आदिवासियों के दमन और अत्याचार में सबसे ऊपर मध्य प्रदेश, आदिवासी वोटबैंक को लुभाने की कवायद के बीच आयी NCRB रिपोर्ट

NCRB की रिपोर्ट के मुताबिक आदिवासी समुदाय पर अत्याचार के मामलों में सबसे ऊपर मध्य प्रदेश का नाम है..पूरे देश में आदिवासियों के खिलाफ अपराध के आंकड़ों में सबसे ज्यादा यानी 23 फीसदी मध्य प्रदेश से हैं..सुविधाओं के मामले में भी पिछड़ा राज्य

Updated: Dec 07, 2021, 01:39 PM IST

आदिवासियों के दमन और अत्याचार में सबसे ऊपर मध्य प्रदेश, आदिवासी वोटबैंक को लुभाने की कवायद के बीच आयी NCRB रिपोर्ट

भोपाल। आदिवासियों के खिलाफ होने वाले अत्याचार और अपराध के मसले पर एनसीआरबी की हालिया रिपोर्ट ने शिवराज सरकार के आदिवासियों को लुभाने के सारे प्रयासों की पोल खोलकर रख दी है। इस सरकारी रिपोर्ट के मुताबिक देश में आदिवासियों पर सबसे अधिक अत्याचार मध्य प्रदेश में होता है। जबकि आदिवासियों को सुविधा देने के मामले में भी मध्य प्रदेश सबसे फिसड्डी राज्य है। 

एनसीआरबी के आंकड़े के मुताबिक 2020 में मध्य प्रदेश में आदिवासियों के खिलाफ हुए अत्याचार के कुल 2401 मामले दर्ज किए गए। जो कि 2019 के आंकड़ों की तुलना में 25 फीसदी ज्यादा रहे। 2019 में प्रदेशभर में आदिवासियों के खिलाफ अपराध के 1922 मामले दर्ज किए गए थे। वहीं 2018 में कम से कम 1868 और 2017 में 2289 आदिवासी अत्याचार की रिपोर्ट्स दर्ज की गयीं।

देश की कुल आदिवासी आबादी का 14 फीसदी से ज्यादा हिस्सा मध्य प्रदेश का है, जोकि प्रदेश की कुल आबादी का लगभग 21 फीसदी है। लेकिन इतनी बड़ी तादाद में होने के बावजूद उनकी ताकत बेहद कम है। पूरे देश के मुकाबले एमपी के आदिवासी सबसे ज्यादा अत्याचार के शिकार हैं।  कोरोनाकाल के दौरान आदिवासियों के खिलाफ दमन में पहले से कहीं ज्यादा वृद्धि देखने को मिली है।। 

एनसीआरबी की इस रिपोर्ट पर विपक्ष अब शिवराज सरकार पर हमलावर हो गया है। पूर्व सीएम कमल नाथ ने एनसीआरबी की हालिया रिपोर्ट को लेकर कहा है कि यह महज़ रिपोर्ट नहीं है बल्कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के 16 वर्षों के कार्यकाल का रिपोर्टकार्ड है। कमल नाथ ने कहा कि बीजेपी के कार्यकाल के दौरान आदिवासियों, दलितों, महिलाओं और वंचितों पर अत्याचार बढ़े हैं, बीजेपी सरकार में अपराधियों के हौसले बुलंद हैं, उनके भीतर से कानून का डर चला गया है।

यह भी पढ़ें: बीजेपी के चार शब्दों वाले नारे में तीन शब्द तो उर्दू के हैं, जावेद अख्तर ने ली बीजेपी की चुटकी

सरकार मानने को तैयार नहीं 

आदिवासियों के खिलाफ बढ़ते अत्याचार के मामलों को लेकर शिवराज सरकार अपनी जवाबदेही मानने को तैयार नहीं है। रिपोर्ट के इतर शिवराज सरकार में नंबर दो के मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा है कि आंकड़े से यह पता चलता है कि पुलिस हर मामले को दर्ज करती है और हर व्यक्ति को प्रदेश में न्याय मिलता है। 

जय आदिवासी युवा संगठन के प्रवक्ता आनंद राय ने कहा कि राज्य सरकार यह मानने को तैयार नहीं है कि प्रदेश के आदिवासी खतरे में हैं। लेकिन एनसीआरबी के इस आंकड़े ने सारी पोल खोलकर रख दी है। प्रदेश का आदिवासी आज खुद को असुरक्षित महसूस कर रहा है।

अत्याचार के अलावा मध्य प्रदेश के आदिवासी सुविधाओं के मामले में पीछे हैं। केंद्रीय जनजातीय कार्य मंत्रालय की एक रिपोर्ट के मुताबिक प्रदेश के आदिवासी क्षेत्रों में 2067 उपस्वास्थ्य केंद्र, 467 प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र और 101 सामुदायिक केंद्रों की कमी है। इतना ही नहीं हाल ही में नीति आयोग की एक रिपोर्ट भी सामने आई है, जिसमें मध्य प्रदेश की ढाई करोड़ की आबादी गरीबी रेखा के नीचे जीवन पर मजबूर है। गरीबी रेखा के नीचे अपना जीवन गुजार रहे लोगों में सबसे अधिक आदिवासी ही हैं।

यह भी पढ़ें: देश का चौथा सबसे गरीब राज्य है MP, 37 फीसदी से अधिक जनता गरीबी रेखा के नीचे

ये हालात तब हैं जब राज्य की शिवराज सरकार खुद को आदिवासी हितैषी बताने का दावा करने का एक मौका नहीं छोड़ रही है। खुद बीते महीने प्रधानमंत्री मोदी ने जनजातीय गौरव दिवस के अवसर पर कांग्रेस पार्टी को कोसते हुए एमपी की शिवराज सरकार को आदिवासी हितैषी करार दिया था। भोपाल में आयोजित इस कार्यक्रम में पूरे प्रदेश के आदिवासियों को बसों में भरकर लाया गया था।

 अगर हाल के बीजेपी के कार्यक्रमों पर गौर करें तो बीते लगभग छह महीनों के दौरान बीजेपी ने तीन बड़े और अनेक छोटे कार्यक्रमों के जरिए आदिवासियों को लुभाने का प्रयास किया है। जबलपुर में शंकर शाह और रघुनाथ शाह के बलिदान दिवस पर गृह मंत्री अमित शाह, बिरसा मुंडा की जयंती में प्रधानमंत्री मोदी और टंट्या मामा बलिदान दिवस में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बढ़चढ़कर आदिवासी गौरव का बखान किया। आदिवासियों के रंग में रंगने के लिए खुद सीएम अनेक जगहों पर उनके रंग में रंगे और नृत्य संगीत में हिस्सा लेते दिखे। कमलापति रेलवे स्टेशन से लेकर नगर, शहर आदि के नाम बदलने की अनेक कवायदों के बीच हकीकत का दूसरा पहलू NCRB ने सामने रख दिया है।