BU कैंपस में घुसकर पुलिस ने छात्रों को बेरहमी से पीटा, कई छात्रों को उठा ले गए

Omicron का खतरा देखते हुए ऑनलाइन परीक्षा कराने का मांग कर रहे थे छात्र, सैंकडों की संख्या में छात्र-छत्राएं शांतिपूर्ण तरीके से धरने पर बैठे थे, कैंपस में घुसकर पुलिस ने किया लाठीचार्ज

Updated: Dec 29, 2021, 03:48 PM IST

BU कैंपस में घुसकर पुलिस ने छात्रों को बेरहमी से पीटा, कई छात्रों को उठा ले गए

भोपाल। ऑनलाइन परीक्षा की मांग को लेकर शांतिपूर्ण प्रदर्शन कर रहे छात्रों पर एक बार फिर से पुलिस का कहर टूटा है। राजधानी भोपाल स्थित बरकतउल्ला यूनिवर्सिटी में घुसकर पुलिस ने छात्रों की बेरहमी से पिटाई की है। बताया जा रहा है कि दर्जनों की संख्या में छात्रों को पुलिस यूनिवर्सिटी कैंपस से उठाकर भी ले गई है।

जानकारी के मुताबिक बुधवार को छात्र संगठन एनएसयूआई के नेतृत्व में सैंकडों की संख्या में छात्र-छात्राओं ने सत्याग्रह शुरू कर दिया था। छात्र-छत्राएं मांग कर रहे थे कि कोरोना के नए वेरिएंट को देखते हुए सेमेस्टर परीक्षाएं ऑनलाइन माध्यम से आयोजित की जाए। छात्र-छात्राओं का यह प्रदर्शन शांतिपूर्ण तरीके से चल रहा था। 

छात्र-छत्राएं मांग कर रहे थे कि विश्वविद्यालय के कुलपति आएं और उनसे बात कर उनकी मांगों पर विचार करें। विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ आरजे राव छात्रों से जब बात करने आए तो उन्होंने आश्वासन दिया कि 15 मिनट के भीतर परीक्षा निरस्त करने संबंधी आदेश जारी कर आपको भिजवा रहा हूं। लेकिन करीब डेढ़ घंटे बीतने के बाद आदेश की कॉपी तो नहीं पहुंची मगर काफी संख्या में पुलिस जरूर पहुंच गई। 

छात्र जबतक कुछ समझ पाते तबतक पुलिस ने यहां लाठीचार्ज करना शुरू कर दिया। इसके बाद पुलिस करीब 9 छात्रों को कैंपस से उठा ले गयी। रिपोर्ट्स के मुताबिक पुलिस ने एनएसयूआई मेडिकल विंग के समन्वयक रवि परमार, छात्र नेता अक्षय तोमर व सोहन मेवाड़ा के साथ अन्य छात्रों को बागसेवनिया लेकर आई है। छात्रों के मुताबिक रवि परमार और अक्षय तोमर की पुलिस ने बर्बर तरीके से पिटाई की है।

उधर एनएसयूआई के साथियों पर बलप्रयोग की खबर सामने आने के बाद यूथ कांग्रेस भी मैदान में आ गयी है। यूथ कांग्रेस मीडिया विभाग के अध्यक्ष विवेक त्रिपाठी दर्जनों युवाओं के साथ बाग सेवनिया थाने पहुंचे हैं। त्रिपाठी छात्रों से मुलाकात करने पर अड़े हुए हैं जबकि पुलिस उन्हें अंदर नहीं जाने दे रही है। विवेक त्रिपाठी ने चेतावनी दिया है कि 1 घंटे के भीतर यदि सभी छात्रों को नहीं छोड़ा गया तो सैंकड़ों यूथ कांग्रेस के कार्यकर्ता थाने के बाहर धरना शुरू कर देंगे।