आप अपनी जिम्मेदारी से भाग रहे हैं, लखीमपुर मामले में SC ने योगी सरकार को लगाई फटकार

सुप्रीम कोर्ट ने आज लखीमपुर खीरी नरसंहार मामले की सुनवाई के दौरान कहा कि हम कल रात एक बजे तक स्टेटस रिपोर्ट का इंतजार करते रहे, लेकिन आपने आज आखिरी क्षणों में स्टेटस रिपोर्ट फाइल की है

Updated: Oct 20, 2021, 02:41 PM IST

आप अपनी जिम्मेदारी से भाग रहे हैं, लखीमपुर मामले में SC ने योगी सरकार को लगाई फटकार
Photo Courtesy: ABP

नई दिल्ली। लखीमपुर खीरी नरसंहार मामले में सुप्रीम कोर्ट ने आज उत्तर प्रदेश सरकार की कड़ी फटकार लगाई है। शीर्ष न्यायालय ने योगी सरकार को कहा है की आप अपनी जिम्मेदारी से भाग रहे हैं। ऐसा न करें। न्यायालय की यह टिप्पणी इसलिए आई है क्योंकि प्रदेश सरकार ने अपनी स्टेटस रिपोर्ट आज फाइल की। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि आपने आखिरी क्षणों में स्टेटस रिपोर्ट दी है।

चीफ जस्टिस एनवी रमन्ना की अगुवाई वाली बेंच ने मामले की सुनवाई के दौरान कहा, 'कल रात 1 बजे तक हम स्टेटस रिपोर्ट का इंतजार करते रहे की कुछ मटेरियल मिल जाए। आपकी स्टेट्स रिपोर्ट हमें अभी आखिरी क्षणों में मिली है। आपको कम से कम 1 दिन पहले तो रिपोर्ट फ़ाइल करनी चाहिए।' जस्टिस रमन्ना ने उत्तर प्रदेश सरकार से पूछा कि आपने कुल 44 लोगों में मात्र 4 की गवाही ली है, बाकियों की गवाही क्यों नहीं ली गई? यूपी सरकार के वकील हरीश साल्वे ने इस पर जवाब दिया कि फिलहाल इसकी प्रक्रिया चल रही है।

यह भी पढ़ें: आगरा में पुलिस कस्टडी में हुई दलित युवक की मौत, प्रियंका गांधी ने की उच्चस्तरीय जांच की मांग

न्यायालय ने यह भी पूछा कि कितने लोग न्यायिक हिरासत में हैं और कितने लोग पुलिस हिरासत में हैं। हरीश साल्वे ने इसपर बताया कि फिलहाल 4 आरोपी पुलिस हिरासत में हैं। 6 आरोपी पहले पुलिस हिरासत में थे जिन्हें अब न्यायिक हिरासत में रखा गया है। सरकार की ओर से और वक्त मांगे जाने के बाद कोर्ट ने आज कार्यवाही को स्थगित कर दिया। शीर्ष अदालत ने मामले की अगली सुनवाई 26 अक्टूबर तक के लिए टाल दिया है।

बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने दो वकीलों ने इस मामले में सीजेआई को पत्र लिख कर हाई लेवल न्यायिक जांच की मांग की थी। इसके बाद सुप्रीम कोर्ट ने स्वतः संज्ञान लेते हुए सुनवाई प्रारंभ किया। सुप्रीम कोर्ट ने इसके पहले की सुनवाई के दौरान भी यूपी सरकार को कड़ी फटकार लगाई थी। सुप्रीम कोर्ट ने पुलिस की कार्रवाई से असंतोष जाहिर किया था। न्यायालय के दबाव के बाद ही मामले में केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा टेनी के बेटे को पुलिस ने गिरफ्तार किया था।