जल संसाधन मंत्री के ज़िले में गंदगी से परेशान ग्रामीण, सरपंच कार्यालय पर टांगी जूतों की माला

जल संसाधन मंत्री, तुलसी सिलावट की विधानसभा में गंदे जल प्रवाह से लोग परेशान, CM हेल्पलाइन पर शिकायत के बावजूद कार्रवाई नहीं, गुस्साए लोगों ने पंचायत भवन पर टांग दी जूतों की माला

Updated: Mar 20, 2022, 05:07 PM IST

जल संसाधन मंत्री के ज़िले में गंदगी से परेशान ग्रामीण, सरपंच कार्यालय पर टांगी जूतों की माला

इंदौर। मध्य प्रदेश के एक गांव के लोगों ने शनिवार को अनूठा विरोध प्रदर्शन किया। ग्रामीणों ने सरपंच कार्यालय पर जूतों की माला टांग दिया। रिपोर्ट्स के मुताबिक ग्रामीण गंदगी से परेशान थे। ग्रामीणों के मुताबिक सीएम हेल्पलाइन पर भी कई बार शिकायत की। लेकिन वहां भी सुनवाई नहीं हो रही है। इसके बाद थक हारकर वे विरोध प्रदर्शन करने लगे।

मामला मध्य प्रदेश के जल संसाधन मंत्री तुलसी सिलावट का विधानसभा क्षेत्र सांवेर का है। सांवेर के पालिया ग्राम पंचायत के वाल्मीकी इलाके के रहवासी गंदगी से परेशान हैं। ग्रामीणों का कहना है कि पिछले दो सालों से मोहल्ले में गटर भरी हुई है, गर्मियों में भी सड़क पर गंदा पानी बहता है। यहां पर जल निकासी की कोई व्यवस्था नहीं है। उन्होंने दावा किया कि सड़को पर फैली गंदगी और गंदे कीचड़ से गांव के लोग बीमार हो रहे हैं।

यह भी पढ़ें: सांची दूध खरीदना अब पड़ेगा महंगा, 4 से 5 रुपए प्रति लीटर तक बढ़ाई कीमत

गंदगी से परेशान गांव की महिलाओं ने जूतों के दो हार बनाए, एक सरपंच के लिए और दूसरा पंचायत सचिव के लिए। ग्रामीण नारेबाजी करते हुए जूतों का हार लेकर इलाके से निकले ओर पंचायत भवन पहुंचने तक जमकर नारेबाजी करते रहे। यहां गुस्साए लोगों ने जूते की माला कार्यालय के गेट पर टांग दी। इस दौरान बच्चे और महिलाएं भी प्रदर्शन में शामिल रही।

ग्रामीणों का दावा है कि चुनाव के वक्त मंत्री तुलसी राम सिलावट दो बार विकास कामों को लेकर घोषणा कर गए। लेकिन चुनाव जीतने के बाद वह झांकने नहीं आए। मोबाइल पर कॉल करने के बाद भी मंत्री से बात नहीं हो पाती। परेशानियों को लेकर सीएम हेल्पलाइन पर शिकायत करने पर  किसी ने ध्यान नहीं दिया। विरोध के इस रास्ते के अलावा उनके पास कोई चारा नहीं है, सो नारेबाज़ी और बिल्डिंग को अपमानित करके ही उन्हें अपने मन को शांत करना पड़ा रहा है।