RSS कार्यकर्ता की शिकायत पर मेधा पाटकर के खिलाफ FIR, डोनेशन में मिले फंड के दुरुपयोग का आरोप

नर्मदा बचाओ आंदोलन की प्रणेता मेधा पाटकर समेत 11 अन्य के खिलाफ मध्य प्रदेश के बड़वानी में एफआईआर दर्ज हुई है, मेधा पाटकर ने बताया है कि शिकायतकर्ता आरएसएस से जुड़ा हुआ है

Updated: Jul 11, 2022, 02:04 PM IST

RSS कार्यकर्ता की शिकायत पर मेधा पाटकर के खिलाफ FIR, डोनेशन में मिले फंड के दुरुपयोग का आरोप

बड़वानी। नर्मदा बचाओ आंदोलन की प्रणेता व मशहूर सामाजिक कार्यकर्ता मेधा पाटकर के खिलाफ मध्य प्रदेश के बड़वानी में एफआईआर दर्ज हुई है। मेधा पाटकर समेत 11 अन्य लोगों पर दान में मिली रकम का दुरुपयोग करने का आरोप लगाया है। हैरानी की बात ये है कि एफआईआर में एक एक ऐसे व्यक्ति का भी नाम शामिल जिनका करीब 10 वर्ष पहले देहांत हो चुका है। मेधा पाटकर ने बताया है कि शिकायतकर्ता आरएसएस से जुड़ा हुआ है।

बड़वानी के पुलिस अधीक्षक दीपक कुमार शुक्ला ने मीडिया को बताया कि निजी शिकायत के आधार पर पाटकर एवं अन्य के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है। फरियादी प्रीतम राज बडोले ने कुछ दस्तावेज भी उपलब्ध करवाए हैं। इसमें काफी साल पुराने मामलों का उल्लेख है। शुक्ला के मुताबिक यह मामला महाराष्ट्र और मध्य प्रदेश दो राज्यों से जुड़ा हुआ है। इसमें दोनों पक्षों को पूरा मौका देते हुए मामले में दस्तावेज और तथ्यों का परीक्षण किया जाएगा। उसी के आधार पर कार्रवाई आगे बढ़ाई जाएगी।

यह भी पढ़ें: नन्हीं गोद में शव का बोझ: छोटे भाई की लाश लिए सड़क किनारे बैठा रहा मासूम, सस्ता शव वाहन ढूंढता रहा पिता

रिपोर्ट्स के मुताबिक युवक ने एफआईआर में आरोप लगाया है कि मेधा पाटकर ने आदिवासी बच्चों को शिक्षित करने के नाम पर जनता को गुमराह किया। लेकिन हकीकत में सामाजिक कल्याण के नाम पर इकट्ठा पैसों से धोखाधड़ी हो रही है। युवक ने दावा किया है कि करीब 13 करोड़ रुपए का राजनैतिक व राष्ट्र विरोधी एजेंडा फैलाने के लिए इस्तेमाल किया गया। शिकायतकर्ता ने माँग की है कि इस धनराशि के स्त्रोत और खर्च की जाँच होनी चाहिए

मेधा पाटकर ने इन आरोपों को बेबुनियाद बताते हुए कहा कि हमारे पास सभी दस्तावेज और प्रमाण हैं। उन्होंने कहा, 'मैं सभी आरोपों का जवाब देने के लिए तैयार हूं। आर्थिक मुद्दे को लेकर अगर शिकायत है तो हमारे पास ऑडिट रिपोर्ट भी मौजूद है। रकम का कोई गलत इस्तेमाल नहीं किया गया है। जीवन शाला (आदिवासी बच्चों के लिए मुफ्त में संचालित आवासीय विद्यालय) का संचालन आज भी जारी है और बैंक खातों के लेनदेन की ऑडिट रिपोर्ट हमारे पास मौजूद है। उन्होंने इस मामले के पीछे राजनीतिक षड्यंत्र और उन्हें बदनाम करने की साजिश की आशंका जताई है। उन्होंने यह भी बताया कि शिकायत करने वाला युवक एबीवीपी और आरएसएस से जुड़ा हुआ है।