Maharashtra political crisis live: उद्धव ठाकरे ने छोड़ा सरकारी बंगला, कुछ देर पहले किया कुर्सी छोड़ने की पेशकश

उद्धव ठाकरे ने कहा कि, 'मुझे कुर्सी से मोह नहीं है। मेरा इस्तीफा तैयार है। मैं सीएम पद छोड़ने के लिए तैयार हूं। मेरे पद छोड़ने के बाद कोई शिवसैनिक सीएम बनेगा तो मुझे खुशी होगी। लेकिन मुझे सामने आकर आप बताएं। संकोच है तो फोन पर बात करें। एक भी विधायक सामने आकर इस्तीफा मांगे मैं खुशी खुशी दे दूंगा। शिवसेना अध्यक्ष का भी पद छोड़ने को मैं तैयार हूं।

Updated: Jun 22, 2022 10:50 PM IST

मुंबई। महाराष्ट्र सीएम उद्धव ठाकरे ने कहा है कि एकनाथ शिंदे मुंबई आएं और हमसे बात करें। इस्तीफा चाहिए तो सामने आकर बोलें। अगर आने में संकोच है तो फोन पर ही बात करें। हालांकि, उद्धव ठाकरे ने विधानसभा भंग करने संबंधी कोई बात नहीं कही है। उधर बागी गुट के 34 विधायकों ने राज्यपाल को पत्र लिखकर एकनाथ शिंदे को अपना नेता करार दिया है। साथ ही पार्टी पर अपना दावा ठोक दिया है। शिंदे कैंप के विधायकों को आज गुवाहाटी से इंफाल भेजने की तैयारी है। बताया जा रहा है कि गुवाहाटी में सेंधमारी की आशंका है।

मातोश्री के आगे जुटे हजारों शिवसैनिक

उद्धव ठाकरे का सरकारी आवास छोड़ने की खबर मीडिया में आते ही मातोश्री के बाहर शिवसैनिकों का जमावड़ा लग गया है। वे उद्धव ठाकरे और बालासाहब जिंदाबाद के नारे लगा रहे हैं। बता दें कि उद्धव ठाकरे सीएम हाउस वर्षा खाली कर परिवार समेत निकल मातोश्री चले गए। उनके साथ पत्नी रश्मि ठाकरे, दोनों बेटे आदित्य और तेजस ठाकरे भी सरकारी बंगला वर्षा से निजी आवास मातोश्री के लिए निकल गए। इसके बाद कर्मचारी उनका सामान निकाल रहे हैं।

सुप्रीम कोर्ट पहुंचा महाराष्ट्र सियासी संकट का मामला

सुप्रीम कोर्ट पहुंचा महाराष्ट्र सियासी संकट का मामला

महाराष्ट्र में सियासी हलचल के बीच कांग्रेस नेत्री जया ठाकुर ने सुप्रीम कोर्ट में अर्जी दायर की है। मांग की है कि दलबदल कानून के तहत शिवसेना के बागी विधायकों के खिलाफ कार्रवाई की जानी चाहिए। उन्होंने अपनी याचिका में अदालत से बागी विधायकों के चुनाव लड़ने से पांच साल तक रोक लगाने की मांग की है। 

शिवसैनिकों से इस्तीफ़े की पेशकश के बीच उद्धव ठाकरे ने सरकारी बंगला छोड़ दिया

शिवसैनिकों से इस्तीफ़े की पेशकश के बीच उद्धव ठाकरे ने सरकारी बंगला छोड़ दिया

बीते दो दिन से चल रहे महाराष्ट्र के सियासी संकट के बीच मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने सरकारी बंग्ला वर्षा को छोड़ दिया है। मीडिया खबरों के मुताबिक वो अपने पैतृक घर मातोश्री चले गए हैं। इससे पहले शाम पांच बजे विधायकों से मीटिंग के दौरान उन्होंने कहा था कि उन्हें कुर्सी से कोई मोह नहीं है, अगर शिव सेना विधायक उनके सामने आकर कहें कि वो उन्हें मुख्यमंत्री नहीं देखना चाहते तो वो मुख्यमंत्री पद और पार्टी के अध्यक्ष पद से भी इस्तीफा दे देंगे। 

उद्धव ठाकरे से मिलने पहुंचे शरद पवार

महाराष्ट्र में जारी सियासी हलचलों के बीच एनसीपी सुप्रीमो शरद पवार शिवसेना चीफ उद्धव ठाकरे से मिलने पहुंचे हैं। यह मीटिंग बेहद अहम माना जा रहा है।

