शिवराज सरकार का अजीबोगरीब फरमान, स्कूल बंद है तो घर में सुबह-शाम थाली बजाएं छात्र

मध्य प्रदेश में कोरोना के कारण बंद हो गए हैं स्कूल, राज्य सरकार ने छात्रों के लिए जारी किया थाली बजाने का निर्देश, थाली बजाकर शुरू करें पढ़ाई फिर थाली बजाकर लें अवकाश

Updated: Jan 15, 2022, 03:33 PM IST

शिवराज सरकार का अजीबोगरीब फरमान, स्कूल बंद है तो घर में सुबह-शाम थाली बजाएं छात्र
Photo Courtesy: Print

भोपाल। मध्य प्रदेश में बढ़ते कोरोना के मामलों को देखते हुए सभी स्कूल बंद कर दिए गए हैं। ऐसे में अब छात्र घरों पर क्या करेंगे इस बात को लेकर अभिभावक चिंतित हैं। हालांकि, शिवराज सरकार ने अभिभावकों को चिंता कम करने के लिए टास्क दे दिया है। छात्रों को कहा गया है कि वे सुबह-दोपहर थाली बजाएं।

शिवराज सरकार ने इसे 'हमारा घर- हमारा विद्यालय' योजना नाम दिया है। आदेश में लिखा गया है कि हमारा घर हमारा विद्यालय योजना के तहत प्रतिदिन सुबह घंटी/थाली बजाकर 10 बजे अपने घर में शुरूआत करें। इसी प्रकार दोपहर 1 बजे घंटी/थाली बजाकर अवकाश किया जाएगा।'

इसमें परिजनों की भूमिका का भी उल्लेख है। उन्हें निर्देश दिया गया है कि निर्धारित समय पर बच्चों को घर में लिखने पढ़ने के लिए एक नियत स्थान पर बैठाएंगे। बच्चों को सुबह 10:00 से दोपहर 1:00 बजे गतिविधि के अनुसार यथासंभव सामग्री उपलब्ध कराएंगे। डिजिटल माध्यम से प्राप्त अध्ययन सामग्री के अध्ययन के लिए सुविधा अनुसार बच्चों को मोबाइल उपलब्ध करवाना भी इसमें शामिल है। 

राज्य सरकार द्वारा जारी इस आदेश को लेकर मध्य प्रदेश एनएसयूआई ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को निशाने पर लिया है। एनएसयूआई प्रदेश अध्यक्ष मंजुल त्रिपाठी ने सीएम शिवराज को घंटाजीवी करार दिया है। त्रिपाठी ने कहा, 'सीएम शिवराज को छात्रों के भविष्य की कोई चिंता नहीं है। सरकार में जब कुपढ़ों की जमात भर जाए तो वे घंटा और थाली ही बजाने के लिए प्रेरित करेंगे। लेकिन छात्र और अभिभावक अब आगामी चुनाव में सरकार को उनकी सही जगह दिखाने के लिए तैयार हैं।'