MP में मॉब लिंचिंग, गौ तस्करी के शक में मुस्लिम युवक को दी दर्दनाक मौत, दो गंभीर रूप से घायल

मध्य प्रदेश के सिवनी मालवा में भीड़ ने मुस्लिम युवक को पीट पीटकर मार डाला, गौ तस्करी के शक में तीन मुस्लिम युवकों को बेरहमी से पीटा, एक की मौत दो गंभीर रूप से घायल, कांग्रेस बोली- आरोपी बीजेपी से जुड़े हुए हैं

Updated: Aug 03, 2022, 07:14 PM IST

MP में मॉब लिंचिंग, गौ तस्करी के शक में मुस्लिम युवक को दी दर्दनाक मौत, दो गंभीर रूप से घायल

सिवनी। मध्य प्रदेश के सिवनी में मॉब लिंचिंग की घटनाएं थमने का नाम नहीं ले रही है। इसी साल दो आदिवासियों की हत्या के बाद अब स्वघोषित गौरक्षकों ने एक मुस्लिम युवक को दर्दनाक मौत दी है। मामला मंगलवार देर रात का है जब भीड़ ने गौ तस्करी के शक में तीन मुस्लिम युवकों पर लाठी डंडों से हमला कर दिया। इस दौरान एक युवक की मौत हो गई जबकि दो अन्य को गंभीर चोटें आई है।

घटना नर्मदापुरम जिले के सिवनी-मालवा के बराखड गांव की मंगलवार रात करीब 12.30 बजे की है। बताया जा रहा है कि महाराष्ट्र के अमरावती से एक ट्रक गोवंश लेकर जा रहा था। सिवनी मालवा के आगे बराखड और गोतीयापुरा गांव के पास 10-15 लोगों ने रात करीब एक बजे ट्रक को रुकवाया और उसमें सवार तीन मुस्लिम युवकों की बेरहमी से पिटाई कर दी।

मारपीट की सूचना मिलते ही पुलिस भी मौके पर पहुंची। तीनों को अस्पताल ले जाया गया जहां एक युवक की मौत हो गई। दो अन्य घायलों का इलाज किया जा रहा है। मृतक का नाम नाजिर अहमद है जबकि घायलों की पहचान शेख लाल और मुस्ताक के रूप में हुई है। शेख लाल ने मीडिया को बताया कि उन्होंनेनंदेरवाड़ा गांव (सिवनी-मालवा,नर्मदापुरम) से मवेशी भरे थे और अमरावती ले जा रहे थे। गाड़ी 10km ही आगे बढ़ी होगी की 50 से 60 लोग सामने से आ गए और नीचे उतारकर पीटना शुरू कर दिया। 

कांग्रेस ने दावा किया है कि हमलावर बीजेपी से जुड़े हुए थे। कांग्रेस नेता नरेंद्र सलूजा ने कहा कि, 'मध्य प्रदेश में लगातार इस तरह की घटनाएँ सामने आ रही है।भाजपा से जुड़े लोग क़ानून हाथ में ले रहे है। लोगों को मारा जा रहा है। इस घटना की निष्पक्ष जाँच हो, जो भी दोषी हो, उन पर कड़ी से कड़ी कार्रवाई हो।' 

सिवनी एसपी गुरकरण सिंह ने इस पूरे मामले की जानकारी देते हुए बताया कि हमलावरों को पूर्व सूचना थी कि ट्रक से गौवंशों को लाया जा रहा है। ट्रक में करीब 28 गौवंश थे। गौ संवर्धन एक्ट के तहत घायल युवकों के खिलाफ प्रकरण दर्ज किया गया है। जबकि करीब दर्जनभर लोगों के खिलाफ हत्या के प्रकरण में आईपीसी की धारा 302, 307, 147 और 148 के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है। पुलिस आरोपियों के घर पकड़ में जुटी हुई हुई है, जल्द ही सभी को गिरफ्तार कर लिया जाएगा।

यह भी पढ़ें: BJP MLA के करीबी क्लर्क के घर EOW की रेड, कार्रवाई से घबराकर कर्मचारी ने पीया जहर

बता दें कि इसी साल मई में सिवनी के कुरई के सिमरिया में कथित गौरक्षकों ने दो आदिवासियों को पीट पीटकर मौत के घाट उतार दिया था। इस हमले में एक आदिवासी गंभीर रूप से घायल हुआ था। पुलिस ने इस मामले में 14 आरोपियों को गिरफ्तार किया है। सरकार ने पीड़ित परिवारों को आर्थिक सहायता दी थी। बाद में आदिवासी वर्ग का आक्रोश देख राज्य सरकार ने एसआईटी गठित की थी। इस घटना के दो महीने बाद गौरक्षा के नाम पर एक बार फिर से हुई मॉब लिंचिंग की घटना ने कानून व्यवस्था पर सवाल खड़े कर दिए हैं।