भाजपा में आ जाओ वरना बुलडोजर तैयार है, राघौगढ़ के मतदाताओं को मंत्री सिसोदिया की धमकी

20 जनवरी को राघौगढ़ में होने वाला है नगर पालिका चुनाव, यहां पिछले 52 वर्षों से चुनाव जीत रही है कांग्रेस, चुनाव प्रचार के लिए गए सिंधिया समर्थक मंत्री ने वोटर्स को धमकाया

Updated: Jan 19, 2023, 03:40 PM IST

भाजपा में आ जाओ वरना बुलडोजर तैयार है, राघौगढ़ के मतदाताओं को मंत्री सिसोदिया की धमकी

राघौगढ़। मध्‍य प्रदेश के 19 नगरीय निकायों में चुनाव प्रचार थम चुका है। शुक्रवार को इन निकायों में वोटिंग होगी। इधर मतदान से पूर्व पंचायत मंत्री महेंद्र सिंह सिसोदिया द्वारा मतदाताओं को धमकाने का मामला सामने आया है। बीजेपी मंत्री ने वोटर्स को खुली धमकी देते हुए कहा कि भाजपा में आ जाओ वरना बुलडोजर तैयार है।

मामला पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह के गृहनगर राघौगढ़ का है। बीते दिनों राज्य सरकार में पंचायत मंत्री महेंद्र सिंह सिसोदिया यहां बीजेपी उम्मीदवारों के समर्थन में प्रचार करने पहुंचे थे। इस उन्होंने एक जनसभा को संबोधित करते हुए कहा, 'देखो भैया... जो भी कांग्रेसी लोग हों वो धीरे-धीरे चुपचाप भाजपा में आ जाओ। अभी भी वक्त है। 2023 में भी भाजपा की सरकार ही बनेगी। फिर देखना मामा का बुलडोजर तैयार खड़ा है।' मीडिया ने सिसोदिया से जब राघौगढ़ में लगातार कांग्रेस की जीत पर सवाल किया गया तो उन्होंने कहा कि इसके बहुत सारे कारण हैं। मुख्य कारण यह है कि लोग राजा साहब (दिग्विजय सिंह) का एहसान मानते हैं। लेकिन इस बार राघौगढ़ किला हम फतेह करेंगे।'

सिसोदिया के बयान पर पटलवार करते हुए दिग्विजय सिंह के छोटे भाई और कांग्रेस विधायक लक्ष्मण सिंह ने कहा, 'भाजपा के लोग बोल रहे हैं कि किले को नीचे गिराना है। यह किला बड़े भाई (दिग्विजय सिंह), मेरा या हमारे बच्चों का नहीं है। यह किला राघोजी महाराज का है। यह किला कुल देवी का है। इसे नहीं गिरा सकते। हर बार की तरह इस बार भी भाजपा का सूपड़ा साफ होने वाला है।'

बता दें कि राघौगढ़ पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह का गढ़ रहा है और यहां से उनके बेटे जयवर्धन सिंह मौजूदा विधायक हैं। राघौगढ़ नगरपालिका पर पिछले 52 वर्षों से कांग्रेस का कब्जा है। दिग्विजय सिंह ने साल 1970 में राघौगढ़ नगर पालिका से ही अपने सियासी सफर की शुरुआत की थी। इसके पहले साल 2018 में जब यहां चुनाव हुए थे तब कांग्रेस के 20 पार्षद चुनाव जीतकर आए थे, वहीं बीजेपी 4 सीटों पर सिमटकर रह गई थी। जबकि भाजपा की ओर से स्वयं मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर और प्रभात झा जैसे दिग्गजों ने प्रचार किया था।

यह भी पढ़ें: जो विकास यात्रा हमने 1970 में शुरू की थी उसे कायम रखें, राघौगढ़ के मतदाताओं से दिग्विजय सिंह की भावनात्मक अपील

बहरहाल, मंत्री सिसोदिया का बयान आने के बाद कांग्रेस ने चुनाव आयोग से कार्रवाई करने की मांग की है। कांग्रेस प्रवक्ता आनंद जाट ने कहा, 'राज्य निर्वाचन आयोग कहां है? क्या इन मंत्रियों के खिलाफ कार्रवाई नहीं होनी चाहिए? नगरीय निकाय चुनाव को प्रभावित करने के लिए राज्य सरकार के मंत्री सभी तरह की तरकीब अपना रहे हैं। वह धन बल और दबाव डालने के हथकंडे का इस्तेमाल कर रहे हैं। इससे पहले मंत्री मोहन यादव धार में रुपए बांटते दिखे थे। अब मंत्री सिसोदिया राघौगढ़ के लोगों को धमका रहे हैं। लेकिन मंत्रीजी को पता होना चाहिए की यह दिग्विजय सिंह का अभेद किला है। सीएम शिवराज को भी यहां मुंह की खानी पड़ी थी।'