कोर्ट में केंद्र ने मौजूदा कोरोना को कहा Indian Double Mutant, तो इंडियन स्ट्रेन कहने पर कमल नाथ पर FIR क्यों

कमल नाथ सरकार में मंत्री सज्जन सिंह वर्मा ने भी शिवराज सरकार पर किया पलटवार पूछा, क्या कोरोना को भारतीय स्ट्रेन बताने वाले आईसीएमआर और मीडिया संस्थानों पर भी एफआईआर करेगी शिवराज सरकार

Updated: May 24, 2021, 04:58 PM IST

कोर्ट में केंद्र ने मौजूदा कोरोना को कहा Indian Double Mutant, तो इंडियन स्ट्रेन कहने पर कमल नाथ पर FIR क्यों
Photo Courtesy: Sunday Guardian

भोपाल। कोरोना को भारतीय स्ट्रेन बताने वाले कमल नाथ के बयान को लेकर बीजेपी ने पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर दिया है। कमल नाथ पर हुए मुकदमे के बाद कांग्रेस अब शिवराज सरकार पर हमलावर है। कांग्रेस नेता ने विवेक तन्खा ने कहा है कि खुद केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में दायर किए अपने हलफनामे में कोरोना की इस लहर को भारतीय स्ट्रेन बताया है। ऐसे में बीजेपी को कमल नाथ के खिलाफ किए गए मुकदमे के लिए माफी मांगनी चाहिए, अन्यथा कमल नाथ के पास भी राजनीतिक और कानूनी विकल्प खुले हुए हैं। 

विवेक तन्खा ने सुप्रीम कोर्ट में केंद्र द्वारा दायर हलफनामे का ज़िक्र करते हुए कहा कि कमल नाथ के खिलाफ किया गया मुकदमा भाजपा का डैमेज कंट्रोल और अपनी नाकामी छुपाने का प्रयास है। केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में दायर हलफनामा के 33वें पैरा में इसे इंडियन डबल म्यूटेंट स्ट्रेन बताया है।

यह भी पढ़ें : कमल नाथ के खिलाफ भाजपा विधायकों ने दर्ज कराया मुकदमा, पूर्व सीएम ने कोरोना को लेकर दिया था बयान

कांग्रेस नेता ने आगे कहा कि कमल नाथ जी के बयान को गलत ढंग से प्रस्तुत कर एक निरर्थक एफआईआर प्रस्तुत की गई। विवेक तन्खा ने कहा कि बीजेपी को कमल नाथ से माफी मांगनी चाहिए। अन्यथा कमल नाथ के पास भी राजनीतिक और कानूनी दोनों ही विकल्प खुले हुए हैं। इस पूरे घटनाक्रम पर कांग्रेस नेता ने टिप्पणी करते हुए कहा कि इस पूरे प्रकरण से उल्टा कर कोतवाल को डांटे वाला मुहावरा ही याद आता है। विवेक तन्खा के अलावा कमल नाथ सरकार में मंत्री रहे सज्जन सिंह वर्मा ने भी कहा है कि आईसीएमआर सहित भारत एवं दुनिया के सभी प्रेस कोरोना की लहर को इंडियन स्ट्रेन बोल रहे हैं। क्या ये तानाशाही शिवराज सरकार इन सभी के खिलाफ एफआईआर करेगी? 

दरअसल कमल नाथ ने हाल ही में कहा था कि विदेशों में रहने वाले भारतीयों के साथ भारत में कोरोना को लेकर दुर्व्यवहार का शिकार होना पड़ रहा है। कमल नाथ ने इसके लिए विदेशी मीडिया में प्रकाशित हुईं खबरों का भी हवाला दिया था। लेकिन बीजेपी ने कमल नाथ के बयान को राष्ट्रद्रोह बता कर पीसीसी चीफ को घेरना शुरू कर दिया। लेकिन अब खुद केंद्र सरकार द्वारा कोरोना की इस लहर को भारतीय स्ट्रेन बताने की बात सामने आने के बाद बीजेपी एक बार फिर बैकफुट पर आ गई है।