इस्लाम की तरह तलवार के बल पर TMC में शामिल हो रहे हैं नेता, बीजेपी नेताओं पर फर्जी मुकदमे: कैलाश विजयवर्गीय

कैलाश विजयवर्गीय ने कहा कि पश्चिम बंगाल में भाजपा नेताओं पर कई झूठे मुकदमे दर्ज किए गए हैं, टीएमसी सरकार लोगों को किल करने पर तुली हुई है, इसी वजह से लोग बीजेपी छोड़ टीएमसी में जा रहे हैं

Updated: Nov 03, 2021, 10:13 AM IST

इस्लाम की तरह तलवार के बल पर TMC में शामिल हो रहे हैं नेता, बीजेपी नेताओं पर फर्जी मुकदमे: कैलाश विजयवर्गीय

इंदौर। पश्चिम बंगाल में बीजेपी नेताओं के टीएमसी में शामिल होने को लेकर बीजेपी महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने विवादित बयान दे डाला है। कैलाश विजयवर्गीय ने बीजेपी नेताओं के टीएमसी में शामिल होने की तुलना इस्लाम से करते हुए कहा है कि जैसे इस्लाम तलवार के बल पर आग, वैसे ही लोग तलवार के बल पर टीएमसी में शामिल हो रहे हैं। इतना ही नहीं बीजेपी नेता ने यह कहा कि यह दोनों घटनाएं एक जैसी ही हैं।

कैलाश विजयवर्गीय ने यह बात मंगलवार को इंदौर में पत्रकारों से बातचीत करते हुए कही। कैलाश विजयवर्गीय ने कहा कि बंगाल में हमारे लोगों पर झूठे मुकदमे दर्ज किए जाते हैं। एक एक व्यक्ति पर 40-50 मुकदमे दर्ज किए गए हैं। खुद हमारे सांसद अर्जुन सिंह पर 120 मुकदमे दर्ज किए गए हैं। जिसमें चोरी, हत्या, डकैती, भ्रष्टाचार के फर्जी मामले हैं। कैलाश विजयवर्गीय ने कहा है कि हमारे नेताओं को केस में उलझा दिया गया है। 

भाजपा नेता ने कहा कि इस तरह से जब प्रदेश की सरकार लोगों को किल करने पर तुली रहेगी तो आदमी वहां कैसे जी पाएगा? इसलिए जो कोई भी टीएमसी में शामिल हो रहा है, वह तलवार के बल पर ही शामिल हो रहा है। यह ठीक वैसा ही है जैसे देश में तलवार के बल पर इस्लाम आया था। 

यह भी पढ़ें : बंगाल में बीजेपी के पिछड़ने पर अभिषेक बनर्जी का तंज़, भाजपा को पटाखा रहित दिवाली की शुभकामनाएं

दरअसल पश्चिम बंगाल में बीजेपी के विधायकों की संख्या 77 से घटकर अब 75 हो गई है। मंगलवार को पश्चिम बंगाल की चार विधानसभा सीटों शांतिपुर, खड़दहा, दिनहाता और गोसाबा पर हुए उपचुनाव के परिणाम आए। इन चारों सीटों पर टीएमसी ने अपना कब्जा जमा लिया। बीते विधानसभा चुनावों में शांतिपुर और दिनहाता पर बीजेपी ने अपनी जीत दर्ज की थी। 

पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव के परिणाम आने के बाद से ही बीजेपी के कई नेता टीएमसी में शामिल हुए हैं। विधानसभा चुनाव में बीजेपी के लिए अहम भूमिका निभाने वाले मुकुल रॉय तक ने टीएमसी में वापसी कर ली। खुद केंद्र में मंत्री रहे बाबुल सुप्रियो ने अक्टूबर महीने में टीएमसी की सदस्यता ग्रहण कर ली।