दिग्विजय सिंह की चुनाव आयोग से शिकायत, कांग्रेस प्रत्याशियों को नहीं दी जा रही डाक मतपत्रों की सही जानकारी

कांग्रेस ने मांग की है कि चुनाव आयोग डाक मतपत्रों की प्रक्रिया को निरस्त कर नए सिरे से जारी करे और सभी प्रत्याशियों को दे इसकी जानकारी

Updated: Oct 28, 2020, 12:16 PM IST

दिग्विजय सिंह की चुनाव आयोग से शिकायत, कांग्रेस प्रत्याशियों को नहीं दी जा रही डाक मतपत्रों की सही जानकारी

 

भोपाल।  मंगलवार को उपचुनाव में बरती जा रही कथित तौर पर अनियमितता के आरोप के साथ दिग्विजय सिंह के नेतृत्व में कांग्रेस का एक प्रतिनिधिमंडल राज्य निर्वाचन आयोग के दफ्तर पहुंचा था। दिग्विजय सिंह के नेतृत्व में कांग्रेस ने चुनाव आयोग को अनेक उपचुनाव क्षेत्रों में हो रही हेराफेरी के घटनाओं से अवगत कराते हुए एक ज्ञापन सौंपा है। कांग्रेस ने इस संबंध में चुनाव आयोग से कार्रवाई करने की मांग भी की है। कांग्रेस की शिकायतों में सबसे ज़्यादा चर्चा डाक मतपत्रों को लेकर की गई शिकायत की हो रही है। कांग्रेस ने निर्वाचन आयोग से वोटरों को मुहैया कराए जा रहे डाक मतपत्रों की प्रक्रिया को निरस्त करने और फिर से प्रारंभ करने की मांग की है।  

और पढ़ें: Digvijaya Singh: दिग्विजय सिंह ने चुनाव आयोग से की भोपाल के ADG को हटाने की मांग

दरअसल इस उपचुनाव में कोरोना के जोखिम को दृष्टिगत रखते हुए चुनाव आयोग ने बुज़ुर्ग मतदाताओं, कोरोना से संक्रमित हो चुके मतदाताओं और कोरोना संदिग्ध मतदाताओं को डाक मतपत्रों द्वारा वोट देने की सुविधा दी है। कांग्रेस का आरोप है कि मतदान अधिकारी कांग्रेस के प्रत्याशियों को इस संबंध में सही जानकारी नहीं दे रहे हैं। कांग्रेस ने अपने ज्ञापन में चुनाव आयोग से कहा है कि 'डाक मतपत्र के संबंध में कोई भी जानकारी कांग्रेस के प्रत्याशियों को समय पर उपलब्ध नहीं कराई गई है। 

और पढ़ें : MP By Elections: दिग्विजय सिंह की शिकायत पर चुनाव आयोग ने अशोकनगर के एसपी-कलेक्टर को हटाया, शिवराज ने लगाया धमकाने का आरोप

इसके साथ ही कांग्रेस ने स्थानीय मतदान अधिकारियों पर आरोप लगाते हुए कहा है कि किन किन मतदाताओं को डाक मतपत्र जारी किए गए हैं, उनसे कब डाक मतपत्र के लिफ़ाफ़े लेना प्रारम्भ कर दिया गया है, इसकी जानकारी भी कांग्रेस प्रत्याशियों को मुहैया नहीं कराई गई है। कांग्रेस ने चुनाव आयोग से कहा है कि उसके प्रत्याशियों को इस प्रक्रिया से संबंधित सही जानकारी उपलब्ध न कराए जाने की वजह से उम्मीदवार ऐसे मतदाताओं से संपर्क नहीं साध पाए हैं। लिहाज़ा कांग्रेस ने इस पूरी प्रक्रिया को निरस्त कर फिर से शुरू करने की मांग की है।  

मतदान अधिकारियों के खिलाफ जल्द ठोस कार्रवाई हो 

कांग्रेस इससे पहले भी चुनाव आयोग से बीजेपी के सत्ता के दुरूपयोग और अधिकारियों के पार्टी के साथ मिलीभगत की शिकायतें कर चुकी है। अशोकनगर और अनूपपुर के निर्वाचन अधिकारियों के खिलाफ वीडियो क्लिपिंग के साथ चुनाव आयोग से शिकायत पहले भी की जा चुकी है। खबर है कि कांग्रेस की शिकायत को संज्ञान में लेने के बाद चुनाव आयोग ने अशोकनगर के कलेक्टर अभय वर्मा और एसपी रघुवंश सिंह भदौरिया को हटा दिया। इनकी जगह पर प्रियंका दास को कलेक्टर और तरूण नायक को एसपी के पद पर तैनात किया गया है। लेकिन कांग्रेस जिन अशोकनगर के निर्वाचन अधिकारी रवि मालवीया के खिलाफ कार्रवाई की मांग कर रही थी, उनके बारे में फिलहाल जानकारी नहीं है। कांग्रेस ऐसे अनेक अधिकारियों के खिलाफ यथाशीघ्र कार्रवाई करने की मांग कर रही है।