मेरा इस्तीफा तैयार है: उद्धव

उद्धव ठाकरे ने कहा कि, 'मुझे कुर्सी से मोह नहीं है। मेरा इस्तीफा तैयार है। मैं सीएम पद छोड़ने के लिए तैयार हूं। मेरे पद छोड़ने के बाद कोई शिवसैनिक सीएम बनेगा तो मुझे खुशी होगी। लेकिन मुझे सामने आकर आप बताएं। संकोच है तो फोन पर बात करें। एक भी विधायक सामने आकर इस्तीफा मांगे मैं खुशी खुशी दे दूंगा। शिवसेना अध्यक्ष का भी पद छोड़ने को मैं तैयार हूं।

मुंबई आएं और मेरे मुंह पर बात करें: उद्धव

मुंबई आएं और मेरे मुंह पर बात करें: उद्धव

महाराष्ट्र सीएम उद्धव ठाकरे ने कहा है कि एकनाथ शिंदे मुंबई आएं और हमसे बात करें। इस्तीफा चाहिए तो सामने आकर बोलें। अगर आने में संकोच है तो फोन पर ही बात करें।

मैं मजबूर नहीं: उद्धव

उद्धव ठाकरे ने कहा कि सीएम पद छोड़ने के लिए मैं मजबूर नहीं हूं। मैं मजबूरीवश ये नहीं कह रहा हूं। मैने बहुत चुनौतियां देखी है। संख्या बल किसके पास है ये मेरे लिए मुद्दा नहीं है। बस जितने विधायक वहां गए हैं उनमें से एक भी बोल दे कि वे मुझे सीएम के तौर पर नहीं देखना चाहते, इस्तीफा देने को तैयार हूं। बस सामने आकर हमसे बातें करें। मेरे साथ शिवसैनिक गद्दारी न करें। मैं कुर्सी पकड़कर बैठने वाला नहीं हूं।

हिन्दुत्व और शिवसेना एक सिक्के के दो पहलूः उद्धव

उद्धव ठाकरे ने कहा कि जिस वक्त कोरोना का संकट आया था, तब मेरे पास ज्यादा अनुभव नहीं था। तब जो भी सर्वे किए जा रहे थे, उसमें देश के टॉप 5 मुख्यमंत्रियों में रहने का आशीर्वाद मुझे मिला था। हालांकि आज मैं कोरोना नहीं बल्कि दूसरे मुद्दों को लेकर आया हूं। उद्धव ठाकरे ने कहा कि पिछले दिनों हमने राम मंदिर का दौरा किया था, उस दौरान तो एकनाथ शिंदे भी हमारे साथ थे। बालासाहेब ठाकरे की मृत्यु के बाद हमने 2014 का चुनाव अपने दम पर लड़ा और हिंदुत्व के मुद्दे पर ही सफलता हासिल की थी। शिवसेना और हिंदुत्व एक ही सिक्के के दो पहलू हैं।

पद लेने के पीछे स्वार्थ नहीं: उद्धव

उद्धव ठाकरे ने कहा कि चुनाव के बाद बैठक से पहले मुझे शरद पवार ने कहा कि एनसीपी और कांग्रेस में बहुत सीनियर नेता हैं। साथ में काम करना है तो आपको नेतृत्व करना है। सोनिया गांधी ने भी मुझे नेतृत्व करने के लिए कहा। सोनिया जी अब भी फोन करती हैं। अगर एनसीपी कांग्रेस मुझे हटाना चाहती तो अलग बात थी। लेकिन मेरे पार्टी के लोग ही हटाना चाहते हैं। ये बात मुझे कह देते। उसके लिए सूरत जाने की क्या जरूरत है।

जनता की मदद से मुझे सीएम बनाया: उद्धव

उद्धव ठाकरे ने कहा कि, 'जो लोग बोल रहे थे कि 2014 से यह बालासाहब की शिवसेना नहीं रही। उन्हें कहना चाहता हूं कि इसी शिवसेना ने आपको मंत्री बनाया। जनता की मदद से मुझे सीएम बनाया गया था। मुझे विधायक फोन करते हैं कि हमें यहां बंदी बनाया गया है। मैने बिना अनुभव के जिम्मेदारी उठाई है। मैने बालासाहब को जो वचन दिया उसे पूरा करने के लिए ताकत से खड़ा हुआ।'

शाम सात बजे प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित कर सकते हैं शिंदे

आदित्य ठाकरे ने योगेश कदम से बात की है और उन्हें मनाने की कोशिश की है। उधर, एकनाथ शिंदे शाम सात बजे प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित कर सकते हैं। इस बीच, सीएम ठाकरे थोड़ी देर में फेसबुक लाइव आकर महाराष्ट्र की जनता को संबोधित करने वाले थे। लेकिन फिलहाल, उनके संबोधन में कुछ विलंब हो रहा है।

