राजस्थान कांग्रेस ने पारित किया राहुल गांधी को राष्ट्रीय अध्यक्ष बनाने का प्रस्ताव, हाईकमान को फैसले का अधिकार

कांग्रेस डेलिगेट्स की बैठक में सीएम अशोक गहलोत ने राहुल गांधी को अध्यक्ष बनाने का रखा प्रस्ताव रखा.. पक्ष में मौजूद नेताओं ने हाथ खड़े कर दी सहमति

Updated: Sep 18, 2022, 09:56 AM IST

राजस्थान कांग्रेस ने पारित किया राहुल गांधी को राष्ट्रीय अध्यक्ष बनाने का प्रस्ताव, हाईकमान को फैसले का अधिकार

जयपुर। राजस्थान कांग्रेस ने राहुल गांधी को पार्टी अध्यक्ष बनाए जाने का एक प्रस्ताव पारित किया है।साथ ही कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को पार्टी की राज्य इकाई के प्रमुख और अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के सदस्यों को नियुक्त करने के लिए भी अधिकृत किया है। राजस्थान कांग्रेस का यह प्रस्ताव तब आया है जब ऐसी अटकलें लगाई जा रही थीं कि अशोक गहलोत कांग्रेस अध्यक्ष पद के लिए पार्टी के आला नेताओं की पसंद हो सकते हैं।

पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष बनाने को लेकर राजस्थान प्रदेश कांग्रेस कार्यालय में शनिवार को पीसीसी डेलीगेट्स की बैठक हुई। इस बैठक में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, प्रदेश प्रभारी अजय माकन, पीसीसी चीफ गोविंद सिंह डोटासरा सहित तमाम डेलीगेट्स मौजूद रहे। इस दौरान मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने राहुल गांधी को कांग्रेस का राष्ट्रीय अध्यक्ष बनाए जाने का प्रस्ताव रखा। पीसीसी डेलीगेट्स के सभी 400 सदस्यों ने हाथ खड़े करके सर्वसम्मति से इस प्रस्ताव को पास किया।

राजस्थान प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष गोविन्द सिंह डोटासरा ने इस दौरान कहा कि, 'राहुल गांधी द्वारा कन्याकुमारी से कश्मीर तक भारत जोड़ो पदयात्रा निकाली जा रही है। उसमें शामिल जनता के काफिले को देखकर मोदी एवं भाजपा समर्थक बौखलाए हुए हैं। राहुल गांधी की यात्रा को भारी समर्थन मिल रहा है। बाबा रामदेव जैसे आलोचक भी आज स्तब्ध हैं और यात्रा की तारीफ कर रहे हैं।'

इस दौरान सीएम गहलोत ने कहा कि, 'देश में जिस तरह का माहौल बना है वह देशहित में नहीं है। लोकतंत्र पर प्रहार हो रहा है। पहले भी संकट आए हैं किन्तु कांग्रेस पार्टी हमेशा मुश्किलों से उबरकर मजबूती के साथ खड़ी हुई है। पिछले 32 वर्षों से गांधी परिवार का कोई सदस्य सरकार में शामिल नहीं हुआ, किन्तु प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी परिवारवाद की बात करते हुए राहुल गांधी पर हमलावर रहते हैं। राहुल गांधी द्वारा निकाली जा रही भारत जोड़ो पदयात्रा से देश एकता के सूत्र में बंध रहा है। विचारधारा के आधार पर सभी कांग्रेस जन एक हैं और कोई किसी गुट में बंटा हुआ नहीं।'