नाम शिवमंगल सिंह सुमन का, तस्वीर हरिवंश राय बच्चन की, आख़िर संस्कृति विभाग में हो क्या रहा है

मध्य प्रदेश शासन के संस्कृति विभाग ने शिवमंगल सिंह सुमन की स्मृति में रखा कार्यक्रम, लेकिन आमंत्रण पत्र पर छापी हरिवंश राय बच्चन की तस्वीर, सोशल मीडिया पर वायरल हुई तस्वीर

Updated: Jan 25, 2021, 06:44 PM IST

नाम शिवमंगल सिंह सुमन का, तस्वीर हरिवंश राय बच्चन की, आख़िर संस्कृति विभाग में हो क्या रहा है
Photo Courtesy : Twitter

भोपाल। मध्य प्रदेश सरकार का संस्कृति विभाग देश के दो महान कवियों में फर्क नहीं कर पा रहा। विभाग के अफसरों को शिवमंगल सिंह सुमन और हरिवंश राय बच्चन की तस्वीरों में अंतर नहीं पता। मध्य प्रदेश सरकार के संस्कृति विभाग द्वारा शिवमंगल सिंह सुमन की स्मृति में आयोजित कार्यक्रम के निमंत्रण पत्र को देखकर अगर कोई ऐसी राय बना ले तो हैरानी नहीं होनी चाहिए। दरअसल इस निमंत्रण पत्र में शिवमंगल सिंह सुमन की जगह हरिवंश राय बच्चन की तस्वीर लगा दी गई है। गलत तस्वीर वाले इस आमंत्रण पत्र की फोटो सोशल मीडिया पर तेज़ी से वायरल हो रही है। विपक्ष ने इस गलती के लिए राज्य सरकार को निशाने पर लिया है।

कांग्रेस विधायक पीसी शर्मा ने इस मामले में राज्य सरकार से पूछा है कि कैसे लोगों को पदों पर बिठाया गया है, जो देश के इतने बड़े कवियों को भी नहीं पहचानते। उन्होंने ट्वीट किया, 'मप्र का सांस्कृतिक विभाग आदरणीय शिव मंगल सिंह सुमन जी को डॉ हरिवंश राय बच्चन जी बताता है। सवाल उठना लाजिमी है कि....क्या अपना हित साधने मात्र के लिए अपने ही ऐजेंडे के व्यक्ति यहाँ बैठा रखे हैं, जो हमारे राष्ट्र कवियों को भी नहीं जानते, जवाब दीजिये।' 

 

दरअसल, मध्यप्रदेश शासन संस्कृति विभाग के तहत आने वाली साहित्य अकादमी ने रतलाम के राज गार्डन में 29 जनवरी को शाम 5 बजे शिवमंगल सिंह सुमन स्मृति समारोह का आयोजन किया है। इस आयोजन में व्याख्यान और रचना पाठ के लिए देशभर के जाने माने कवि, चिंतक, साहित्यकार समेत कई नामी हस्तियों को बुलाया गया है। 

यह भी पढ़ें: मार्च-अप्रैल में होंगे निकाय चुनाव, 3 मार्च को फाइनल होगी वोटर लिस्ट

लेकिन इसमें विभाग के अधिकारियों के लापरवाही के कारण आमंत्रण कार्ड में तस्वीर स्वर्गीय हरिवंश राय बच्चन की लगा दी गई। समारोह के इस आयोजन का कार्ड जब सोशल मीडिया पर वायरल हुआ तब विभागीय अधिकारियों के होश उड़ गए। हैरान करने वाली बात यह है कि संस्कृति विभाग और साहित्य अकादमी के जिम्मेदार लोग इस गलती को नहीं पकड़ सके। हालांकि फजीहत होने के बाद अब विभाग फिर से नया कार्ड बनवा रहा है, जिसे सोशल मीडिया के माध्यम से लोगों को भेजा जाएगा।