शिवसेना पर शिंदे ने ठोका दावा

शिवसेना ने व्हिप जारी कर अपने विधायकों को शाम को सीएम हाउस पहुंचने को कहा था। अब शिंदे ने कहा कि ये व्हिप अवैध है। इसके अलावा उन्होंने सुनील प्रभु को हटाकर भरत गोगावले को अपना चीफ व्हिप नियुक्त किया है। यानी शिंदे अब खुद शिवसेना पर दावा ठोक रहे हैं। इसके साथ ही उन्होंने 34 विधायकों के समर्थन वाली चिट्ठी राज्यपाल और डिप्टी स्पीकर को सौंप दी है।

शिंदे ने नियुक्त किया अपना चीफ व्हिप

महाराष्ट्र में अब सत्ता संघर्ष तेज हो गया है। एकनाथ शिंदे ने अपने चीफ व्हिप की घोषणा कर दी है। अर्थात शिवसेना में दो फाड़ हो गया है। शिंदे ने भरत गोगावले को शिवसेना विधायक दल का मुख्य सचेतक नियुक्त किया है। उन्होंने बुधवार शाम विधायक दल की बैठक के संबंध में सुनील प्रभु द्वारा जारी आदेश को अवैध करार दिया है। इसका तकनीकी मतलब यह है कि एकनाथ शिंदे अब खुद को शिवसेना विधायक दल का नेता बताते हुए बीजेपी के सहयोग से सरकार बनाने का दावा पेश करेंगे।

कैबिनेट बैठक समाप्त

उद्धव सरकार की कैबिनेट बैठक समाप्त हो चुकी है। इस बैठक में किस बात को लेकर सहमति बनी यह फिलहाल स्पष्ट नहीं है। हालांकि, ये खबर जरूर आई है कि मीटिंग से आठ मंत्री नदारद थे।

कांग्रेस के सभी विधायक एकजुट: थोराट

कांग्रेस विधायक दल की बैठक के बाद पार्टी नेता बालासाहेब थोराट ने कहा कि हमारे सभी 44 विधायक पार्टी के साथ हैं। उन्होंने कहा कि 44 में से 41 विधायक बैठक में शामिल हुए, जबकि तीन रास्ते में हैं। पार्टी के ऑब्जर्वर कमलनाथ ने कहा, 'भाजपा ने जो राजनीति शुरू की है वह धन और बाहुबल की है जो संविधान के खिलाफ है। मैंने इसे बहुत देखा है। उद्धव ठाकरे के नेतृत्व में शिवसेना में एकता कायम होगी।'

कैबिनेट बैठक के लिए पहुंचे मंत्री

महाराष्ट्र सरकार की कैबिनेट बैठक के लिए कांग्रेस नेता बालासाहेब थोराट, नितिन राउत, वर्षा गायकवाड़, असलम शेख और राकांपा के जितेंद्र आव्हाड पहुंच गए हैं। सीएम उद्धव ठाकरे कोरोना संक्रमित होने के कारण वर्चुअली बैठक में शामिल होंगे। सीएम ठाकरे का एंटीजन टेस्ट रिपोर्ट पॉजिटिव आया है। उनका सैंपल आरटीपीसीआर टेस्ट के लिए भी भेजा गया है।

शाम 5 बजे शिवसेना ने बुलायी विधायकों की बैठक, सीएम हाउस पर एकजुट होंगे पार्टी नेता

खबर है कि शिवसेना ने अपने सभी विधायकों को सीएम आवास पर तलब किया है। उन्हें आज शाम पांच बजे उद्धव ठाकरे के निवास पर एकत्रित होना है। इस बीच मीडिया में ये कयास लगाए जा रहे हैं कि उद्धव ठाकरे विधानसभा भंग करने का ऐलान कर सकते हैं। बागी शिवसेना नेता और मंत्री रहे एकनाथ शिंदे के साथ गुवाहाटी में करीब चालीस एमएलए होने की बात कही जा रही है।   

कमलनाथ: उद्धव ठाकरे बोले विधानसभा भंग करने का प्रस्ताव नहीं

मुंबई पहुंचे कांग्रेस नेता कमलनाथ ने कहा है कि उद्धव ठाकरे से उनकी फोन पर बात हुई है और उनका कहना है कि ुद्धव अभी विधान सभा भंग करने के प्रस्ताव पर मुहर नहीं लगा रहे हैं

राज्यपाल अस्पताल में भर्ती

राज्यपाल अस्पताल में भर्ती

महाराष्ट्र में जारी सियासी घमासान दिलचस्प मोड़ लेता जा रहा है। थोड़ी देर पहले कमलनाथ ने ऐलान किया कि सीएम ठाकरे कोरोना संक्रमित हैं। अब खबर आ रही है कि राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी को भी अस्पताल में भर्ती कराया गया है। उन्हें भी कोरोना के लक्षण बताए गए हैं। शिवसेना के बागी नेता एकनाथ शिंदे ने राज्यपाल से मिलने का समय मांगा था। हालांकि, यदि उनकी रिपोर्ट पॉजिटिव आती है तो वे मिल नहीं पाएंगे।

