खंडवा के रण में उतरे दिग्विजय सिंह, बोले- मत चूकें, नकेल कसने का यही मौका है, पंजे का बटन दबाएं

खंडवा उपचुनाव प्रचार में पीएम मोदी और सीएम शिवराज पर बरसे दिग्विजय सिंह, बोले- मत चूको ये अवसर, मोदी, शाह और मामू का दिमाग ठीक करने का समय आ गया

Updated: Oct 24, 2021, 04:14 PM IST

खंडवा के रण में उतरे दिग्विजय सिंह, बोले- मत चूकें, नकेल कसने का यही मौका है, पंजे का बटन दबाएं

खंडवा। मध्य प्रदेश उपचुनाव के अंतिम दिनों में कांग्रेस ने पूरी ताकत झोंक दी है। खंडवा के रण में दिग्विजय सिंह ने मोर्चा संभाल लिया है। खंडवा में सिंह ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृहमंत्री अमित शाह और सीएम शिवराज सिंह चौहान की जमकर आलोचना की। उन्होंने लोगों से अपील करते हुए कहा कि अब मोदी, शाह और मामू का दिमाग ठीक करने का समय आ गया है और इनका दिमाग ठिकाने तब आएगा जब आप 30 तारीख को हाथ के पंजे पर बटन दबाएंगे।

दरअसल, वरिष्ठ कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह आज एक दिवसीय खंडवा दौरे पर पहुंचे थे। यहां उन्होंने सिंगोट, नेपानगर और ओंकारेश्वर में कांग्रेस उम्मीदवार राजनारायण सिंह पुरनी के समर्थन में जनसभाएं की। सिंह ने पंधाना के सिंगोट में जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि मोदी, शाह और मामू छुट्टे सांड हो गए हैं। और अब समय आ गया है कि इन पर नकेल कसा जाए।

ये सबक सिखाने का समय है: दिग्विजय सिंह

दिग्विजय सिंह ने कहा, 'ये फर्जी मामा जिसे मैं मामू कहता हूं आपकी नहीं सुन रहा है। मैं जानता हूं ये कैसे सुनेगा। आज निर्णय का समय है, सबक सिखाने का समय है। बैल हांकते वक़्त नकेल कसा जाता है। लेकिन नरेंद्र मोदी, अमित शाह और शिवराज चौहान तो छुट्टे सांड हो गए हैं। इनको नकेल डालने की जरूरत है। नकेल डलेगी 30 तारीख को जब चुनाव में आप कांग्रेस को वोट करेंगे। मत चूको ये अवसर, महंगाई कम करने का, बिजली बिल कम करने का और मोदी,शाह और मामू का दिमाग ठीक करने का, यही मौका है। 

पूर्व सीएम ने कहा कि, 'आजादी के बाद जवाहरलाल नेहरू, सरदार वल्लभ भाई पटेल और बाबा साहब अंबेडकर ने हमें संविधान दिया। आज भारत में दलित, आदिवासी लोग मंत्री, सीएम, राष्ट्रपति बने हैं तो संविधान की वजह से ही बन पाए। लेकिन आज वो हक भी  छीना जा रहा है। साल 2005 में सोनिया गांधी ने नेतृत्व में यूपीए की सरकार ने वन अधिकार अधिनियम के तहत आदिवासियों को जमीन दिलाया। लेकिन अब मुझे जानकारी मिल रही है कि उनका जमीन फिर से हड़पा जा रहा है। खंडवा, बुरहानपुर में आदिवासियों का घर जलाया जा रहा है, मारा पीटा जा रहा है। हम ये बर्दाश्त नहीं कर सकते।'

गरीबों के पैसे से महल बना रहे मोदी: दिग्विजय सिंह

दिग्विजय सिंह ने महंगाई को लेकर कहा कि सबसे ज्यादा नुकसान किसान और गरीब आम आदमी को हुआ है। उन्होंने कहा, 'पेट्रोल डीजल पर सेंट्रल एक्साइज ड्यूटी जो कांग्रेस की सरकार के दौरान लगती थी अगर मोदी सरकार उतना ही ले तो पेट्रोल 22 और डीजल 28 रुपए सस्ता हो जाएगा। बीजेपी गरीबों से टैक्स लेकर बड़े-बड़े उद्योगपतियों का टैक्स माफ कर रही है। सरकार ने पेट्रोल-डीजल से 20 हजार करोड़ रुपए इकट्ठा किया। वे कहते हैं मुफ्त वैक्सीन दे दी, जबकि वैक्सीन पर सिर्फ 20 हजार करोड़ खर्च हुए। बाकी के पैसों से दिल्ली में मोदी का महल बन रहा है जो 11 हजार करोड़ का है।

यह भी पढ़ें: साइकिल यात्रा से पहले गायब हुई विधानसभा अध्यक्ष की साइकिल, ढूंढने में जुटी GRP

दिग्विजय सिंह ने इस दौरान ये भी बताया कि वे चाहते थे कि अरुण यादव खंडवा से चुनाव लड़ते। उन्होंने कहा, 'हम चाहते थे खंडवा से अरुण यादव ही चुनाव लड़ें। लेकिन उन्होंने पारिवारिक कारणों से चुनाव लड़ने से मना कर दिया। इसके बाद कमलनाथ जी ने राजनारायण से चर्चा की। राजनारायण हमेशा ताल ठोक के रहते हैं, ये तैयार हो गए। लेकिन ये तैयार हुए हैं तो सिर्फ आपके भरोसे से। बीजेपी के लोग आएंगे और पैसे देंगे, शराब देंगे। लेकिन एक बात याद रखना जिसने वोट खरीदा वह बेईमानी कर रहा है।'