Gwalior East By Poll 2020:सिंधिया घराने के प्रभाव क्षेत्र ग्वालियर पूर्व में कांग्रेस का सतीश सिकरवार पर दांव

MP By Poll 2020: बीजेपी की तरफ से सिंधिया समर्थक मुन्ना लाल गोयल, कांग्रेस ने पिछले चुनाव में बीजेपी से लड़ने वाले सतीश सिकरवार को बनाया है उम्मीदवार

Updated: Sep 29, 2020 09:12 PM IST

Gwalior East By Poll 2020:सिंधिया घराने के प्रभाव क्षेत्र ग्वालियर पूर्व में कांग्रेस का सतीश सिकरवार पर दांव

भोपाल। मध्यप्रदेश में 28 सीटों पर उपचुनाव 3 नवम्बर को होंगे। जिन 28 सीटों पर चुनाव होने हैं उनमें से ग्वालियर पूर्व एक ऐसी सीट है जहां कांटे की टक्कर देखने की उम्मीद है। ग्वालियर पूर्व की सीट पर लड़ने वाले दोनों ही प्रतिद्वंदी इस दफा पार्टी की अदला बदली कर एक दूसरे के खिलाफ ताल ठोकेंगे। कांग्रेस ने बागी नेता मुन्ना लाल गोयल के सामने 2018 में बीजेपी के प्रत्याशी रहे सतीश सिकरवार को मैदान में उतार कर दिलचस्प समीकरण बना दिया है। 

मुन्ना लाल गोयल सिंधिया के साथ बीजेपी में शामिल होने वाले विधायकों में से एक हैं। मुन्ना लाल गोयल ने पिछले विधासभा चुनावों में तब बीजेपी की ओर से चुनाव लड़े सतीश सिकरवार को हराया था। इस बार उनका सामना सतीश सिकरवार से ही होगा लेकिन दोनों ही नेताओं की पार्टी बदली रहेगी। सतीश सिकरवार उपचुनाव से पहले कांग्रेस में शामिल हो चुके हैं। कांग्रेस ने ग्वालियर पूर्व से उनको अपना उम्मीदवार घोषित कर दिया है।

ग्वालियर पूर्व सीट पहली बार 2008 के विधानसभा चुनावों में अस्तित्व में आई थी। इस सीट पर सिंधिया घराने का व्यापक असर है। इसके बाद भी इस सीट पर लड़े गए तीन चुनावों में बीजेपी को दो बार जीत मिली है। सिंधिया समर्थक कांग्रेस प्रत्याशी मुन्ना लाल गोयल एक बार 2018 में जीते हैं। आंकड़ों की मानें तो बीजेपी का पलड़ा भारी लग रहा है। लेकिन पनघट की डगर इतनी भी आसान सिद्ध नहीं होने वाली है।

इसके पीछे सबसे बड़ी वजह क्षेत्र में मुन्ना लाल गोयल के विरुद्ध पनपा विरोध है। मुन्ना लाल गोयल खुद बीजेपी हाईकमान से बात कर मान चुके हैं कि आगामी उपचुनाव में उनकी स्थिति ठीक नहीं है। हाल ही में ग्वालियर क्षेत्र के बीजेपी के एक पदाधिकारी ने बीजेपी नेता गोपाल भार्गव से एक कथित ऑडियो में यह कहा था कि मुन्ना लाल गोयल क्षेत्र में कम से कम 25 हजार वोटों से हारेंगे। 

उधर कांग्रेस के उम्मीदवार सतीश सिकरवार के लिए भी राहें मुश्किल ही नज़र आ रही हैं। सतीश सिकरवार के कांग्रेस में शामिल होने के बाद से ही ग्वालियर क्षेत्र में कांग्रेस के अंदर ही उनकी मुखालिफत हो रही है। ऐसे में इस सीट से दोनों ही प्रमुख दावेदारों में से किसी एक की स्थिति बहतर है, ऐसा कहना फिलहाल बेमानी होगा।