इंदौर के निजी अस्पताल की लापरवाही से मरीज की मौत, परिजनों ने किया हंगामा

पथरी का इलाज करवाने आई महिला की बिगड़ी तबीयत, अस्पताल प्रबंधन पर लगा इलाज का दिखावा करने का आऱोप, महिला ने तोड़ा दम, अस्पताल आने से पहले घरवालों ने मनाया था बर्थ डे

Updated: Oct 06, 2021, 03:14 PM IST

इंदौर के निजी अस्पताल की लापरवाही से मरीज की मौत, परिजनों ने किया हंगामा
Photo Courtesy: Patrika

इंदौर। शहर के एक निजी अस्पताल की लापरवाही ने एक महिला की जान ले ली। मंगलवार देर रात महिला की मौत के बाद गुस्साए परिजनों ने जमकर हंगामा किया। महिला के परिजनों ने अस्पताल प्रबंधन पर कई गंभीर आरोप लगाए हैं। इंदौर के छोटी ग्वालटोली इलाके से महिला को पथरी के इलाज के लिए लाया गया था। महिला का नाम सलोनी ठाकुर था। उसे उसके पति औऱ दूसरे परिजन जूनी इलाका स्थित वेदांत अस्पताल में लाए थे।

 पत्नी की मौत के बाद परिजनों ने अस्पताल में तोड़फोड़ की। अस्पताल प्रबंधन की शिकायत पर वहां पहुंची पुलिस ने मामले को शांत करवाया। बुधवार सुबर शव को पोस्टमार्टम के लिए जिला अस्पताल भेजा गया। पोस्टमार्टम के बाद शव परिजनों को सौंप दिया गया है। पुलिस ने परिजनों को उचित कार्रवाई का आश्वासन दिया है। महिला की मौत के बाद उसकी ढाई साल की बच्ची का रो-रोकर बुरा हाल है। वह अपनी मां को याद करके रोए जा रही है।

महिला ने सोमवार को ही अपना बर्थ डे मनाया था, जिसके बाद पथरी के ऑपरेशन के लिए उसे मंगलवार सुबह भर्ती किया गया था। वेदांत अस्पताल प्रबंधन ने दिन भर में कई जांचे करने के नाम पर भर्ती किए रखा। महिला को ICU में ले जाया गया था जहां कुछ देर बाद उसकी मौत की खबर आई।  

यह पहला मौका नहीं है जब अस्पताल प्रबंधन की लापरवाही से वेदांत अस्पताल में किसी मरीज की मौत हुई है। इस अस्पताल पर पहले भी कई संगीन आऱोप लगते रहे हैं। जुलाई 2020 में भी ऐसा ही मामला सामने आया था जब निजी अस्पताल में मोटी रकम वसूलने के बाद भी डॉक्टर की जगह कंपाउडंर से इलाज करवाया गया। वक्त पर इलाज नहीं मिलन की वजह से मरीज की मौत हो गई थी जिसके बाद भी परिजनों ने जमकर हंगामा किया था।   

हाल ही में CMHO ने 2 अक्टूबर को इस निजी अस्पताल को लेकर नोटिस जारी किया था। यह नोटिस दो महीने पहले एक महिला मरीज की लापरवाही को लेकर था, जिसकी इलाज के दौरान मौत हो गई थी। वहीं चार दिन बाद एक बार फिर इसी अस्पातल में महिला की मौत हो गई। परिजन दोषियों पर कार्रवाई की मांग कर रहे हैं।