ममता बनर्जी का बीजेपी पर पलटवार, दुनिया की सबसे बड़ी वसूली करने वाली पार्टी बताया

पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी ने हल्दिया की चुनावी रैली में कहा, अपने आपको टैगोर, विवेकानंद समझते हैं मोदी, एक दिन खुद पर रख देंगे देश का नाम

Updated: Mar 20, 2021, 07:28 PM IST

ममता बनर्जी का बीजेपी पर पलटवार, दुनिया की सबसे बड़ी वसूली करने वाली पार्टी बताया
Photo Courtesy : Livemint.com

हल्दिया। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने अपनी चुनावी रैली में बीजेपी पर करारा पलटवार किया है। ममता ने कहा कि बीजेपी दुनिया की सबसे तोलाबाज़ यानी वसूली करने वाली पार्टी है। बीजेपी नेता ममता बनर्जी की पार्टी तृणमूल कांग्रेस को तोलाबाज़ पार्टी बताकर उस पर निशाना साधते रहे हैं। आज ममता ने वही आरोप बीजेपी पर लगा दिया। इतना ही नहीं, उन्होंने प्रधानमंत्री पर सीधा हमला करते हुए कहा कि नरेंद्र मोदी खुद को कभी विवेकानंद तो कभी टैगोर समझते हैं। जिस तरह क्रिकेट स्टेडियम का नाम अपने ऊपर रखा, वैसे ही एक दिन देश का नाम भी खुद पर रख देंगे।

यह भी पढ़ें : बंगाल बीजेपी में टिकट बँटवारे पर घमासान, कई जगहों पर ग़ुस्साए कार्यकर्ताओं ने तोड़फोड़ की

ममता ने हल्दिया में बीजेपी को तोलाबाज़ यानी वसूली करने वाली पार्टी बताते हुए पीएम केयर फंड का उदाहरण दिया। उन्होंने कहा कि कोरोना के नाम पर पता नहीं कितने पैसे वसूल लिए, जिसका हिसाब तक बताने को तैयार नहीं हैं। ममता ने कहा कि बीजेपी राज्य में दंगा फैलाने की साजिश करती है। दलित लड़ियों को प्रताड़ित करती है, उनके साथ अत्याचार करती है। राज्य के लोग शान्ति से रहना चाहते हैं। ममता ने कहा कि जिस पार्टी ने लोगों की हत्याएं करवाई, राज्य में दंगे फैलाए उन्हें कभी शासन मत करने देना। 

ममता ने बीजेपी पर तो जमकर हमला बोला ही, लेकिन उन्होंने प्रधानमंत्री मोदी को भी घेरने में कोई कसर नहीं छोड़ी। ममता ने कहा कि मोदी कभी खुद को टैगोर समझने लगते हैं, कभी खुद को विवेकानंद समझने लगते हैं। उन्होंने क्रिकेट स्टेडियम का नाम भी अपने नाम पर रखवा ही लिया है। किसी दिन देश का नाम भी अपने ही नाम पर रखने के लिए कहेंगे। ममता ने मोदी सरकार के सरकारी कंपनियों, बैंकों को बेचने की योजना का विरोध करते हुए कहा कि यह सरकार सब कुछ बेचने पर तुली हुई है। ममता ने कहा कि कोयला, रेलवे और बैंकों के साथ ही ये लोग किसी दिन हल्दिया बंदरगाह को भी बेच देंगे। 

यह भी पढ़ें : कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी का वार, बीजेपी और ममता बनर्जी ने मिलकर गिराया चुनाव का स्तर

चुनावों से ठीक पहले ममता बनर्जी ने ईवीएम का मसला भी उठाया। उन्होंने कहा कि चुनाव से पहले कम से कम 30 बार ईवीएम की जांच होनी चाहिए, ताकि यह देखा जा सके कि कहीं ईवीएम में किसी तरह की गड़बड़ी तो नहीं है।