दलित महिला से दुर्व्यवहार, सरपंच ने बोरवेल से पानी भरने से रोका, सीएम शिवराज के गृह जिले का मामला

मध्य प्रदेश के सीहोर में सार्वजनिक बोरवेल से पानी भरने गई दलित महिला को रोका, जातिसूचक गालियां भी दी, पुलिस ने नहीं लिखी रिपोर्ट।

Updated: Dec 01, 2022, 05:47 PM IST

दलित महिला से दुर्व्यवहार, सरपंच ने बोरवेल से पानी भरने से रोका, सीएम शिवराज के गृह जिले का मामला

सीहोर। भारत अपनी स्वतंत्रता के 75 साल पूरे करने जा रहा है, लेकिन समाज को अभी भी छुआछूत से आजादी नहीं मिली है। मध्य प्रदेश के सीहोर से ऐसा ही एक मामला सामने आया है। यहां एक महिला को सार्वजनिक बोरवेल से पानी भरने से सिर्फ इसलिए रोका गया क्योंकि वह दलित है। हैरानी की बात ये है कि महिला जब शिकायत करने थाने पहुंची तो पुलिस ने एफआईआर दर्ज करने तक से मना कर दिया।

मामला मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के गृह जिले सीहोर अंतर्गत इछावर थाना क्षेत्र के नांगली गांव का है। पीड़ित महिला का आरोप है कि वह बीते 29 नंबर को गांव के सार्वजनिक बोर पर पानी भरने गई थी। इसी दौरान वहां मौजूद गांव के सरपंच मनोज वर्मा ने ट्यूबवेल यह कहकर बंद कर दिया कि पहले पानी दीपक राठौर के घर का भरा जाएगा। इसके बाद अन्य लोग पानी भरेंगे। 

यह भी पढ़ें: मंत्री पद और बंगला चाहते थे सिंधिया, इसीलिए छोड़ी कांग्रेस: उज्जैन में बोले जयराम रमेश

पीड़िता के मुताबिक दीपक राठौर ने अवैध तरीके से अपनी पाइप लाइन सरकारी बोर से डाल रखी है। पीड़िता ने बताया कि जब वह पहले पानी भरने की मांग करने लगी तो आरोपी मनोज वर्मा ने जाति सूचक शब्दों का उपयोग करते हुए गाली गलौज की। साथ ही परिवार को जान से मारने की धमकी भी।

पीड़िता ने बताया कि आरोपी पहले भी अनुसूचित जाति के लोगों के साथ छुआछूत और गाली गलौज कर चुका है। महिला ने इसकी शिकायत इछावर थाना पहुंचकर पुलिस को की, लेकिन पुलिस ने रिपोर्ट न लिखकर आवेदन लेकर उन्हें चलता कर दिया। महिला राज्य सरकार से आरोपी पर सख्त कार्रवाई करने की मांग की है।