संस्कृति मंत्री ने सेल्फ़ी पर लगाया शुल्क, समय की बर्बादी के लिए प्रति सेल्फ़ी 100 रूपये लेंगी ऊषा ठाकुर

संस्कृति मंत्री उषा ठाकुर ने ऐलान किया है कि अब 100 रुपए नकद पार्टी फंड में देकर ही कोई उनके साथ सेल्फी ले सकेगा, उनका कहना है कि सेल्फी के चक्कर में बहुत समय खराब होता है

Updated: Jul 19, 2021, 09:21 AM IST

संस्कृति मंत्री ने सेल्फ़ी पर लगाया शुल्क, समय की बर्बादी के लिए प्रति सेल्फ़ी 100 रूपये लेंगी ऊषा ठाकुर
Photo Courtesy: TheQuint

खंडवा। मध्यप्रदेश की अध्यात्म और संस्कृति मंत्री उषा ठाकुर इन दिनों सरकारी खजाने और पार्टी की आर्थिक स्थिति को लेकर चिंतित नजर आ रही हैं। सरकार और संगठन की आर्थिक स्थिति सुदृढ करने की वो सारे उपाय भी ढूंढ रही हैं। वैक्सीन लगवाने वालों से 500 रुपए पीएम केयर फंड में डोनेट करने की अपील के बाद अब उन्होंने सेल्फी लेने वालों पर 100 रुपए का चार्ज लगा दिया है।

खंडवा जिले में मीडियाकर्मियों से बात करते हुए उषा ठाकुर ने बताया है कि अब उनके साथ यदि कोई सेल्फी लेने आएगा तो उसे पहले 100 रुपए जमा करने होंगे। उन्होंने कहा, 'सेल्फी से बहुत समय खराब होता है। इस चक्कर में हम कई बार लेट हो जाते हैं। संगठनात्मक दृष्टि से हमने विचार किया है कि हमारे यहां मंडल कार्यकारिणी है, जिस मंडल में जो जितना सेल्फी लेगा, वह 100 रुपये प्रति सेल्फी के हिसाब से शुल्क कोषाध्यक्ष के पास जमा करेगा। यह राशि संगठन के काम आएंगे।' 

मंत्रीजी के इस फरमान को सेल्फी से बचने का तरीका के रूप में भी देखा जा रहा है। चूंकि जब भी कोई मंत्री कहीं जाता है, तो वहां कार्यकर्ता सेल्फी लेने में जुट जाते हैं। हर कार्यकर्ता सेल्फी लेकर मंत्री के करीबी होने का सबूत सोशल मीडिया पर देना चाहता है। ऐसे में कई बार सुरक्षाकर्मियों को व्यवस्था संभालना भी मुश्किल हो जाता है। अब मंत्री ने तय किया है कि सौ रुपये पार्टी फंड में देकर ही कोई उनके साथ सेल्फी ले सकेगा। ऐसे में जाहिर है कि कई कार्यकर्ता जो आर्थिक रूप से कमजोर होंगे वे सौ रुपए न होने की स्थिति में सेल्फी नहीं ले पाएंगे और सेल्फी लेने वालों की भीड़ कम होगी।

यह भी पढ़ें: MP: मंत्री के भाई पर बैंककर्मी को दौड़ा-दौड़ाकर पीटने का आरोप, पूछने पर तिलमिलाए मंत्री- बोले रखो फोन

मंत्री उषा ठाकुर ने यह भी कहा कि वह अब बुके स्वीकार नहीं करेंगी। उसके जगह उन्हें बुक चाहिए। उनका तर्क है कि फूल में मां लक्ष्मी का वास होता है ऐसे में वह सिर्फ भगवान विष्णु को चढ़ाया जा सकता है। उन्होंने कहा कि बुक मिलेंगे तो हम सार्वजनिक लाइब्रेरी भी खोल सकेंगे। बता दें कि उषा ठाकुर अपने अजीबोगरीब बयानबाजी को लेकर हमेशा सुर्खियों में रहती हैं। उन्होंने कोरोना काल में वायरस को भगाने के लिए हवन करने की वकालत की थी।