BJP हमारा इस्तेमाल सिर्फ वोट की राजनीति के लिए करती है, राहुल गांधी से मुलाकात के दौरान बोले कश्मीरी पंडित

भारत जोड़ो यात्रा के दौरान राहुल गांधी ने कश्मीरी पंडितों के प्रतिनिधिमंडल से मुलाकात की, इस दौरान उन्होंने बताया कि मोदी सरकार ने उनका वेतन और राशन रोक दिया है।

Updated: Jan 24, 2023, 10:20 AM IST

BJP हमारा इस्तेमाल सिर्फ वोट की राजनीति के लिए करती है, राहुल गांधी से मुलाकात के दौरान बोले कश्मीरी पंडित

जम्मू कश्मीर। राहुल गांधी की अगुवाई में कन्याकुमारी से शुरू हुई कांग्रेस की ‘भारत जोड़ो यात्रा’ इन दिनों जम्मू-कश्मीर में हैं। कड़ाके की ठंड के बीच राहुल गांधी का पैदल मार्च आगे बढ़ता जा रहा है। घाटी के दिग्गज नेता राहुल गांधी से मिल रहे हैं और उनके साथ यात्रा में कदम से कदम मिला रहे हैं। इस बीच, कश्मीरी पंडितों के प्रतिनिधिमंडल ने सोमवार को राहुल गांधी से मुलाकात की।

जम्मू में राहुल गांधी से मुलाकात के दौरान कश्मीरी पंडितों के डेलिगेशन ने कहा कि भाजपा हमारा इस्तेमाल सिर्फ वोट की राजनीति के लिए करती है।
जम्मू-पठानकोट राष्ट्रीय राजमार्ग पर स्थित एक ढाबे में कश्मीरी पंडितों के प्रतिनिधिमंडल ने राहुल गांधी से मुलाकात के दौरान टारगेट किलिंग, पीएम पैकेज कर्मचारियों के प्रदर्शन सहित समुदाय के विभिन्न मुद्दों पर बात की।

बातचीत के दौरान एक कश्मीरी पंडित ने कहा कि भाजपा ने हमारे लिए कुछ नहीं किया। जो काम कांग्रेस ने किया उसे ही कह रहे हैं कि हमने किया। उन्होंने (BJP) हमारे लिए एक रुपये का भी काम नहीं किया है। एक अन्य व्यक्ति ने कहा कि कांग्रेस ने कश्मीरी पंडित को पीएम पैकेज के तहत रोजगार और आवास की सुविधा दी। लेकिन केंद्र की मोदी सरकार ने कर्मचारियों का वेतन रोक दिया है और हमें घाटी में लौटने के लिए मजबूर किया जा रहा है। भाजपा ने हमेशा कश्मीरी पंडितों को वोट के लिए इस्तेमाल किया है, जबकि हमारे कल्याण के सिर्फ दावे किए हैं।

प्रतिनिधिमंडल के सदस्यों ने बताया कि प्रधानमंत्री पैकेज के तहत कार्यरत कश्मीरी पंडित कर्मचारी पिछले 6 महीने से प्रदर्शन कर रहे हैं, लेकिन उन्हें वेतन नहीं दिया जा रहा। उन्हें पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के नेतृत्व वाली सरकार ने नौकरी दी थी। मोदी सरकार ने वेतन रोक दिया है। वे पिछले छह महीनों से विरोध कर रहे हैं। बता दें कि, 2008 में घोषित प्रधानमंत्री रोजगार पैकेज के तहत करीब 4000 प्रवासी कश्मीरी पंडितों को घाटी में नौकरी दिया गया था। 

डेलिगेशन ने राहुल गांधी से कहा कि कश्मीरी पंडितों को घाटी में टारगेट कर मारा जा रहा है। कश्मीरी पंडित कर्मचारी राहुल भट को उनके कार्यालय में मारा गया था। इसके कारण ही कर्मचारी स्थानांतरण की मांग कर रहे। सरकार ने उनकी मांग को सुनने की बजाय वेतन रोक दिया है। 

यह भी पढ़ें: पुलवामा में आतंकियों के पास कहां से आया 300 किलो RDX, पीएम मोदी से दिग्विजय सिंह के 5 सीधे सवाल

राहुल गांधी से मुलाकात के बाद कश्मीरी पंडित जीतेंद्र काचरू ने कहा कि, 'राहुल गांधी सुलझे हुए नेता हैं जो लोगों की परेशानियों को समझते हैं। उन्होंने हमारी समस्याओं को धैर्य से सुना और यह बात दिल को छू लेने वाली है। भाजपा कश्मीरी पंडितों को सिर्फ राजनीति और वोट के लिए इस्तेमाल करती है, क्योंकि धर्म के आधार पर नफरत फैलाना उनका राजनीतिक एजेंडा है। हम-मुस्लिम और हिंदू दोनों-कश्मीर में एक साथ रहते थे, क्योंकि हमारी संस्कृति, पहनावा और यहां तक कि उपनाम भी एक जैसे हैं। पहले इस तरह का माहौल नहीं था।'

डेलिगेशन से मुलाकात के बाद राहुल गांधी ने एक सभा में कहा कि, "कश्मीरी पंडितों के साथ सरकार अन्याय कर रही है। मैं कश्मीरी पंडितों के एक प्रतिनिधिमंडल से मिला हूं। उन्होंने मुझे बताया कि जब उनका प्रतिनिधिमंडल जम्मू-कश्मीर के एलजी से मिलने गया, तो एलजी ने उनसे कहा कि आपको भीख नहीं मांगनी चाहिए। एलजी उनसे से यह कह रहे हैं, वे भीख मांग रहे हैं? वे अपना हक मांग रहे हैं। और एलजी को उनसे माफी मांगनी चाहिए।"