ज्योतिरादित्य सिंधिया 26 दिसंबर को फिर शिवराज से मिलेंगे, पिछली बार 40 मिनट किया था इंतज़ार

26 दिसंबर को भोपाल में होगी सिंधिया-शिवराज की मुलाकात, कैबिनेट विस्तार की अटकलें तेज़, क्या CBDT जांच के दायरे में आ रहे सिंधिया समर्थकों के भविष्य पर भी होगी बात

Updated: Dec 24, 2020, 10:10 PM IST

ज्योतिरादित्य सिंधिया 26 दिसंबर को फिर शिवराज से मिलेंगे, पिछली बार 40 मिनट किया था इंतज़ार
Photo Courtesy: twitter

भोपाल। बीजेपी के राज्यसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया क्रिसमस के दूसरे दिन 26 दिसंबर को भोपाल के दौरे पर आ रहे हैं। इस दिन सिंधिया मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से एक घंटे तक मीटिंग करने वाले हैं। दोनों नेताओं के बीच बैठक मुख्यमंत्री आवास में होने वाली है। 25 दिनों ने यह तीसरा मौका है जब सिंधिया और शिवराज की मुलाकात होने जा रही है। पिछली बार ज्योतिरादित्य सिंधिया को मुख्यमंत्री से 10 मिनट की मुलाकात के 40 मिनट तक इंतजार करना पड़ा था।

सिंधिया और शिवराज की मुलाकात का कार्यक्रम तय होते ही एक बार फिर मंत्रिमंडल विस्तार की अटकलें तेज़ हो गई हैं। सबकी नज़र इस बात पर भी रह सकती है कि क्या CBDT रिपोर्ट के दायरे में आने वाले सिंधिया समर्थक मंत्रियों और विधायकों के भविष्य को लेकर भी कोई बात दोनों नेताओं के बीच हो सकती है?  26 दिसंबर को ही मध्य प्रदेश बीजेपी के प्रभारी मुरलीधर राव भी भोपाल दौरे पर रहेंगे। उनकी उपस्थिति से यह अनुमान भी लगाया जा रहा है कि प्रदेश कार्यकारिणी घोषित हो सकती है। 

और पढ़ें: ज्योतिरादित्य सिंधिया से शिवराज मिले सिर्फ़ 10 मिनट, इंतज़ार कराया 40 मिनट

बताया जा रहा है कि 26 दिसंबर को सीएम हाउस में शाम 6-7 बजे तक दोनों की मुलाकात होगी। इस मीटिंग के बाद ज्योतिरादित्य सिंधिया के बीजेपी कार्यालय जाने का भी कार्यक्रम है। बीजेपी प्रदेश प्रभारी पी मुरलीधर राव 26 दिसंबर से दो दिन के लिए भोपाल दौरे पर हैं। इससे कैबिनट विस्तार और प्रदेश कार्यकारिणी का ऐलान होने की उम्मीदें बढ़ गई हैं। बीजेपी दफ्तर में ज्योतिरादित्य सिंधिया और मुरलीधर राव से मुलाकात का भी कार्यक्रम है।

और पढ़ें: सिंधिया के करीबियों के खिलाफ CBDT रिपोर्ट पर क्या होगी कार्रवाई, चुनाव आयोग को क्या जवाब देगी शिवराज सरकार 

उपचुनाव के नतीजे आए डेढ़ माह से ज्यादा का वक्त हो चुका है। शिवराज कैबिनट के विस्तार पर लोगों की निगाहें टिकी हुई हैं। वैसे कैबिनेट विस्तार का ज्यादा इंतजार सिंधिया समर्थकों को है। चुनाव से पहले मंत्री के पद से इस्तीफा देने वाले तुलसी सिलावट और गोविंदसिंह राजपूत को कैबिनेट में स्थान मिलने का इंतजार है।