इंदौर में कांग्रेस नेताओं का अनोखा प्रदर्शन, सीएम शिवराज के चेहरे पर लगाया QR कोड

कांग्रेस नेताओं ने कहा कि सरकार ने प्रत्येक व्यक्ति के सिर पर 41 हजार का कर्ज कर दिया है। घोषणाओं की मार्केटिंग के लिए करोड़ों रुपये उधार लेकर भी फूंक देती है।

Updated: Nov 05, 2022, 01:53 PM IST

इंदौर में कांग्रेस नेताओं का अनोखा प्रदर्शन, सीएम शिवराज के चेहरे पर लगाया QR कोड

इंदौर। मध्य प्रदेश के इंदौर में कांग्रेस नेताओं ने राज्य सरकार के खिलाफ अनोखा प्रदर्शन किया। इंदौर के कांग्रेस नेताओं ने शिवराज सिंह चौहान की तस्वीर के साथ QR कोड लगाया है। नेताओं का कहना है कि कर्ज में डूबी सरकार मध्य प्रदेश के निवासियों पर अत्याचार कर रही है, इसलिए उन्होंने यह पोस्टर लगाए हैं।

कांग्रेस प्रवक्ता विवेक खंडेलवाल ने कहा कि मध्य प्रदेश की शिवराज सरकार ने प्रदेश के प्रत्येक व्यक्ति को 41 हजार रुपये का कर्जदार बना दिया। प्रदेश सरकार अपने सालाना बजट से ज्यादा उधार ले रही है। हर महीने 4000 करोड़ रुपये बाजार से उधार ले रही है। अगर सरकार इसी तरह लोन लेती रही तो वो दिन दूर नहीं जब प्रदेश के हर व्यक्ति के सिर पर 1 लाख रुपये का कर्ज हो जाएगा।

उन्होंने आगे कहा कि सरकार 22 हजार करोड़ तो सिर्फ ब्याज में दे रही है। प्रदेश में अब तक की सबसे ज्यादा बेरोजगारी है। करीब इसी वर्ष 6 लाख लोग बेरोजगार हुए हैं। 33 लाख पंजीकृत बेरोजगार है। प्रदेश में 1 करोड़ से ज्यादा बेरोजगार हैं। उन्होंने कहा कि 1 लाख नौकरी देने की घोषणा पर प्रदेश सरकार ने मार्केटिंग पर करोड़ों फूंक दिए लेकिन नौकरी एक लोगों को भी नहीं मिली है।

कांग्रेसी नेताओं ने तंज कसते हुए कहा कि लोगों को क्यूआर कोड स्कैन कर शिवराज जी को अपनी ओर से कर्ज दे देना चाहिए। कांग्रेसियों ने पोस्टर पर क्यूआर कोड के साथ ‘शिवराज पे’ लिखा है। उन्होंने कहा है कि जिस तरह से फोन पे और गूगल पे पर लोग पैसों का आदान-प्रदान करते हैं, उसी प्रकार से सरकार तक पैसे पहुंचाने के लिए लोग ‘शिवराज पे’ का उपयोग कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें: दफ्तर दरबारी: सियासी मैदान में पिछड़ रही उमा भारती का आईएएस अफसरों पर हमला

खंडेलवाल ने कहा कि प्रदेश के 2 हजार स्कूलों में शिक्षक नहीं हैं। प्रदेश के स्वास्थ व्यवस्था देश में 17वें स्थान पर है। देश में प्रदेश की स्थिति उधार चंदा के रूप में शिवराज सरकार ने कर दी है। कांग्रेस नेता ने कहा कि आए दिन सीएम शिवराज सिर्फ घोषणाएं करते हैं और घोषणाओं की मार्केटिंग के लिए करोड़ों रुपये उधार लेकर फूंक देती है।