कोरोना संक्रमित हैं उद्धव ठाकरे: कमलनाथ

राज्य में जारी सियासी संकट के बीच कांग्रेस ऑब्जर्वर कमलनाथ का बड़ी जानकारी दी है। कमलनाथ ने बताया है कि उद्धव ठाकरे कोरोना संक्रमित हैं, इसलिए उनसे मुलाकात नहीं कर सकता।

आदित्य ठाकरे ने बदला ट्विटर बायो

आदित्य ठाकरे ने बदला ट्विटर बायो

राज्य में जारी सियासी घमासान के बीच सीएम उद्धव ठाकरे के बेटे आदित्य ठाकरे ने अपने ट्विटर प्रोफाइल के बायो से से मंत्रीपद का विवरण हटा दिया। ऐसे में अब माना जा रहा है कि शिवसेना विधानसभा भंग करने की तैयारी में है।

कांग्रेस MLA बिकाऊ नहीं: कमलनाथ

महाराष्ट्र कांग्रेस पर्यवेक्षक कमलनाथ ने मुंबई पहुंचते ही कहा कि, ‘आज देश में सौदे की राजनीति हो रही है। मध्य प्रदेश का उदाहरण आप जानते हैं। ये राजनीति हमारे संविधान के विपरीत है और भविष्य के लिए खतरे की बात है। शिवसेना को खुद तय करना है कि वे अपने विधायकों से कैसे बात करेंगे। कांग्रेस के विधायक बिकाऊ नहीं हैं।'

मुंबई में बैठकों का दौरा जारी

मुंबई में बैठकों का दौरा जारी

महाराष्ट्र में जारी सियासी घमसान के बीच एनसीपी प्रमुख शरद पवार मुंबई के वाईबी चव्हाण केंद्र पहुंचे। राज्य के गृहमंत्री दिलीप वलसे पाटिल, मंत्री जयंत पाटिल और बालासाहेब पाटिल ने आज सुबह उनसे उनके आवास पर मुलाकात की थी। उधर कांग्रेस की ओर से ऑब्जर्वर बनाकर भेजे गए कमलनाथ भी पार्टी नेताओं के साथ बैठक कर रहे हैं। थोड़ी देर में कैबिनेट बैठक भी शुरू होने वाली है।

खरीद फरोख्त कर रही बीजेपी: गहलोत

महाराष्ट्र में मौजूदा राजनीतिक संकट पर राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा, 'ये कहां की प्रक्रिया है? राज्यसभा चुनाव में भी हॉर्स ट्रेडिंग करते हैं। पहले मध्य प्रदेश फिर राजस्थान, उस समय से ही महाराष्ट्र इनके टारगेट पर चल रहा था। अंदर ही अंदर षड्यंत्र किया, वो षड्यंत्र बाहर आ गया। देश देख रहा है। कल्पना कीजिए अगर हमारी सरकार को विदेशी मुल्क गिराने लग जाएं, तो देश का क्या होगा। आज बीजेपी के लोग हॉर्स ट्रेडिंग करके सरकारें गिरा रहे हैं।

विधानसभा भंग होने के संकेत

शिवसेना नेता एकनाथ शिंदे के बगावती तेवर की वजह से सियासी घमासान मचा हुआ है। इस बीच, खबर है महाराष्ट्र विधानसभा भंग हो सकती है। ऐसे संकेत शिवसेना नेता और राज्‍यसभा सांसद संजय राउत ने ट्वीट कर दिए। उन्होंने ट्वीट किया, 'महाराष्ट्र में जो राजनीतिक हलचल है, वो विधानसभा भंग करने की दिशा में बढ़ रही है।'

BJP के साथ सरकार बनाएं: शिंदे

BJP के साथ सरकार बनाएं: शिंदे

गुवाहाटी एयरपोर्ट पर एकनाथ शिंदे ने एक बार फिर कहा कि वह बालासाहेब ठाकरे के हिंदुत्व ​​​​को आगे ले जाएंगे। उन्होंने सूरत एयरपोर्ट पर भी कहा था कि उन्होंने बालासाहेब ठाकरे का हिंदुत्व नहीं छोड़ा है। उन्होंने कहा था, 'मैं चाहता हूं कि भाजपा के साथ मिलकर उद्धव ठाकरे सरकार बनाएं।' हालांकि, शिवसेना ने साफ कर दिया है कि भले सरकार चली जाए लेकिन प्रतिष्ठा के साथ समझौता नहीं किया जाएगा। बीजेपी ने जिस तरह अपमानित किया था उसे शिवसैनिक नहीं भूलेंगे।