जबलपुर: पुलिस ने नहीं की सुनवाई तो छेड़खानी से तंग आकर नाबालिग छात्रा ने किया आत्मदाह

मध्य प्रदेश के जबलपुर में 17 वर्षीय छात्रा ने किया आत्मदाह, सुसाइड नोट में लिखा- लड़कों ने जिंदगी बर्बाद कर दी, थाने में सुनवाई नहीं हुई, सॉरी पापा मुझे माफ़ कर देना

Updated: Dec 08, 2021, 10:44 AM IST

जबलपुर: पुलिस ने नहीं की सुनवाई तो छेड़खानी से तंग आकर नाबालिग छात्रा ने किया आत्मदाह

जबलपुर। मध्य प्रदेश के जबलपुर में छेड़खानी से परेशान होकर एक नाबालिग छात्रा ने आत्मदाह कर लिया। मृतक छात्रा ने सुसाइड नोट में लिखा है लड़कों ने जिंदगी बर्बाद कर दी है। छात्रा ने अपनी पीड़ा बताते हुए लिखा है की वह पुलिस के पास भी गई थी, लेकिन आरोपियों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं हुई। मनचलों ने घर से निकलना मुश्किल कर दिया था। 

रिपोर्ट्स के मुताबिक मृतक छात्रा रांझी के मस्ताना चौक की रहने वाली है। उसके पिता ऑटो ड्राइवर हैं, जबकि मां का निधन हो चुका है। वह चार बहनों में सबसे छोटी थी।  मंगलवार दोपहर पीड़िता घर के छत पर गई और वहां केरोसिन डालकर आग लगा लिया।  छात्रा की चीख सुनकर उसकी बहनें और पड़ोसी मौके पर पहुंचे और उसे बचाने की कोशिश की। यहां से छात्रा को गंभीर हालत में पहले विक्टोरिया अस्पताल ले जाया गया और फिर मेडिकल अस्पताल रेफर कर दिया गया।

यह नही पढ़ें: एमपी में आदिवासी फंड पर केंद्र सरकार की टेढ़ी नज़र, 5 साल में 60 फ़ीसदी हुई कटौती

डॉक्टरों के मुताबिक छात्रा के शरीर का 90 फीसदी हिस्सा जल चुका था। मगंलवार देर रात इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई। मृतक छात्रा के घर से एक सुसाइड नोट भी बरामद हुआ है। इसमें वह अनुराग चौधरी, वरुण, आशा, तन्वी और ममता को इसके लिए जिम्मेदार ठहराती है। उसने लिखा है कि इन लोगों ने मेरी जिंदगी बर्बाद कर दिया है, मेरा घर से निकलना मुश्किल हो गया है। घर के चारों तरफ लड़के घूमते हैं। 

छात्रा ने यह भी लिखा है कि 'मैं पुलिस के पास शिकायत करने गयी थी लेकिन मेरी कोई सुनवाई नहीं हुई। सॉरी पापा मुझे माफ़ कर देना।' छात्रा के पिता के मुताबिक मृतक 3 घंटे तक थाने में बैठी रही बावजूद पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई तो दूर एफआईआर भी नहीं किया। बताया जा रहा है कि छात्रा ने एक महीने पहले ट्रेन से कटने की कोशिश की थी, लेकिन उस वक्त राहगीरों ने उसे बचा लिया था। बहरहाल मामला बढ़ने के बाद पुलिस ने 4 लोगों को गिरफ्तार कर लिया है वहीं, मुख्य आरोपी अनुराग चौधरी अब भी फरार है।