असम में दीमा हसाओ के एक बूथ पर थे 90 मतदाता, लेकिन ईवीएम में वोट पड़े 171, पाँच अधिकारी सस्पेंड

असम के दीमा हसाओ ज़िले में 1 अप्रैल को वोटिंग हुई थी, उसके अगले दिन ही चुनाव कर्मियों को निलंबित कर दिया गया था, लेकिन स्थानीय लोग उन 81 मतदाताओं को ढूँढ रहे हैं जिन्होंने ईवीएम की पोलिंग बढ़ाई

Updated: Apr 05, 2021, 06:28 PM IST

असम में दीमा हसाओ के एक बूथ पर थे 90 मतदाता, लेकिन ईवीएम में वोट पड़े 171, पाँच अधिकारी सस्पेंड
Photo Courtesy : Insidene.com

गुवाहाटी। असम विधानसभा चुनावों के दौरान ईवीएम में गड़बड़ी का एक और मामला सामने आया है। 1 अप्रैल को दूसरे चरण के मतदान के दौरान एक बूथ पर केवल 90 वोटर ही थे। लेकिन ईवीएम में 171 वोट पड़ने की जानकारी सामने आई है। चुनाव आयोग ने इस मामले के संज्ञान में आने के बाद अपने पांच अधिकारियों को निलंबित कर दिया है। हालांकि बूथ पर दोबारा मतदान कराने का फिलहाल कोई निर्णय नहीं किया गया है।  

यह मामला असम के दीमा हसाओ ज़िले का है। 1 अप्रैल को दूसरे चरण के मतदान के दौरान राज्य की 39 सीटों पर वोट डाले जा रहे थे। दीमा हसाओ ज़िले के अंतर्गत आने वाली हाफलांग विधानसभा सीट के एक बूथ पर मतदाता सूची में केवल 90 लोगों के ही नाम दर्ज थे। लेकिन जब वोट पड़े तब ईवीएम में वोटरों की कुल संख्या 171 हो गई। यानी एक ही बूथ पर 81 ऐसे वोट पड़े जिनका मतदाता सूची से कोई लेना देना ही नहीं था। इस पूरे प्रकरण के सामने आने के बाद ज़िला निर्वाचन अधिकारी ने कुल 5 मतदान दल के कर्मियों को निलंबित कर दिया है।  

करीमगंज की पाथरकाण्डी विधानसभा सीट से बीजेपी विधायक कृष्णेंदु पॉल की बोलेरो में भी 1 अप्रैल को ईवीएम मिलने पर हंगामा खड़ा हुआ था। यह मामला अभी पूरी तरह से शांत भी नहीं हुआ था कि दीमा हसाओ ज़िले से एक और आश्चर्यचकित करने वाला ये वाकया सामने आ गया है। हालांकि दीमा हसाओ के ज़िला निर्वाचन अधिकारी ने मतदान के अगले दिन ही संबंधित अधिकारियों को निलंबित कर दिया था। लेकिन इस खबर को सामने आते आते तीन दिन लग गए।