पेंसिल मांगने पर मां मारती है, मोदी जी आपने मैगी भी महंगी कर दी, 6 साल की बच्ची ने लिखा PM को पत्र

उत्तर प्रदेश के कन्नौज में पहली कक्षा की छात्रा कृति दुबे ने पीएम नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर बढ़ती महंगाई से राहत देने की भावुक अपील की है, संसद में कांग्रेस ने उठाया महंगाई का मुद्दा

Updated: Aug 01, 2022, 10:29 PM IST

पेंसिल मांगने पर मां मारती है, मोदी जी आपने मैगी भी महंगी कर दी, 6 साल की बच्ची ने लिखा PM को पत्र

कन्नौज। पहली कक्षा में पढ़ने वाली एक छः साल की बच्ची देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर बढ़ती महंगाई के कारण हो रही परेशानियों से रूबरू कराया है। उत्तर प्रदेश के कन्नौज कि मासूम ने पीएम को लिखा कि पेंसिल मांगने पर मम्मी मारती है। स्कूल में बच्चे मेरी पेंसिल चोरी कर लेते हैं। मैं क्या करूं? सोशल मीडिया पर यह पत्र तेजी से वायरल हो रहा है और विपक्षी दल कांग्रेस जे संसद में भी इस मुद्दे को उठाया है।

प्रधानमंत्री को पत्र लिखने वाली मासूम का नाम कृति दुबे है। उसने लिखा है कि, 'प्रधानमंत्री जी, मेरा नाम कृति दुबे है। मैं कक्षा एक में पढ़ती हूं। मोदी जी आपने बहुत महंगाई कर दी है। यहां तक पेंसिल रबर तक महंगी कर दी है। और मैगी के दाम भी बढ़ा दिए हैं। अब मेरी मां पेसिंल मांगने पर मारती हैं। मैं क्या करूं? बच्चे मेरी पेंसिल चोरी कर लेते हैं।' 

हिंदी में लिखा कृति दुबे का यह पत्र सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है। बच्ची के पिता विशाल दुबे, जो पेशे से वकील हैं, उन्होंने कहा कि यह मेरी बेटी की 'मन की बात' है। विशाल के मुताबिक कृति हाल ही में उस समय नाराज हो गई, जब उसकी मां ने उसे स्कूल में पेंसिल खो जाने पर डांटा था।

यह भी पढ़ें: मध्य प्रदेश में अर्थी पर सिस्टम, न इलाज मिला न शव वाहन, मां की लाश बाइक पर ले गए बेबस बेटे

छिबरामऊ के एसडीएम अशोक कुमार ने स्थानीय पत्रकारों से बातचीत के दौरान इस बात की पुष्टि की है। साथ ही कहा कि वे किसी भी तरह से बच्ची की मदद करने के लिए तैयार हैं और यह सुनिश्चित करने की पूरी कोशिश कर रहे हैं कि कृति का का पत्र संबंधित अधिकारियों तक पहुंचे।

बच्ची की यह अपील सोमवार को संसद भवन में भी गूंजी जब विपक्षी दल कांग्रेस ने महंगाई का मुद्दा उठाया। लोकसभा में महंगाई पर चर्चा की शुरुआत में कांग्रेस सांसद मनीष तिवारी ने कहा कि देश में पिछले 14 महीने से महंगाई दर दहाई अंक में है। यह 30 साल में सबसे ज्यादा है। उपभोक्ता खाद्य मूल्य सूचकांक आसमान छू रहा है। चावल, दही, पनीर और पेंसिल और शार्पनर जैसी दैनिक उपयोग की चीजों पर भी जीएसटी बढ़ा है। सरकार बच्चों को भी नहीं बख्श रही। बता दें कि हाल ही में जीएसटी काउंसिल के फैसलों के बाद अब रबर, पेंसिल और पढ़ाई से संबंधित अन्य वस्तुओं की दाम बढ़ गई है।