सिंधिया समर्थक मंत्री ने खोला चीफ सेक्रेटरी के खिलाफ मोर्चा, सीएम शिवराज की बढ़ी मुश्किलें

मध्य प्रदेश के पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री महेंद्र सिंह सिसोदिया ने मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैंस को निरंकुश प्रशासक करार दिया, कहा कि ऐसे लोग मेरे शत्रु हैं

Updated: Sep 03, 2022, 09:53 AM IST

सिंधिया समर्थक मंत्री ने खोला चीफ सेक्रेटरी के खिलाफ मोर्चा, सीएम शिवराज की बढ़ी मुश्किलें

भोपाल। मध्य प्रदेश में नेतृत्व परिवर्तन की अटकलों के बीच सिंधिया गुट के नेताओं ने सीएम शिवराज सिंह चौहान की मुश्किलें बढ़ा दी है। सिंधिया समर्थक मंत्री महेंद्र सिंह सिसोदिया ने चीफ सेक्रेटरी इकबाल सिंह बैंस के खिलाफ गंभीर आरोप लगाए हैं। साथ ही सिसोदिया ने कहा कि ऐसे लोग मेरे दुश्मन हैं। जबकि बैंस सीएम के सबसे करीबी और भरोसेमंद अधिकारियों में शामिल हैं।

दरअसल, शिवपुरी जिले में थाना प्रभारियों के तबादले को लेकर पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री महेंद्र सिंह सिसोदिया भड़के हुए हैं। उन्होंने कहा कि, 'मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान अच्छे हैं। लेकिन चीफ सेक्रेटरी इकबाल सिंह बैंस जैसे अधिकारी के लिए मेरे पास कोई शब्द नहीं हैं। इतना निरंकुश प्रशासक और पूरा निरंकुश प्रशासन। इस निरंकुशता का आधार इकबाल बैंस हैं। वे ऐसे अधिकारी हैं जो मंत्रियों तक के फोन नहीं उठाते हैं।'

यह भी पढ़ें: झाबुआ: छात्रवृति के लिए भूखे-प्यासे 32KM पैदल चलकर कलेक्ट्रेट पहुंचे छात्र, कई बेहोश

सिसोदिया ने आगे कहा कि उनकी नाराजगी न सिर्फ मुख्य सचिव बैंस के लिए है बल्कि हर उस व्यक्ति के लिए है जो हमारी पार्टी और संगठन के साथ काम नहीं करता। जो डुप्लीकेसी के साथ काम करते हैं वो ही मेरे सबसे बड़े शत्रु हैं। ग्रामीण विकास मंत्री गुना में हुए ट्रांसफर को लेकर कहा कि ये पुलिस प्रशासन का अधिकार है। लेकिन एक जनप्रतिनिधि होने के नाते एसपी को चाहिए कि वे हमें बताएं। बिना बताए ट्रांसफर कर दिए, जब मैने फाइल मांगी तो वो भी नहीं भेजी गई।

भाजपा नेता ने कहा कि मेरी जानकारी में जो नाम लाए गए थे, मैंने उनपर सहमति नहीं दी। नाराजगी के साथ 29 अगस्त को कलेक्टर को पत्र भी लिखा था, जिसका आज तक जवाब नहीं आया। नीति के तहत एसपी का ये दायित्व बनता है कि जनप्रतिनिधि जिससे सहमत नहीं था, एप्रूवल नहीं करें। सिसोदिया ने बताया कि बीते दिनों वे गुना में किसी कार्यक्रम में गए थे जहां प्रोटोकॉल का पालन नहीं किया गया। इस बारे में भी उन्होंने कलेक्टर को पत्र लिखा था।

यह भी पढ़ें: पेशाब करने पर 12 फीसदी जीएसटी, रेलवे स्टेशन पर बिना रेट पढ़े टॉयलेट जाना पड़ सकता है महंगा

दरअसल, यह सिंधिया खेमे के नेताओं और सीएम शिवराज के करीबी अफसरों के बीच की वर्चस्व की लड़ाई है। बताया जाता है कि सीएम के करीबी अधिकारी मंत्रियों का सम्मान करना तो दूर ढंग से बात भी नहीं करते। इकबाल सिंह बैंस सीएम के सबसे करीबी अधिकारियों में एक हैं। उन्हें एक्सटेंशन दिलाने के लिए सीएम दिल्ली तक लेटर भेज चुके हैं। लेकिन केंद्र सरकार के पास यह फाइल अटकी हुई है। इधर अब मुख्य सचिव सिंधिया समर्थकों की आँखों में खटकने लगे हैं। इसी बीच कांग्रेस ने सीएम चौहान को सचेत करते हुए हुए कहा है कि जयचंदों द्वारा आपके पांव के नीचे से मिट्टी खोदी जा रही है।