क्रिसमस के मौके पर बजरंग दल ने फूंका सेंटा क्लॉज का पुतला, सेंटा वापस जाओ के लगाए नारे

आगरा में बजरंग दल कार्यकर्ताओं का सेंटा के पुतले को जूता मारते हुए वीडियो वायरल, दक्षिणपंथी संगठन ने सेंटा का पुतला दहन किया, बोले- सेंटा तोहफा देने नहीं धर्मांतरण कराने आता है

Updated: Dec 25, 2021, 06:10 PM IST

क्रिसमस के मौके पर बजरंग दल ने फूंका सेंटा क्लॉज का पुतला, सेंटा वापस जाओ के लगाए नारे

आगरा। क्रिसमस के मौके पर पूरी दुनिया खुशियां बांट रही है वहीं उत्तर प्रदेश से हैरान करने वाला दृश्य सामने आया है। यहां दक्षिणपंथी संगठन बजरंग दल के कार्यकर्ताओं ने सेंटा का पुतला फूंक कर क्रिसमस त्यौहार का विरोध किया। हिंदूवादी संगठन के इस हरकत पर न केवल ईसाई समाज ने आपत्ति जताई है बल्कि कई हस्तियों ने इसकी निंदा की है।

जानकारी के मुताबिक सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा वीडियो क्रिसमस की पूर्व संध्या का है। वायरल वीडियो में देखा जा सकता है कि बड़ी संख्या में इकट्ठा हुए लोग सेंटा क्लॉस हाय-हाय, सेंटा क्लॉस वापस जाओ व जय श्रीराम के नारे लगा रहे हैं। बजरंग दल कार्यकर्ताओं का कहना था कि देश में हिंदुत्व चलेगा न की ईसाइयत। 

यह भी पढ़ें: पीएम मोदी ने BJP को मजबूत बनाने के लिए दिए 1000 रुपए, अटल जयंती पर छेड़ी चंदा जुटाने की मुहिम

प्रदर्शन के दौरान वहां मौजूद बजरंग दल के नेताओं का कहना था कि, 'क्रिसमस के नाम पर ईसाई समुदाय के लोग बच्चों को बहलाते-फुसलाते हैं और उन्हें ईसाईयत की ओर धकेलने का प्रयास करते हैं। क्रिसमस पर सैंटा क्लॉज कोई तोहफा लेकर नहीं आता है बल्कि यह धर्मांतरण कराने आता है। हिंदू समुदाय को इससे सावधान रहना चाहिए।'

अंतरराष्ट्रीय हिंदू परिषद के महामंत्री अज्जू चौहान ने धमकी देते हुए कहा है कि क्रिसमस या न्यू ईयर मनाते कोई दिखेगा तो उसे हम स्वयं सजा देंगे। हिंदूवादी संगठनों के इन करतूतों पर सोशल मीडिया यूजर्स भड़के हुए नजर आए। फ़िल्म मेकर विनोद कापड़ी ने पीएम मोदी पर निशाना साधते हुए लिखा कि, 'सात साल में नरेंद्र मोदी की उपलब्धियों में से एक- ये नफरती नया भारत। सेंटा क्लॉस को जूते मारने की तस्वीर, जो आपने कभी नहीं देखी होगी।' 

उत्तर प्रदेश के रिटायर्ड आईएएस सूर्य प्रताप सिंह ने लिखा कि, 'दूसरे धर्मों का सम्मान करना इन जोकरों को नहीं आता। सर्व धर्म संभाव का अर्थ इनकी बुद्धि में नहीं समाता।' बता दें कि यह पहली बार नहीं है जब हिंदूवादी संगठनों ने क्रिसमस का विरोध किया है, बल्कि हर साल वे इस तरह की हरकतें करते रहे हैं। उधर स्वयं प्रधानमंत्री मोदी व राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने देशवासियों को क्रिसमस की बधाई दी है।