोड़फोड़ की गयी, एक व्यक्ति घायल हो गया जबकि दूसरा किसी तरह अपनी जान बचा सका। घायल व्यक्ति का अस्पताल में इलाज चल रहा है। खबर है कि यह हमला हॉर्न बजाने को लेकर हुआ। लेकिन पुलिस का रवैय्या लोगों को परेशान कर रहा है। 

यह वारदात राजधानी के शाहपुरा थाना क्षेत्र में भरत नगर स्थित एक रेस्तरां के पास हुई। रिपोर्ट्स के मुताबिक हॉर्न बजाने को लेकर दो पक्षों में विवाद हो गया था। जिसके बाद एक पक्ष के लोग सबक सिखाने के इरादे से हाथों में तलवार लिए आयकर कॉलोनी स्थित राहुल नामदेव के रेस्तरां पहुंच गए। उस वक्त पीड़ित पक्ष रेस्तरां में खाना पैक करवा रहा था। 

रेस्तरां में दाखिल होते ही बदमाशों ने तलवारबाजी शुरू कर दी। अचानक तलवारबाजी होता देख रेस्तरां मालिक ने दरवाजा बंद कर दिया। लेकिन उपद्रवियों ने इसके बाद भी हुडदंग मचाना जारी रखा। बदमाशों ने पीड़ित पक्ष की कार पर भी तलवार से हमला कर दिया। जिस वजह से गाड़ी क्षतिग्रस्त हो गई। करीब आधे घंटे तक हुडदंग मचाने के बाद बदमाश मौके से फरार हो गए।

यह भी पढ़ें : कर्फ्यू में क्रिकेट खेलने पर यूज़र को दिल्ली पुलिस का मज़ाक़िया जवाब, तुम गेंदें उड़ाओ, हम कैच के माहिर हैं

तलवार से हुए हमले में एक व्यक्ति घायल हो गया। जिसके बाद उसे नजदीकी अस्पताल में भर्ती कराया गया। इस पूरे मामले की शिकायत पुलिस में दर्ज कराई गई। बदमाशों की करतूत सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गई। लेकिन इस पूरे मामले में पीड़ित पक्ष पुलिस की कार्रवाई पर भी सवाल उठा रहा है। पीड़ित पक्ष का आरोप है कि सीसीटीवी कैमरे में आरोपियों के चेहरे कैद हो गए हैं, लेकिन इसके बावजूद पुलिस ने अज्ञात लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है। इतना ही नहीं पीड़ित पक्ष का आरोप है कि पुलिस ने मामूली धाराओं में मुकदमा दर्ज किया है।