मौत से हारी मासूम जिंदगी: 400 फीट गहरे बोरवेल में फंसे तन्मय की मौत, रेस्क्यू टीम ने 84 घंटे बाद बाहर निकाला शव

शनिवार सुबह 5 बजे बाहर निकाला गया मासूम का शव, 5 डॉक्टरों की टीम ने शव का पोस्टमार्टम किया। परिजन बोले- बचाव दल ने तो दिन-रात प्रयास किया है, पर कहीं न कहीं लेट हो गए।

Updated: Dec 10, 2022, 10:23 AM IST

मौत से हारी मासूम जिंदगी: 400 फीट गहरे बोरवेल में फंसे तन्मय की मौत, रेस्क्यू टीम ने 84 घंटे बाद बाहर निकाला शव

बैतूल। मध्य प्रदेश के बैतूल में बोरवेल में फंसे 6 साल के बच्चे की मौत हो गई। 84 घंटे बाद शनिवार सुबह करीब पांच बजे बच्चे का शव बाहर निकाला गया। 
दरअसल, 6 दिसंबर की शाम करीब 5 बजे 6 वर्षीय तन्मय साहू खेत में खेलते समय बोरवेल में गिर गया और अगले एक घंटे में रेस्क्यू ऑपरेशन शुरू हो गया। लेकिन रेस्क्यू में 84 घंटे लग गए और तबतक मासूम की मौत हो चुकी थी।

बैतूल ADM श्यामेंद जायसवाल ने बताया कि तन्मय के शरीर को जब निकाला गया, तो वो डीकम्पोज की स्थिति में था। पीएम रिपोर्ट में जो जानकारी मिली है, उसमें चेस्ट कंजेशन (सीने में जकड़न) और पसलियों में चोट सामने आई है। तहसीलदार गांव में परिजन के पास पहुंच चुके हैं। अन्तयेष्टि के लिए आर्थिक सहायता दी जाएगी। कलेक्टर अमनबीर सिंह बैंस ने बताया कि बोर 400 फीट गहरा है। बच्चा करीब 39 फीट की गहराई में फंसा था। रेस्क्यू टीम ने बोर के समानांतर 44 फीट गहरा गड्‌ढा खोदा। इसके बाद 9 फीट की हॉरिजॉन्टल सुरंग खोदी गई।

यह भी पढ़ें: छिंदवाड़ा दौरे के दौरान सातवें आसमान पर दिखा CM चौहान का पारा, मंच से दो अफसरों को किया सस्पेंड

बच्चे के चाचा राजेश साहू ने कहा कि अंतिम संस्कार गांव मांडवी में ताप्ती घाट पर करेंगे। यह हमारे लिए बहुत दुख की घड़ी है। हमने तो यह सोच रखा था कि सफल होंगे और हमारा बच्चा हमें वापस मिल जाएगा। बचाव दल ने तो दिन-रात प्रयास किया है, पर कहीं न कहीं लेट हो गए। अगर हमारे पास ऐसा कोई संसाधन होता, जिससे हम बच्चे को उसी दिन निकाल लेते, तो वो बच जाता। टीम वर्क बहुत अच्छा रहा, लेकिन हम लेट हो गए।

रिपोर्ट्स के मुताबिक हादसा मंगलवार शाम बैतूल जिले के आठनेर के मांडवी गांव में करीब 5 बजे हुआ। 6 साल का तन्मय दूसरे बच्चों के साथ छुपन-छुपाई खेल रहा था। पड़ोसी के बोरवेल में वह गिर गया। आवाज लगाने पर बोरवेल के भीतर से बच्चे की आवाज आई। इस पर परिवारवालों ने तत्काल बैतूल और आठनेर पुलिस को सूचना दी।