Bihar Elections 2020: चिराग पासवान ने नीतीश को बताया महिषासुर का स्वरूप

Chirag Paswan: चिराग पासवान ने दिया नया नारा, नीतीश कुआं तो तेजस्वी खाई, एलजेपी-बीजेपी सरकार बनाई

Updated: Nov 02, 2020, 04:08 PM IST

Bihar Elections 2020: चिराग पासवान ने नीतीश को बताया महिषासुर का स्वरूप
Photo Courtesy: Asianet

पटना। बिहार विधानसभा चुनाव में जनरल डायर और औरंगजेब के बाद अब महिषासुर की एंट्री हो गई है। नीतीश कुमार के इन दिनों सबसे प्रबल विरोधी बने हुए एलजेपी सुप्रीमों चिराग पासवान ने उन्हें महिषासुर का नाम दिया है। चिराग ने कहा है कि मां दुर्गा के भक्तों पर गोलियां चलवाने वाले नीतीश महिषासुर के स्वरूप हैं। चिराग ने इसके साथ ही एक नया नारा भी दिया, 'नीतीश कुआं तो तेजस्वी खाई, एलजेपी-बीजेपी सरकार बनाई।'

एलजेपी चीफ़ चिराग ने सोमवार को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान मुंगेर गोलीकांड को लेकर सीएम पर निशाना साधते हुए कहा, 'दुर्गा मां की प्रतिमा के विसर्जन के दौरान भक्तों पर गोली चलवा दी। वो महिषासुर के स्वरूप हैं।' चिराग का कहना है कि सीएम के कहने पर ही मुंगेर में भक्तों पर गोलियां चलाई गई थी।

और पढ़ें: लालू यादव ने कहा बिहार और दिल्ली में डबल इंजन नहीं ट्रबल इंजन सरकार है

उन्होंने कहा, 'निर्दोष लोगों और दुर्गा भक्तों पर आपकी पुलिस द्वारा गोली चलाने से बड़ा अपराध क्या हो सकता है। सभी जानते हैं कि दुर्गा पूजा के दौरान भीड़ बढ़ जाती है, तो क्या आप लोगों की भीड़ को नियंत्रित करने के लिए गोली मार देंगे?' बता दें कि बीते दिनों दशहरा के मौके पर मूर्ति विसर्जन के दौरान हिंसा में पुलिस के गोली से एक व्यक्ति की मौत हुई थी वहीं कई घायल हो गए।

बिहार बीजेपी से नहीं है कोई लेना देना

प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान चिराग ने बिहार बीजेपी के नेताओं पर भी तल्ख टिप्पणी की है। चिराग ने कहा है कि हमारी पार्टी का बिहार बीजेपी के नेताओं से कोई लेना देना नहीं है, क्योंकि वह भी सीएम नीतीश के जैसे ही हो गए हैं। एलजेपी सुप्रीमो ने कहा, 'हमारी पार्टी सिर्फ नरेंद्र मोदी और उनकी सोंच के साथ है। पीएम मोदी ने पोस्टरों से नीतीश को गायब कर दिया है।'

और पढ़ें: पीएम मोदी बोले, मां तुम छठ शान से मनाओ, दिल्ली में तुम्हारा बेटा बैठा है

पलटूराम के तौर पर विख्यात हैं नीतीश

चिराग ने इस दौरान नीतीश को निशाने पर लेते हुए कहा कि, 'सीएम पर पिछले 15 वर्षों से सुशासन बाबू का टैग लगा हुआ है। लेकिन अब उनकी लूट उजागर हो रही है। उन्हें देशभर में पलटूराम के रूप में जाना जाता है क्योंकि वह लालू के खिलाफ थे और फिर 2015 में उनके साथ सरकार बनाई थी। इसके बाद उन्हें भी छोड़ दिया फिर बीजेपी के साथ हो लिए। वैसे खुद चिरास पासवान की पार्टी की पहचान राजनीति के मौसम विज्ञान से जुड़ी रही है। सत्ता जिसके पास एलजेपी उसके साथ के तहत उनकी पार्टी केंद्र में अलग-अलग विचारधाराओं और रंगों की सरकारों में शामिल होती रही है।