भिंड में अवैध रेत परिवहन रोकने के दौरान फायरिंग, ट्रैक्टर मालिक की गोली लगने से मौत

भिंड में रेत माफिया और रेत खनन कंपनी के कर्मचारी में विवाद, कंपनी के कर्मचारी ने रेत माफिया पर की फायरिंग, एक की मौत, एक घायल, पावरमेक कंपनी के सात कर्मचारियों के खिलाफ केस दर्ज

Updated: Mar 05, 2021, 05:43 PM IST

भिंड में अवैध रेत परिवहन रोकने के दौरान फायरिंग, ट्रैक्टर मालिक की गोली लगने से मौत
Photo Courtesy: Bhaskar

भिंड। मेहगांव के अमायन थाना क्षेत्र में अवैध रेत परिवहन को लेकर दो पक्षों के विवाद हो गया। जिसमें गोली लगने से एक युवक की मौत हो गई। विवाद रेत माफिया और रेत खनन कंपनी के कर्मचारियों के बीच हुआ था। जिसके बाद पावरमेक कंपनी के कर्मचारी ने रेत परिवहन कर रहे दो युवकों पर फायरिंग कर दी। जिसमें एक युवक की मौत हो गई, दूसरा गंभीर रूप से घायल है। घायल की शिकायत पर अमायन थाना पुलिस ने पावरमेक प्रोजेक्ट लिमिटेड कंपनी के सात कर्मचारियों के खिलाफ केस दर्ज कर लिया है। फरार आरोपियों को पकड़ने की कोशिश की जा रही है।

दरअसल गुरुवार देर रात भिंड के अमायन इलाके की रेत खदान से बिना रॉयल्टी चुकाये रेत परिवहन किया जा रहा था। जब पॉवरमेक कंपनी के कर्मचारियों को पता चला, तो उन्होंने माफिया के ट्रैक्टर को जबरन रोकने की कोशिश की। इस दौरान रेत माफिया और पावर मेक कंपनी के कर्मचारियों का विवाद इतना बढ़ा की मामला फायरिंग तक पहुंच गया। कंपनी के कर्मचारियों ने दो युवकों पर गोली चला दी, जिसमें एक की मौत हो गई वहीं दूसरा गंभीर रूप से घायल है। घायल युवक को इलाज के लिए जिला अस्पताल में भर्ती किया गया है।

जिसके बाद पुलिस ने पावरमेक ठेका कंपनी के कर्मचारियों के खिलाफ नामजद शिकायत दर्ज कर ली है। पुलिस को मुख्य आरोपी विनोद मद्रासी और उसके साथी कर्मचारियों की तलाश है।

और पढ़ें: वन विभाग की टीम पर माफिया का एक और हमला, कांग्रेस ने शिवराज को बताया प्रजातंत्र का माफिया

गौरतलब है कि भिंड की सिंध नदी से रेत उत्खनन करने का ठेका हैदराबाद की पावर मेक प्रोजेक्ट्स लिमिटेड कंपनी के नाम है। जिसका संचालक कृष्णा प्रवीण नाम का शख्स है। इस कंपनी पर आरोप है कि यहां नियमों की अनदेखी करके नदी में पनडुब्बियों से खनन होता है। वहीं इलाके के रेत माफिया भी लगातार रेत खनन और परिवहन में सक्रिय हैं। जबकि नियमानुसार पनडुब्बी से रेत खनन पर बैन लगा है। साथ ही इस इलाके में माफिया भी सक्रिया है, जो लगातार चोरी से रेत का परिवहन करता है, जिसे रोकने के लिए पावरमेक कंपनी ने बंदूकधारी गुंडों को नौकरी पर रखा है।

और पढ़ें:: रेत खनन, नर्मदा नदी प्रदूषण के मुद्दे पर गरमाई सियासत  

गुरुवार रात भी पॉवरमेक के कर्मचारी विनोद मद्रासी और उसके साथिय़ों ने रेत ले जा रही ट्रॉली रोकने की कोशिश की। जिसके बाद दोनों पक्षों में कहा सुनी के बाद गोलियां चलने लगीं। जिसमें एक युवक की मौत हो गई। मृतक की पहचान 30 वर्षीय रॉकी गुर्जर के रूप में हुई है। वह उसी ट्रैक्टर का मालिक था। वहीं गोली लगने से समरथ सिंह तोमर गंभीर घायल है। उसे जिला अस्पताल में भर्ती किया गया। घटना की जानकारी लगते ही अमायन थाना पुलिस ने इलाके की घेराबंदी कर दी है। पुलिस ने विनोद मद्रासी, बलदेव राजपूत, प्रदीप गुर्जर और शैलेंद्र राजपूत समेत 7 लोगों के खिलाफ केस दर्ज कर लिया है। फिलहाल सभी आरोपी फरार हैं, पुलिस उनकी तलाश में जुटी है।