MP Wheat Scam: आदिवासियों को सड़ा अनाज दिए जाने पर भड़के कांतिलाल भूरिया, शिवराज सरकार को दी आंदोलन की चेतावनी

Kantilal Bhuria: पूर्व केंद्रीय मंत्री ने जनता की शिकायत पर झाबुआ में किया सरकारी गोदाम का औचक निरीक्षण, भारी मात्रा में पकड़ा सड़ा हुआ अनाज

Updated: Oct 10, 2020 05:51 PM IST

MP Wheat Scam:  आदिवासियों को सड़ा अनाज दिए जाने पर भड़के कांतिलाल भूरिया, शिवराज सरकार को दी आंदोलन की चेतावनी
Photo Courtsey: Granthshala.com

झाबुआ। मध्य प्रदेश के वरिष्ठ कांग्रेस नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री कांतिलाल भूरिया ने झाबुआ में सरकारी सप्लाई में सड़े हुए अनाज की सप्लाई किए जाने का खुलासा किया है। भूरिया ने झाबुआ में अनाज के एक सरकारी गोदाम में औचक निरीक्षण किया तो बड़े पैमाने पर खराब अनाज लाकर सरकारी राशन की दुकानों में सप्लाई किए जाने की पोल खुली। आदिवासी इलाकों में खराब अनाज की सप्लाई किए जाने से खफा भूरिया ने आरोप लगाया कि शिवराज सिंह चौहान की सरकार आदिवासियों को इंसान नहीं समझती, तभी तो खुद शिवराज चौहान के इलाके सीहोर से बेहद खराब और सड़ा हुआ अनाज आदिवासी बहुल झाबुआ और अलीराजपुर जिले में लाकर बंटवाया जा रहा है। 

कांग्रेस विधायक कांतिलाल भूरिया ने चेतावनी दी कि अगर शिवराज सरकार ने ऐसा अनाज भेजकर आदिवासियों के जीवन से खिलवाड़ करना बंद नहीं किया, तो कांग्रेस पार्टी सड़कों पर उतरकर विरोध प्रदर्शन करेगी। उन्होंने आरोप लगाया कि शिवराज सरकार आदिवासियों की जानबूझकर उपेक्षा कर रही है। आदिवासियों को ऐसा सड़ा अनाज भिजवाया जा रहा है, जिसे खाकर उनकी जान पर बन आती हैं। भूरिया ने कहा कि इसमें करोड़ों का घोटाला किया जा रहा है, जिसकी शिकायत वे न सिर्फ राज्यपाल से करेंगे बल्कि विधानसभा में भी ये मुद्दा उठाएंगे। 

रिया ने कहा कि उन्हें स्थानीय आदिवासियों से जबरन सड़ा हुआ अनाज उन्हें पकड़ाए जाने की शिकायत मिली, जिसके बाद उन्होंने खुद आकर किशनपुरी के सरकारी गोदाम का निरीक्षण किया। भूरिया के मुताबिक उन्होंने पाया कि कम से कम 8 गाड़ियों में पूरी तरह खराब अनाज भरा हुआ है। जिसे सरकारी दुकानों में सप्लाई करने की योजना है। इस मसले पर भूरिया की मौके पर मौजूद अफसरों के साथ काफी देर तक बहस हुई। उन्होंने फोन पर बड़े अधिकारियों से भी बात करके सड़े अनाज को फौरन वापस करने की मांग भी की।