Rajiv Tyagi Death: तेज हुई संबित पात्रा की गिरफ्तारी की मांग

Live Debate: पत्रकार और फ़िल्ममेकर विनोद कापड़ी ने कहा, सोच लो मेरे मीडिया के दोस्तों, ये नफरती व घिनौनी बहस करनी है या नहीं

Updated: Aug-13, 2020, 10:26 PM IST

Rajiv Tyagi Death: तेज हुई संबित पात्रा की गिरफ्तारी की मांग
courtsey : FressPress Journal

नई दिल्ली : कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता राजीव त्यागी की मौत के बाद देशभर में बीजेपी प्रवक्ता संबित पात्रा के गिरफ्तारी की मांग उठने लगी है। 52 वर्षीय कांग्रेस नेता की बुधवार (12 अगस्त) को दिल का दौरा पड़ने से निधन होने के बाद लोग टीवी एंकर्स और बीजेपी प्रवक्ता संबित पात्रा को भला-बुरा कह रहे हैं। इसी बीच यशोदा अस्पताल के एक डॉक्टर ने राजीव के निधन से जुड़े अहम जानकारियां साझा की है। सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे डॉक्टर के इस वीडियो में उन्होंने खुलासा किया है कि राजीव त्यागी डिबेट करते-करते ही अचानक कोलैप्स हो गए।

यशोदा हॉस्पिटल के डॉक्टर ने एक सवाल के जवाब में कहा, 'राजीव त्यागी अपने घर पर लाइव डिबेट में थे। डिबेट करते-करते वह 'Suddenly Collapse' हो गए। जब परिजनों ने उन्हें बेहोश देखा तो उन्हें सीपीआर दिया। इसके बाद उन्हें शाम के करीब साढ़े छह बजे अस्पताल लाया गया। हमने तुरंत उन्हें वेंटिलेटर पर रखा और 45 मिनट तक सीपीआर दिया। परंतु हम उन्हें बचाने में कामयाब नहीं हो पाए।

यह नफरती बहस करनी है या नहीं ?

इस वीडियो को शेयर करते हुए वरिष्ठ पत्रकार और फ़िल्ममेकर विनोद कापड़ी ने सवाल किया है कि, 'अब भी सोच लो मेरे मीडिया के दोस्तों - ये नफरती/घिनौनी बहस करनी है या नहीं?' कापड़ी के इस ट्वीट के रिप्लाई में एक ट्वीटर यूजर @tripathispeak ने लिखा है कि मामले की जांच होनी चाहिए और संबित पात्रा को तुरंत अरेस्ट करना चाहिए। वहीं अन्य कई यूज़र्स ने मांग की है कि ऐसे चैनल्स, उसके एंकर्स और डिबेट में शामिल होने वाले तमाम पैनलिस्टस पर एफआईआर होनी चाहिए।

राजीव के हत्यारे हैं संबित पात्रा

एक अन्य ट्वीटर यूजर शिवानी @insaniyat34258 लिखती हैं, 'राजीव त्यागी जी की आवाज जो देश के लिए उठती थी वह हमेशा के लिए शांत हो गई, यह उनकी आखिरी डिबेट है। संबित पात्रा राजीव त्यागी की मौत के जिम्मेदार हैं। पात्रा राजीव के हत्यारे हैं।' वहीं अन्य कई यूज़र्स ने कहा है कि जब सुशांत की मौत के लिए रिया जिम्मेदार हो सकती है तो त्यागी की मौत के लिए पात्रा जिम्मेदार क्यों नहीं हैं।

आज राजीव कल कोई और हो सकता है

सोशल मीडिया पर इस तरह के बहसों पर रोक लगाने की मांग बुधवार रात से ही हो रही है। ट्वीटर यूजर सैयद जाबिर ने लिखा, 'ऊँची आवाज़ ,नफ़रती डिबेटस। इनका बहिष्कार करें सभी प्रवक्ता। आज राजीव जी कल कोई और भी हो सकता है। इन सब का असर पड़ता है दिमाग़ दिल पर। एक अन्य यूजर @ysk_brz ने लिखा, 'जिनको ना बोलने का सलीका होता हैं, ना मुद्दे का पता होता है, ना सवालों के जवाब पता होते है, बस हर मुद्दे में जाति धर्म पर लेकर आ जाएंगे। ऐसे लोगो को चैनलों पर विशेषज्ञ बनाकर गाली गलौच करवा कर TRP बनाकर पैसे कमाने होते हैं। उन्हें न्यूज़ चेंनल कहकर असली पत्रकारिता का अपमान ना करें।

बता दें कि मौत से पहले बुधवार शाम राजीव त्यागी संबित पात्रा के साथ टीवी चैनल आजतक पर डिबेट कर रहे थे। इस दौरान कार्यक्रम का संचालन एंकर रोहित सरदाना कर रहे थे। डिबेट की वीडियो में देखा जा सकता है कि संबित पात्रा दिवंगत राजीव त्यागी को टिका लगाने पर टिप्पणी कर रहे हैं, नकली हिन्दू, गद्दार व जयचंद जैसा उपमा दे रहे हैं। लोगों का मानना है कि पात्रा की इन बातों से उन्हें ठेस पहुंची और इस घबराहट के बाद उन्हें हार्ट अटैक आया।