MP By Election 2020: चुनाव आयोग की बैठक आज, हो सकती है एमपी उप चुनाव तारीख की घोषणा

MP BJP Govt: 6 महीने से ज्यादा समय से 27 सीट खाली, कांग्रेस के बागी 14 मंत्रियों सहित 22 विधायकों पर अयोग्य घोषित होने की तलवार,

Updated: Sep-29, 2020, 09:49 AM IST

MP By Election 2020: चुनाव आयोग की बैठक आज, हो सकती है एमपी उप चुनाव तारीख की घोषणा

नई दिल्ली। मध्य प्रदेश के आगामी विधानसभा उपचुनाव की चुनाव तारीखों की घोषणा आज हो सकती है।चुनाव आयोग ने विभिन्न राज्यों में होने वाले लोक सभा और विधान सभा उपचुनाव को ले कर आज बैठक बुलाई है। संभव है कि इस बैठक में मध्यप्रदेश उपचुनाव की तारीखों पर फैसला हो जाए।

एमपी में चुनाव न होने से छह माह से 22 विधानसभा सीट खाली हैं। उसके बाद कांग्रेस छोड़ कर बीजेपी में जाने और निधन से छह सीट और खाली हुई हैं। इन 28 सीटों पर उप चुनाव होने हैं। 

बिहार चुनाव की तारीखों की घोषणा करते हुए मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोरा ने कहा था कि कुछ राज्यों के निर्वाचन पदाधिकारी से चुनाव की तारीख़ों पर विमर्श किया जाना है। इसके लिए 29 सितंबर को बैठक रखी गई है। इस बैठक में 1 लोकसभा और 64 असेंबली सीट के चुनाव की समीक्षा होगी। इसके बाद मध्य प्रदेश की 27 सीटों पर उपचुनाव की तारीख़ का एलान होगा। 

विधानसभा अध्यक्ष को देना है जवाब, अयोग्यता पर कब लेंगे फैसला 

एमपी की बीजेपी सरकार में शामिल कांग्रेस छोड़ कर आए 14 मंत्रियों सहित 22 विधायकों पर अयोग्य घोषित होने की तलवार लटकी है। सुप्रीम कोर्ट ने 22 सितंबर को सुनवाई के बाद विधान सभा सचिवालय से एक सप्ताह में जवाब मांगा है। सचिवालय को एक सप्ताह में यह बताना है कि विधानसभा अध्यक्ष कांग्रेस के बागी विधायकों को अयोग्य ठहराए जाने का फैसला कब करेंगे।  

और पढ़ें: Supreme Court: एमपी विधानसभा अध्यक्ष एक हफ़्ते में बताएं कांग्रेस के बागी 14 मंत्रियों की अयोग्यता पर कब करेंगे फैसला

चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया शरद अरविंद बोबड़े, जस्टिस एएस बोपन्ना व जस्टिस वी रामासुब्रमनयम की बेंच ने इस मामले पर दायर याचिका की सुनवाई में यह निर्देश दिया है। यह याचिका जबलपुर से कांग्रेस विधायक विनय सक्सेना ने दाखिल की है। सुप्रीम कोर्ट ने कांग्रेस के बागी 22 विधायकों को अयोग्य घोषित करने की याचिका पर विचार न करने के मामले में मध्यप्रदेश विधानसभा अध्यक्ष सहित अन्य को नोटिस जारी किया था। कोर्ट ने 21 सितंबर तक जवाब प्रस्तुत करने का निर्देश दिया था।