MP: रात 1 बजे उठा लिए गए कांग्रेस कार्यकर्ता, ताकि सीएम के कार्यक्रम में न पड़े खलल

अटल बिहारी वाजपेयी की जयंती के मौके पर सुशासन दिवस मना रही है बीजेपी, होशंगाबाद के बाबई में थे सीएम शिवराज, रात में ही कांग्रेस कार्यकर्ताओं को घर से उठाने का मिला आदेश

Updated: Dec 25, 2020, 09:45 PM IST

MP: रात 1 बजे उठा लिए गए कांग्रेस कार्यकर्ता, ताकि सीएम के कार्यक्रम में न पड़े खलल
Photo Courtesy : Bhaskar

होशंगाबाद। क्या यही है बीजेपी के सुशासन की मिसाल? क्या मध्य प्रदेश में इसी तरह होगा संविधान के तहत हर नागरिक को मिले स्वतंत्रता और लोकतंत्र के मूल्यों का सम्मान? यह सवाल प्रदेश के होशंगाबाद ज़िले में कांग्रेस कार्यकर्ताओं के खिलाफ की गई पुलिसिया कार्रवाई की वजह से उठ रहे हैं।

दरअसल बीजेपी आज पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की जयंती के मौके पर देशभर में उत्सव मना रही है। ऐसे ही एक कार्यक्रम के लिए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान होशंगाबाद जिले के बाबई में थे। सीएम के इस विशेष कार्यक्रम को लेकर जिला प्रशासन ने खास तैयारियां की थीं। लेकिन पुलिस को सबसे ज्यादा फिक्र इस बात की थी कि कहीं मुख्यमंत्री के कार्यक्रम में कोई अनहोनी या विरोध प्रदर्शन न हो जाए। इसी आशंका को दूर करने के लिए पुलिस ने इलाके के कई प्रमुख कांग्रेस कार्यकर्ताओं को रात एक बजे घर से उठवा लिया।

जानकारी के मुताबिक पुलिस को आशंका थी कि किसानों को पीएम मोदी का संबोधन सुनाने के लिए बाबई में जो कार्यक्रम रखा गया है, उसमें स्थानीय कांग्रेस कार्यकर्ताओं द्वारा विरोध प्रदर्शन किया जा सकता है। ऐसा न हो इसके लिए पुलिस रात के 1 बजे कई कांग्रेस कार्यकर्ताओं के घर पहुंची और कुछ बताए बिना ही उन्हें वहां से उठाकर ले गई।

सोहागपुर पुलिस ने कांग्रेस के आधा दर्जन कार्यकर्ताओं को पहले तो आधी रात को थाने में लाकर रखा। लेकिन भीषण ठंड में जब उन्हें रखने के लिए थाने में कोई जगह नहीं मिली तब उन्हें एक होटल में ले जाकर बाहर से दरवाजा बंद कर दिया गया। अगली सुबह जैसे ही सीएम शिवराज अपना भाषण खत्म करके वहां से गए उन्हें छोड़ दिया गया। पुलिस के इस रवैये से कांग्रेस कार्यकर्ताओं में बेहद नाराजगी है।

यह भी पढ़ें: किसान आंदोलन के बीच बीजेपी का उत्सव, हर तहसील में बड़ी-बड़ी स्क्रीन पर पीएम मोदी देंगे भाषण

इस मामले में सोहागपुर के कांग्रेस नेता आलोक जायसवाल ने पुलिस की इस कार्रवाई को संविधान के खिलाफ बताते हुए अनुभागीय अधिकारी को ज्ञापन भी सौंपा है। जायसवाल ने हम समवेत को बताया कि पुलिस सोते हुए लोगों को जबरन उठाकर ले गई। उन्होंने आरोप लगाया कि यह पूरा वाकया बीजेपी के इशारे पर कांग्रेस के लोगों को प्रताड़ित किए जाने की मिसाल है।