कोरोना संकट के बीच धार के इंजीनियर का कमाल, जुगाड़ से बनाई बाइक एंबुलेंस, ऑक्सीजन सिलिंडर भी मौजूद

मध्यप्रदेश के धार के युवा इंजीनियर अजीज खान ने आपदा को बनाया अवसर, महामारी के इस दौर में लोगों की मदद के लिए बनाया जुगाड़ का एंबुलेंस, दे रहे हैं फ्री सेवा

Updated: May 01, 2021, 11:09 AM IST

कोरोना संकट के बीच धार के इंजीनियर का कमाल, जुगाड़ से बनाई बाइक एंबुलेंस, ऑक्सीजन सिलिंडर भी मौजूद
Photo Courtesy: Twitter

धार। कोरोना महामारी के इस संकट के दौर में भारत कई चुनौतियों से जूझ रहा है। अस्पताल जाने के लिए मरीजों को एंबुलेंस नहीं मिलने की खबरें लगातार आ रही है। मरीज अस्पताल पहुंचने से पहले ही संसाधनों के अभाव में दम तोड़ रहे हैं। आपदा के इस घड़ी को मध्यप्रदेश के एक युवा इंजीनियर ने अवसर में बदलते हुए कमाल कर दिया है। धार के अजीज खान ने एक ऐसा एंबुलेंस बनाया है जिसे बाइक के सहारे एक जगह से दूसरे जगह तक ले जाया जा सकता है। 

धार के रहने वाले इंजीनियर अजीज खान ने जुगाड़ की तकनीक से महज दो दिनों में बाइक एंबुलेंस बना डाला। इस एंबुलेंस में मरीज आराम से लेट सकता है। मरीज के साथ एक और व्यक्ति भी इस अनोखे बाइक एंबुलेंस में बैठ सकता है। खास बात यह है कि इस एंबुलेंस में बाकायदा ऑक्सीजन सिलिंडर भी लगाया हुआ है ताकि मरीजों को सहूलियत हो। 

इस बाइक एंबुलेंस को बनाने में अजीज ने 25-30 हजार रुपए खर्च किए हैं। उन्होंने इसमें पुराने कल-पुर्जों का इस्तेमाल किया है। इसकी खासियत यह है कि यह हर टोले-मुहल्ले तक आसानी से पहुंचकर लोगों की जान बचाने में सक्षम है। अजीज ने इस एंबुलेंस से फ्री सेवा शुरू कर दिया है और अबतक उन्होंने कम से कम आठ लोगों की जान बचाई है।

एंबुलेंस बनाने की आईडिया को लेकर अजीज बताते हैं कि महामारी के दौरान संसाधनों के अभाव में लोगों को मौत के मुंह में जाता देख वे व्यथित थे। इसी दौरान उन्होंने एंबुलेंस का एक बिल देखा जिसमें थोड़ी दूर के लिए ही मरीज से 10 हजार रुपए चार्ज किए गए थे। इसी के साथ उन्हें यह विचार आया कि गरीब लोगों के लिए एक एंबुलेंस बनाना चाहिए। इसके बाद उन्होंने इंटरनेट से एंबुलेंस से जुड़ी जानकारी जुटाई। इसके बाद उन्होंने पुराने कल पुर्जों में अपना जुगाड़ वाला दिमाग लगाया और तैयार था यह अनोखा बाइक एंबुलेंस।