कायर हैं पीएम मोदी, चीन के सामने झुका दिया सिर, राहुल गांधी का मोदी पर निशाना

राहुल गांधी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर पीएम मोदी पर किया हमला, बोले- मोदी जवानों के बलिदान पर थूक रहे हैं, चीन को दे दी है हिंदुस्तान की जमीन, चीन ने भारत मां के टुकड़े पर कर लिया है कब्जा

Updated: Feb 12, 2021, 12:52 PM IST

कायर हैं पीएम मोदी, चीन के सामने झुका दिया सिर, राहुल गांधी का मोदी पर निशाना
Photo Courtesy: Freepress Journal

नई दिल्ली। कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने भारत-चीन सीमा पर डिसइंगेजमेंट को लेकर केंद्र की मोदी सरकार पर हमला बोला है। राहुल ने कहा कि पैंगोंग झील इलाके में हमारे सैनिक फिंगर 3 पर तैनात रहेंगे, जबकि हमारा इलाका फिंगर 4 है। कांग्रेस नेता ने प्रधानमंत्री मोदी को कायर करार देते हुए कहा है कि वह देश के जवानों के बलिदान पर थूक रहे हैं। उन्होंने कहा है कि मोदी ने चीन को हिंदुस्तान की जमीन सौंप दी है और चीन भारत मां के टुकड़े पर कब्जा कर लिया है।

कांग्रेस नेता ने आज सुबह प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान कहा, 'हिंदुस्‍तान की सरकार नेगोशिएटिंग पोजिशन में थी कि अप्रैल 2020 में जो हालात थे, वही बहाल हो। उसको सरकार भूल गई। चीन के सामने नरेंद्र मोदी ने अपना सिर झुका दिया। माथा टेक दिया। हमारी जमीन फिंगर 4 तक है। नरेंद्र मोदी ने फिंगर 3 से फिंगर 4 की जमीन चीन को पकड़ा दी।'

सेना के बलिदान को धोखा दे रहे हैं मोदी

राहुल ने पूछा है कि पीएम मोदी ने भारतीय क्षेत्र को चीन को क्यों दिया? इसका जवाब उन्हें और रक्षा मंत्री को देना चाहिए। उन्होंने कहा, 'सेना को कैलाश रेंज से पीछे हटने के लिए क्यों कहा गया? देपसांग प्लेन्स से चीन वापस क्यों नहीं गया? प्रधानमंत्री एक कायर हैं, जो चीन के खिलाफ खड़े नहीं हो सकते। यही तथ्य है। वे हमारी सेना के जवानों के बलिदान पर थूक रहे हैं। वे सेना के बलिदान को धोखा दे रहे हैं। भारत में किसी को भी ऐसा करने की इजाजत नहीं दी जानी चाहिए। नरेंद्र मोदी इस पर क्यों नहीं बोल रहे हैं। वे आकर देश को बताएं कि मैने भारत की जमीन चीन को दे दी है।' 

डिसइंगेजमेंट के बदले देश को क्या मिला? 

राहुल ने डिसइंगेजमेंट के नतीजे पर सवाल खड़ा किया है कि इसके बदले भारत को क्या मिला। उन्होंने कहा कि देश को इससे कुछ हासिल नहीं हुआ। कांग्रेस नेता ने कहा, 'मजबूत स्थिति में पहुंच जाने के बाद सेना को पीछे हटने के लिए क्‍यों कहा गया है। कड़ी मेहनत के बाद भारतीय सेना ने जो कुछ हासिल किया, अब उनसे क्‍यों पीछे हटने को कहा गया है? इसके बदले भारत को क्‍या मिला है? सबसे जरूरी बात ये है कि देपसांग प्‍लेन्‍स में चीनी सैनिक पीछे क्‍यों नहीं हटे हैं? वे गोगरा और हॉट स्प्रिंग्‍स से पीछे क्‍यों नहीं गए हैं? हिंदुस्‍तान की पवित्र जमीन नरेंद्र मोदी ने चीन को पकड़ाई है। यही सच्चाई है।'

गौरतलब है कि कल रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने राज्यसभा में भारत-चीन सीमा विवाद को लेकर हुई सहमति पर स्थिति स्पष्ट की। उन्होंने बताया कि पेंगोंग झील के उत्तरी और दक्षिणी तटों से दोनों देशों की सेना पीछे हटने लगी है। उन्होंने कहा कि कई मुद्दों पर चीन के साथ सहमति बन गई है और जल्द ही लाइन ऑफ कंट्रोल पर यथास्थिति बहाल हो जाएगी। इसके पहले चीन के रक्षा मंत्रालय ने बुधवार को कहा था कि दोनों देशों के अग्रिम मोर्चे पर तैनात सैनिक पीछे झील के किनारे से हटना शुरू हो गए हैं।