फिर बिगड़ेगा मप्र के मौसम का मिजाज, रीवा, जबलपुर, शहडोल, सागर संभाग में बारिश और ओले की चेतावनी

भोपाल, ग्वालियर, इंदौर में जारी है बादलों की लुका छिपी, शीतलहर से जनजीवन प्रभावित, कई जिलों में दिन और रात के तापमान में मामूली अंतर

Updated: Dec 29, 2021, 02:16 PM IST

फिर बिगड़ेगा मप्र के मौसम का मिजाज, रीवा, जबलपुर, शहडोल, सागर संभाग में बारिश और ओले की चेतावनी
Photo Courtesy: news track

भोपाल। मध्यप्रदेश के ज्यादातर जिलों में शीतलहर का प्रकोप जारी है, रीवा, उमरिया, नरसिंहपुर, जबलपुर,  छिंदवाड़ा में ओले गिरने के बाद कड़ाके की ठंड पड़ रही है। मौसम विभाग ने एक बार फिर गरज-चमक के साथ बूंदाबांदी और घना कोहरा छाने की चेतावनी जारी की है। सागर, रीवा, शहडोल, होशंगाबाद और जबलपुर संभाग के कुछ इलाकों में बुधवार को ओले गिरने की भी संभावना है। वहीं कुछ जिलों में तेज हवा के साथ बारिश होने की भी चेतावनी जारी की गई है। वहीं बादलों की लुका छिपी जारी है। बादलों के छंटते ही और ज्यादा सर्दी पड़ने के आसार है। प्रदेश के ज्यादातर जिलों में दिन के तापमान में लगातार गिरावट दर्ज की जा रही है।

भोपाल, इंदौर, ग्वालियर,सागर, सतना,रीवा, उमरिया, शहडोल, बुरहानपुर, पचमढ़ी, होशंगाबाद, दमोह, नौगांव, खजुराहो, कटनी, छतरपुर, पन्ना में लोगों को भीषण सर्दी का सामना करना पड़ रहा है। मौसम विभाग से मिली जानकारी के अनुसार सागर में 10, इंदौर-भोपाल के तापमान में 9 डिग्री तक तापमान में गिरावट दर्ज की गई है। ग्वालियर में दिन और रात के तापमान में केवल 4 डिग्री का अंतर देखने को मिला। प्रदेश के सभी जिलों में सर्द हवाओं का दौर जारी है। जिसकी वजह जनजीवन प्रभावित हो गया है। बुधवार को भोपाल, सीहोर, रायसेन, बड़वानी ग्वालियर समेत कई शहरों में कोहरा छाया रहा।

भोपाल, इंदौर, ग्वालियर में मंगलवार को लोगों को भीषण सर्दी का सामना करना पड़ा। मंगलवार को इंदौर में दूसरी बार कोल्ड डे रहा, वहीं ग्वालियर में इस सीजन का सबसे ठंडा दिन रहा। इसदिन और रात के तापमान में महज 4.7 डिग्री सेल्सियस का अंतर रहा। 28 दिसंबर को ग्वालियर में पचमढ़ी से भी ज्यादा ठंड पड़ी। वही छिंदवाड़ा और मंडला में बिजली गिरने से 4 लोगों की मौत हो गई, 3 छिंदवाड़ा और एक शख्स की मौत मंडला में हुई है। मंगलवार को हुई बारिश और ओले का असर है कि प्रदेश के दर्जनभर से ज्यादा जिलों में कहीं कम तो कहीं घना कोहरा देखने को मिला है। जिलों के न्यूनतम तापमान भी सामान्य से तीन-चार डिग्री की गिरावट देखने को मिली है।