रातोंरात करोड़पति बना केरल का ये ऑटो ड्राइवर, लगी 12 करोड़ की लॉटरी

कर्ज में डूबे थे ऑटो ड्राइवर जयपानल पी आर, रातोंरात बदल गई किस्मत, ओणम बंपर लॉटरी में जीते 12 करोड़ रुपए

Updated: Sep 22, 2021, 09:47 AM IST

रातोंरात करोड़पति बना केरल का ये ऑटो ड्राइवर, लगी 12 करोड़ की लॉटरी

कोच्चि। केरल के एक ऑटो चालक की किस्मत रातोंरात बदल गई है। यह ऑटो ड्राइवर राज्य सरकार द्वारा स्थापित 12 करोड़ रुपये की थिरुवोनम बम्पर लॉटरी का विजेता बन गया है। ऑटो चालक का परिवार ये विश्वास नहीं कर पा रहा है कि उन्हें 12 करोड़ रुपए की लॉटरी लग गई है। हालांकि, जब उन्होंने यह सुनिश्चित कर लिया कि खबर पुख्ता है तब खुशी से झूम उठे।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक लॉटरी विजेता शख्स का नाम जयपानल पी आर है। बताया जा रहा है कि 58 वर्षीय जयपानल ऑटो चलाकर अपने परिवार का भरण पोषण करते हैं। वे कोच्चि के पास स्थित मराडू में अपनी 95 वर्षीय मां, पत्नी और दो बच्चों के साथ रहते हैं। 

यह भी पढ़ें: दीपिका ने पीवी सिंधु के साथ आजमाए दो दो हाथ, फैंस ने पूछा कब आ रही है बायोपिक

जयपालन ने स्थानीय मीडिया कर्मियों को बताया कि उन्होंने मीनाक्षी लकी सेंटर से लॉटरी का टिकट खरीदा था। टिकट 300 रुपये की थी। जयपानल के मुताबिक वे नियमित रूप से लॉटरी टिकट खरीदते हैं और पहले भी 5,000 रुपये कैश प्राइज जीत चुके हैं। हालांकि, उन्हें 12 करोड़ की लॉटरी लगेगी इस बात का आंदाजा नहीं था।

बताया जा रहा है कि इस लॉटरी के नतीजे ओणम के अगले दिन जारी किए गए थे। जयपानल के मुताबिक उन्हें जब टीवी के जरिए बंपर प्राइज जीतने का पता चला तो पहले विश्वास ही नहीं हुआ। अगले दिन उन्होंने अखबार से फैंसी नंबर और अपने टिकट के नंबर को मिलाया तब जाकर उन्हें यकीन हुआ। इसके बाद वे टिकट लेकर सीधा बैंक पहुंचे।

यह भी पढ़ें: पीडीपी चीफ महबूबा मुफ्ती का बीजेपी पर तंज, इस देश में सिर्फ भाजपा ही हिंदुस्तानी बची है

टैक्स और एजेंसी का कमीशन काटकर 7 करोड़ 40 लाख रुपए मिलने की उम्मीद है। पुरस्कार की राशि का क्या करेंगे यह पूछने पर उन्होंने बताया कि उन्होंने कुछ कर्ज ले रखी है। सबसे पहले वे कर्ज चुकाएंगे। वह अपने बच्चों को अच्छी शिक्षा देना चाहते हैं। साथ ही आर्थिक तंगी से जूझ रहे अपनी बहनों को भी मदद करना चाहते हैं। जयपानल की मां ने एक न्यूज चैनल से कहा कि, 'हम कर्ज में डूबे हुए थे। अगर यह लॉटरी नहीं लगती तो मेरा बेटा उसे चुका नहीं पाता। मुझे लगता है कि भगवान ने मेरे आंसू देखे और हमारी मदद की।'