तिरंगा रैली में अनुपस्थित रहने की अजीबोगरीब सजा, सफाईकर्मी को देशद्रोही बताकर नौकरी से निकाला

नरसिंहपुर के साईखेड़ा में मुख्य नगर पालिका अधिकारी ने एक सफाई कर्मी को देशद्रोही बताकर नौकरी से निकाल दिया, जबकि दो अन्य दैनिक वेतन भोगी कर्मियों को भी देशद्रोह के तहत कार्रवाई करने संबंधी नोटिस भेजा है

Updated: Aug 15, 2022, 03:43 PM IST

तिरंगा रैली में अनुपस्थित रहने की अजीबोगरीब सजा, सफाईकर्मी को देशद्रोही बताकर नौकरी से निकाला

नरसिंहपुर। मध्य प्रदेश के नरसिंहपुर जिले से हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां सफाईकर्मी को ड्यूटी के दौरान लापरवाही बरतने पर अजीबोगरीब सजा दी गई। तिरंगा यात्रा में अनुपस्थित रहने पर नगर पालिका अधिकारी ने सफाईकर्मी को देशद्रोही करार देते हुए नौकरी से निकाल दिया। इतना ही नहीं दो अन्य दैनिक वेतन भोगी कर्मियों को तिरंगा बांटने में लापरवाही बरतने पर देशद्रोह के तहत कार्रवाई करने संबंधी नोटिस भेजा गया है।

मामला नरसिंहपुर जिले के साई खेड़ा नगर परिषद का है। मुख्य नगर पालिका अधिकारी ने यहां विकास मेहतर नामक दैनिक वेतन भोगी कर्मचारी को बर्खास्त कर दिया। विकास पर आरोप है कि उन्हें तिरंगा यात्रा में रथ लेकर शामिल होना था। लेकिन उस दौरान वे अनुपस्थित थे और चाबी उनके पास होने के कारण रथ भी तिरंगा रैली में शामिल नहीं हो सका। नगर पालिका अधिकारी ने उन्हें नोटिस भेजकर कहा कि यह कृत्य देशद्रोह की भावना के अंतर्गत आता है। क्यों न आपके विरुद्ध राष्ट्रदोह धारा के तहत प्रकरण पंजीबद्ध किया जाए और आपकी सेवा समाप्त की जाए।

नगर पालिका अधिकारी ने 8 अगस्त को नोटिस भेजकर उनसे स्पष्टीकरण मांगा था। दो दिन बाद यानी 10 अगस्त को विकास मेहतर की सेवा समाप्त करने संबंध आदेश जारी कर दिया गया। इसी तरह का नोटिस 13 अगस्त को दो अन्य दैनिक वेतन भोगी कर्मियों को दी गई। नगरपालिका अधिकारी ने अनुराग चौकसे और आशीष चौकसे को भी इसी तरह का नोटिस भेजा गया है।

इसमें लिखा है कि निकाय में अतिमहत्वपूर्ण हर घर तिरंगा अभियान चलाया जा रहा है। इस अभियान के अंतर्गत दोनों को वार्ड क्रमांक 1 से 3 तक तिरंगा वितरण करने की जिम्मेदारी दी गई थी। नगर पालिका अधिकारी के मुताबिक वे जब इन वार्डों में घूमने निकले तो घरों पर तिरंगा नहीं थे। उन्होंने नोटिस में लिखा कि आपके द्वारा जानबूझकर कार्यक्रम में रुचि नहीं ली जा रही है। क्यों ने आपके विरुद्ध देशद्रोह की धारा के तहत प्रकरण पंजीबद्ध कर सेवा समाप्ति की कार्रवाई की जाए।